अपने यार से मैंने गांड मरवा ली

नमस्कार दोस्तो, कैसे हो आप सब… माफ़ करना बहुत टाइम बाद वापस आई हूँ. तो प्लीज़ मुझे बताना कि आप सबका काम मेरे बिना कैसे चला… सब मज़े ले रहे हो ना? मैं भी बहुत टाइम से बाहर कनाडा गई हुई थी तो आपको रिप्लाई नहीं कर पाई. और हाँ, एक बात और… मेरी शादी हो गई है… अब चुदने का लाइसेंस भी मिल गया है. अब मुझे फुल चुदाई करवाने में कोई प्राब्लम नहीं होती. आजकल रोज ही चुद रही है आप की हिमानी… इसलिए और थोड़ी भर भी गई हूँ.

कनाडा में वैसे भी बहुत ठंड रहती है, तो डेली सेक्स होना नॉर्मल बात है… इससे मेरा साइज़ तो बढ़ना ही था ना.

चलो अब सीधे सेक्स स्टोरी पर आती हूँ

अपनी पिछली नोन वेज स्टोरी चुत चुदाने की चुनचुनाहट में आपको बता रही थी कि किस तरह मसूरी जाते हुए रास्ते में अनु ने मेरी चुदाई खुले आसमान के नीचे की थी. चुदाई के बाद वहां पर हमने थोड़ा रेस्ट किया, फिर हम मसूरी पहुँच गए. हमने वहां जाकर सब से पहले होटल में रूम लिया. बहुत ही प्यारा रूम था… सब कुछ पिंक था.

मैंने अनु को कहा- आई लव दिस रूम. वो बोला- ये हनीमून वाला रूम है.

वो मुझे देख कर हंसने लगा. मैं सीधे वॉशरूम में घुस गई और फ्रेश होने के लिए डोर लॉक करने लगी. अनु बोला- हिमानी, दरवाजा लॉक नहीं करो ना, ओपन करके ही बाथ ले लो.

मैंने मना किया तो उसने मुझे कस कर पीछे से पकड़ लिया और मेरे मम्मों को प्रेस करने लगा. वो बोला- हिमानी एंजाय दिस मोमेंट यार… पता नहीं फिर कभी टाइम मिले ना मिले… वो ये कह कर मेरी गर्दन को किस करने लगा. मैं शर्मा रही थी और वो कमीना हंस रहा था.

मैंने उसको बोला- यार मैं नंगी होकर कैसे नहा सकती हूँ. जबकि तुम तो कपड़ों में ही हो ना.

इतना सुनते ही अनु ने अपनी पेंट उतार दी और उसके साथ में ही उसका अंडरवियर भी निकल गया.

वो लंड हिलाता हुआ बोला- ले यार कैसी बात कर रही है… ले तेरे लिए मैं भी हो गया नंगा.

उसके बाद उसने मेरी स्कर्ट भी निकाल दी और मुझे भी पूरी नंगी कर दिया. मैं वैसे ही मेरी नंगी जवानी दिखाती हुई, गांड हिलाती हुई बाथ लेने चली गई. अनु अपना लंड हाथ में लेकर दरवाजे के पास खड़ा हुआ हिला रहा था.

फिर हम दोनों नहाने लगे मस्ती होती रही. मैं नहा कर आई कपड़े पहने, वो भी नहा कर आ गया. फिर हम दोनों ने चाय पी और घूमने निकल गए.

वहां और लोग भी थे जो नई शादी वाले थे.

सब एंजाय कर रहे थे. तो मैंने भी अनु को ऐसे ही पकड़ लिया जैसे हम अभी शादी करके आए हों.

हम दोनों ने वहां पूरा एंजाय किया. बाहर ही ख़ाना खाया. मसूरी की नाइट भी एंजाय की. मैं और अनु दोनों पैदल ही मस्ती करते हुए वापस होटल आ रहे थे. अनु ने मुझे कस कर पकड़ा हुआ था और अनु मेरे मम्मों को कपड़ों के ऊपर से मसल रहा था.

मैंने उसको बोला भी कि यार ये सब खुले में मत कर… लेकिन वो मान ही नहीं रहा था.

मेरे बहुत बोलने के बाद वो माना, लेकिन अब उसका हाथ मेरी बैक यानि की मेरी गांड पर आ गया. मैं उसको मना करती और वो कमीना हंसता रहता. तभी मुझे अपनी फ्रेंड की बात याद आई कि अनु मेरी गांड जरूर मारेगा.

मैंने उसको साफ मना कर दिया और वो बहुत तेज़ हंसा और बोला- अभी तक तो मैं इस बारे में कुछ नहीं सोच रहा था पर तुमने बोला है तो आज तो इसकी ओपनिंग ज़रूर करूँगा. यह कह कर उसने मेरी बैक को और जोर से दबा दिया. मैं सोचने लगी कि ये मैंने क्या कर दिया. यही सोचते सोचते हम दोनों होटल में आ गए.

हम दोनों कमरे में पहुंचे, मैं जैसे ही अन्दर आई, अनु ने डोर लॉक कर दिया और लाइट ऑन की. मैं अन्दर का लुक देख कर सब कुछ भूल गई, अन्दर भी पिंक कलर की ही थीम थी. रूम में बहुत प्यारी खुशबू आ रही थी.

मैंने पीछे देखा, अनु अपने लंड को हाथ में लेकर हिला रहा था. वो सीधे मेरे पास आया और बोला- हिमानी आई लव यू यार… मैं सच में तुमको बहुत प्यार करता हूँ और तू ही मेरी वाइफ बनेगी. वो मेरे होंठों को किस करने लगा. मैंने उसको बोला- मुझे पता है… अनु तेरा मेरा रिश्ता ओनली सेक्स वाला है… सो झूठ मत बोल… तू मुझे यहाँ सिर्फ चुदाई के लिए लाया है… सो जो करने आया है वो ही कर…

इतना सुनते ही वो मेरे से पीछे हट गया और फिल्मी अंदाज में अपने पैरों पर बैठ कर उसने मुझे रिंग देते हुए कहा- हिमानी. यकीन हो तो ठीक है… वरना कल हम वापस चले जाएंगे… पता नहीं तेरा फिगर देख कर मुझे क्या हो गया था कि मैं अपने आपको कंट्रोल नहीं कर पाया और ये सब कर दिया. जब तेरे से फर्स्ट टाइम सेक्स किया था तब मुझे सिर्फ तेरी चुत ही चाहिए थी, लेकिन जब तेरे बारे में तेरी फ्रेंड से पता लगा कि तूने ये सब फर्स्ट टाइम मेरे साथ किया है और हमेशा मेरे साथ ही करना चाहती है… तो मैं भी बदल गया. मेरी मॉम और डैड ने मुझे अपनी वाइफ चुनने के लिए पूरी आज़ादी दी है.
इसलिए मैं चाहता हूँ कि तुम मेरे से ही शादी करो… लेकिन आफ्टर जॉब… और मेरा अपना काम जॉब ही पहले हो जाए.

मैंने सोचा नहीं था कि मेरे साथ ऐसा कुछ होगा. मैंने उससे सॉरी बोला और उसको किस किया. अब मैं भी उस पर पूरा भरोसा कर रही थी और सोच रही थी कि यार जो बंदा मुझे इतना मानता है, उसके लिए मैं कुछ भी कर सकती हूँ. मैंने उसको बेड पर बिठाया और उसको दोबारा सॉरी बोला. साथ ही अपने आप ही अपने कपड़े उतार दिए और फुल न्यूड हो गई.

अनु मुझे देख कर बोला- यार तेरा भी कुछ नहीं पता… कब क्या कर दे तू… मैंने उससे बोला- मैं ऐसी ही हूँ.

इसके बाद मैंने अनु के कपड़े उतार दिए और वॉशरूम में जाने लगी. अनु मेरी हिलती गांड को देख रहा था. मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए लेकिन अपने सेंडिल नहीं निकाले इससे मेरी गांड और ऊपर उठ गई थी.

मैं वॉशरूम से वापस आई तो मेरे हाथ में एक तौलिया और पानी वाला मॅग था.

वो बोला- क्या करने आ रही है? मैं बोली- चुप कर और एंजाय कर… आज से मैं आपकी वाइफ ही हूँ… शादी भी हो जाएगी लेकिन अब मुझे वो करने दो, जो मैं करना चाहती हूँ. इसके बाद मैंने अनु के लंड को अच्छी तरह से साफ किया. उसके लंड पर भी बाल थे… और मेरी चुत पर भी. मैंने उससे बोला- अनु, अपनी किट में से रेज़र निकाल कर दो… मुझे लंड पर बाल पसंद नहीं हैं. अनु बोला- यार, रेजर तो मैं लाया ही नहीं हूँ… वो मुझे देखने लगा. मैंने कहा- कोई बात नहीं कल साफ़ कर लेंगे.

मैंने तौलिए से अनु का लंड अच्छी तरह से साफ किया और मैंने भी उसी के सामने खड़े होकर अपनी चुत को अच्छी तरह से पौंछ कर साफ किया. अनु का लंड आज पहले से बड़ा और क्यूट लग रहा था. आज से पहले कभी मैंने उसका लंड ऐसे नहीं देखा था, जैसे अब देख रही थी.

मैंने उसको उंगली पकड़ कर उठाया और सोफे पर बिठा कर उसको आराम से किस किया. अब धीरे धीरे मैं नीचे आ गई और लंड को हाथ से हिलाने लगी.

वो मेरे बालों में हाथ घुमा रहा था और मैं उसका लंड हिला रही थी. मैंने देखा कि अनु ने अपनी आँखें बंद कर ली हैं, तो मैंने धीरे से उसके लंड पर किस की. अनु एकदम से चौंक गया और तभी मैंने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया. अब तो जैसे अनु को पता नहीं क्या मिल गया हो… वो ‘आई लव यू… आई लव यू…’ बोलने लगा.

मुझे लंड का टेस्ट बड़ा अजीब सा लगा लेकिन उसके लिए मैं ये सब करने को रेडी थी.
उसका लंड और बड़ा होता जा रहा था. मैं रुक गई और अनु ने मुझे वहीं नीचे लिटा कर मेरी चुत को ऐसा चूसा कि मैं तो एक बार निकल गई. अब हम दोनों से इन्तजार नहीं हो रहा था. मैंने कहा- अनु डाल दे यार अब नहीं रुका जाता हूँ. वो बोला- कन्डोम कहाँ है? मैंने कहा- ऐसे ही डाल दे यार. वो बोला- हिमानी, मैं ऐसा कुछ नहीं करूँगा जो तुझे प्राब्लम में डाल दे. उसने मेरे पर्स में से कन्डोम निकाला और लंड पर चढ़ा लिया.

मैं नीचे ही लेट गई… टांगें ऊपर कर लीं. अनु आया और मुझे उठा कर सोफे के पीछे खड़ा किया और मेरे पीछे आ गया. मैंने सोचा कि अब ये मेरी गांड मारेगा.

मैंने कुछ ज्यादा ही बोल दिया, लेकिन उसने मुझे नीचे झुकाया और मेरी चुत में बड़े प्यार और आराम से लंड टिकाया. चुत पर लंड के सुपारे का अहसास होते ही मैं थोड़ी सी रिलेक्स हुई कि चलो गांड तो नहीं मारेगा.

अब उसने मेरे मम्मों को पकड़ लिया और मेरी चुत पर धीरे धीरे लंड को पेलने लगा. उसका मोटा लंड मेरी चुत में सरसराता हुआ सा घुसता जा रहा था. आज मुझे पहले जैसा दर्द भी नहीं हो रहा था. शायद मॉर्निंग वाली चुदाई का असर था कि लंड आराम से चुत में जा रहा था. अनु भी आराम से मेरी चुत को चोद रहा था. बहुत मजा आ रहा था. अनु बोला- हिमानी… मजा आ रहा है ना. मैंने कहा- करते रहो यार… बात ना करो. वो पूरा लंड चुत से बाहर निकालता और फिर डालता… आह बहुत मजा आ रहा था.

थोड़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरी चुत से निकाल लिया और मुझसे बोला- हिमानी अपने दोनों पैर मेरी कमर के दोनों और लपेट लो. मैं उसकी कमर पर हाथ लगा कर उसकी गोद में आ गई. अब अनु ने मेरी चुत में लंड डाला और झटके मारने लगा. क्या बताऊं यार उस टाइम क्या मस्त मजा आ रहा था. मेरा और उसका चेहरा आमने सामने था… और नीचे से मेरी चुत में उसके तने हुए लंड के झटके लग रहे थे.

करीब 10-15 झटकों के बाद उसका लंड अपना लावा निकाल बैठा और हम ऐसे ही एक दूसरे को पकड़े पकड़े निढाल हो गए. कुछ देर बाद उसका लंड मेरी फुद्दी से बाहर आ गया. मैंने उसको किस किया उसके बाद वो मेरे से अलग हो गया. मैं आँखें मूंदे पड़ी थी

वो अपने बैग में से 2 बियर के कॅन निकाल लाया और मुझे हिला कर बोला- हिमानी ले… थोड़ा पी ले… थकान उतार जाएगी. मैंने उससे बोला- अनु… यार तुझे मालूम है मैं नहीं पीती हूँ. बोला- ट्राइ कर… मजा आएगा.

मैंने उसकी बात मानते हुए एक कैन लेकर पी… अजीब सा टेस्ट था लेकिन आफ्टर वाइल्ड सेक्स… मुझे मजा आने लगा.
मैं फिर से उसकी गोद में बैठ गई थी. हम दोनों बियर पी रहे थे. उसने अपना कॅन फिनिश कर दिया, तो मैंने उसको अपना कॅन दिया. लेकिन उसने नहीं पिया. वो बोला- तुम लो, मेरे लिए तो दूध के 2 कॅन हैं, मैं तो दूध पिऊंगा.

मैंने अपने हाथ खोल दिए और वो मेरे मम्मों को किसी छोटे बच्चे की तरह से चुसकने लगा. कभी ये वाला पीता, कभी दूसरा… मुझे नशा सा चढ़ रहा था… और उसकी इस हरकत पर मजा भी आ रहा था.

अब उसका लंड फिर से खड़ा हो गया था. जो कि मुझे अपने नीचे महसूस हो रहा था. क्योंकि वो मेरी गांड पर निशाना लगा रहा था. मैंने अनु से बोला- अनु एक बार और कर. वो बोला- यार जो तू बोले… उसने मुझे गोद से उतार दिया और बोला- कैसे करवाना है… ये बता? मैंने उसके कान के पास जाकर बोला- गांड में डाल दो. वो चौंक गया… बोला- हिमानी क्या बोल रही है? मैंने कहा- जो तूने सुना… मैं तेरे लिए ये भी कर सकती हूँ… मुझे पता है तुमको गांड मारने का बहुत शौक है… सो यार तेरे लिए मेरी गांड हाजिर है… लेकिन आराम से मारना. ये कह कर मैं बेड पर औंधी लेट गई.

अब वो मेरे पीछे था और बोला- जानू कोई क्रीम है तेरे पास? मैंने कहा- है… मेरे बैग में से निकाल ले.

वो वैसलीन लेकर आया, मुझे लिटा कर मेरी टांगें ऊपर करके उसने मेरी गांड पर किस की और वैसलीन से फुल उंगली मेरी गांड में कर दी. मैं कूद पड़ी… मैं सोच रही थी कि यार उंगली तो छोटी सी है तो ये हाल हुआ… इसका लंड तो बहुत मोटा है… मैं तो मर ही जाऊंगी.

वो आराम से मेरी गांड में उंगली अन्दर बाहर करने लगा. पहले एक उंगली, फिर 2 उंगलियां… फिर 3 उंगलियां करते करते उसको कुछ मिनट लग गए. मैं दो बार चुत से पानी छोड़ चुकी थी. अब उसने मेरी गांड से उंगली निकाली और मुझे घोड़ी बना दिया.

उसने अपने लंड पर भी बहुत सारी वैसलीन लगा ली और लंड मेरी गांड के होल पर ले कर आया. मेरी डर से टांगें हिल रही थीं. अनु समझ गया और बोला- हिमानी तेरे को डर लग रहा है तो मैं नहीं करता यार. मैं उससे बोली- अनु आई लव यू… तू कर लेकिन आराम से करना.

तब उसने मेरी गांड में लंड डालना स्टार्ट किया. मुझे ऐसा लगा कि जैसे कोई मुझे बीच में से फाड़ रहा है, लेकिन मैं कुछ नहीं बोली और वो धीरे से मेरी गांड में लंड डालता रहा… रुकता, फिर डालता और बीच मैं मेरे मम्मों को भी मसलता.

मैं दबे स्वर में रो रही थी, लेकिन अनु के लिए मैंने सोच लिया था कि गांड मरवा कर ही रहूँगी. मैं रोई नहीं, वो लंड डालता रहा. फिर वो रुका और बोला- हिमानी अभी आधा गया है… सहन कर लेगी तो पूरा डाल देता हूँ… नहीं तो रहने देता हूँ. मैंने सोचा यार गांड फट तो गई ही है… सो क्या आधा और क्या पूरा… पूरी गांड ही फट जाने दूँ. मैंने बोला- अनु डाल दे पूरा.

अब अनु प्यार से डालने लगा था और धीरे धीरे उसने पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया. फिर धीरे से झटके मारने लगा. कुछ देर दर्द हुआ पर फिर मुझे मजा आने लगा.

मुश्किल से 14-15 बार में ही उसका लंड मेरे अन्दर ही निकल गया. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने मेरी गांड के अन्दर गरम पानी डाल दिया हो. मुझे गांड की सिकाई सी होती हुई लगी, बड़ा आराम सा लगा.

उसने आराम से मुझे लिटाया और किस किया. फिर हम ऐसे ही सो गए.

मॉर्निंग में मैं जब उठी तो गांड का शेप ही बदल गया था… वो और मैं न्यूड ही सो रहे थे.

आगे की नोन वेज स्टोरी जल्दी ही पोस्ट करती हूँ. आप सभी ने एंजाय किया… आगे लिखूंगी कि हम दोनों ने वहां और क्या क्या किया. सबको बाय… अपने अपने लंड और चुत को प्यार देना… लव यू. हिमानी शर्मा [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!