मेरा पहला अफसाना

मेरा नाम विशाल है और मेरे साथ हुई पहली घटना आपके सामने रख रहा हूँ।

बात तक की है जब मैं 18 साल का था, मेरे पड़ोस में नए लोग रहने आये थे, निर्मला आंटी, अंकल, उनका लड़का किशोर और लड़की शमा।

अंकल आर्मी में थे तो उनका व्यक्तित्व जबरदस्त था, आंटी भी खूबसूरत थी और थोड़ी हेल्थी भी ! उनका लड़का किशोर मेरी ही उम्र का था, उनकी लड़की शमा हमसे 2-3 साल बड़ी थी और दिखने में एकदम परफेक्ट फ़ीगर की जैसे 36-24-36 ! शमा को देखते ही ऐसा लगता था जैसे बड़ी फुर्सत में बनी थी वह !

किशोर मेरे हमउम्र होने के वजह से जल्दी ही हम दोनों में दोस्ती हो गई और धीरे धीरे मैं उस परिवार का एक हिस्सा ही बन गया था। मैं कभी भी किसी भी समय उनके यहाँ चला जाऊ तो उन्हें परेशानी नहीं होती थी। मैं और किशोर एक ही कॉलेज थे लेकिन हमारे विषय अलग अलग थे, मैंने विज्ञान में कंप्यूटर विषय लिया था तो किशोर ने आर्ट्स में !

मैं पढ़ाई करने के लिए उनके यहाँ जाया करता था ताकि साथ में हमारी पढ़ाई हो जाए और मस्ती भी।

किशोर को पढ़ाई से ज्यादा खेलों में रूचि थी तो वह कॉलेज में फ़ुटबाल खेला करता था लेकिन मैं जल्दी घर आया करता था और खाना खाकर उसके यहाँ जाया करता था, चाहे वह कॉलेज से आये या न आये !

एक दिन मैं ऐसे ही पढ़ाई के लिए उनके यहाँ गया तो आंटी नहाने के लिए गई थी, मैं पढ़ाई करने बैठ गया।

लेकिन मुझे दूसरे कमरे से कुछ आवाज़ आई, मुझे लगा कि बिल्ली होगी, मैंने झांक कर देखा तो आंटी अपने आपको आईने में निहार रही थी और उनके शरीर पर एक भी कपड़ा नहीं था।

पहले तो मैंने आँखें बंद कर ली और वापिस अपनी जगह पर बैठ गया लेकिन आंटी इतनी गोरी और मदमस्त शरीर वाली थी कि मुझसे रहा नहीं गया और मैं चुपके से आंटी को निहारने लगा था। आंटी अलग अलग पोज में खड़ी रहकर अपने आप को देख रही थी, कभी अपने चूचियों को सहला रही थी तो कभी अपने चूतड़ों को दबा रही थी। आंटी का फिगर एकदम जवान लड़कियों वाला था, उसके बड़े बड़े दो गुबंद, गोरा पेट, उसके नीचे काला जंगल, लेकिन नीचे इतने बाल थे कि नीचे का कुछ साफ नहीं दिख रहा था।

आंटी के नंगे बदन को मैं बहुत देर तक निहारता रहा। तभी आंटी को लगा कि उन्हें कोई देख रहा है तो उन्होंने पेटीकोट उठाया, वैसे ही मैं वापिस आकर अपने जगह पर बैठ गया।

आंटी मेरे पास आई और बोली- अच्छा तू है ! मुझे लगा कि कोई और आया है।

और वापिस आंटी अपने कमरे में चली गई।

मैं तो डर गया था कि कहीं आंटी को मेरे बारे में पता न लगा हो इसलिए लेकिन आंटी की बात से मुझे थोड़ा सुकून मिला। मैंने आंटी को कहा- आज किशोर का मैच है, इसलिए वह 5 बजे के बाद ही घर आएगा।

आंटी दूसरे कमरे से सुन रही थी तो उन्होंने जवाब में कहा- आज शमा भी पिकनिक पर गई है और तुम्हारे अंकल भी तीन महीने के लिए बाहर गए हैं।

इसलिए मैं सोच भी रहा था कि आंटी आज इतनी देर से क्यों नहा रही थी?

आंटी ने खाना खाया और आकर पलंग पर लेट गई, टीवी चालू किया और प्रोग्राम देखने लगी। टीवी पर मूवी चल रही थी तो उसमें एक गर्मागर्म नजारा चल रहा था, आंटी देख रही थी लेकिन मुझे शर्म आ रही थी।

लेकिन तभी आंटी की नजर मुझ पर पड़ी और बोली- शरमा मत ! आजकल यह तो नोर्मल हो गया है।

जिस तरह टीवी पर वो सीन चालू था, आंटी गरम हो गई थी और धीरे धीरे अपने चूचियों को मसल रही थी। मैं भी थोड़ा सा गर्म हो गया था और मेरा लंड पैंट के अन्दर से ही डोल रहा था, मैं उसको बिठाने की नाकाम कोशिश कर रहा था।

तभी आंटी की नजर मुझ पर पड़ी, आंटी ने कहा- जरा मेरी पीठ दबा दोगे क्या?

मैंने हामी भर दी और मैं आंटी की पीठ दबाने लगा। मैंने पहली बार किसी औरत को इतनी करीब से देखा था और हाथ लगाया था। आंटी बहुत गरम हो चुकी थी। आंटी ने धीरे से मेरे हाथ को पकड़ कर थोड़ा ऊपर सरकाया और अपना ब्लाऊज खोल दिया।

अब मेरा लंड और भी ज्यादा खड़ा हो गया था और आंटी के कूल्हों को छू रहा था। जब 4-5 बार ऐसा हुआ तो आंटी ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझसे अपनी खुली चूचियाँ रगड़वाई। मैं भी बड़े जोर से उनकी चूचियाँ रगड़ रहा था। अब मैं भी आंटी को यहाँ वहाँ चूमने लगा था, आंटी के बड़े बड़े चूचों को दबाना और चूसना चालू कर दिया।

अब आंटी भी आह… आह… आह… उफ़… औ… औ… चूस न ! मेरा पूरा दूध पीले… मुझे मसल डाल… अह आह आह करने लगी।

मैंने धीरे से आंटी के पेटीकोट में हाथ डाला लेकिन आंटी ने हाथ पकड़ लिया। मैंने उसके बूब्स को और जोर से दबाना मसलना चालू किया और फ़िर उनके पेटीकोट के ऊपर से चूत को मसलना चालू किया।

फ़िर कुछ देर बाद उनकी पैंटी में हाथ घुसा दिया। आंटी का जंगल बहुत घना था तो मैंने भी उसमें घुसना चाहा पर जंगल में मुझे आंटी की चूत नहीं मिल रही थी। फिर भी मैंने कोशिश करके हाथ और नीचे डाला और मुझे कुछ गीला लगा, मैं समझ गया कि यही तो वो जगह है जहाँ चुदवाई होती है।

मैं खुश हो गया और आंटी की चूत के अन्दर उंगली डालने लगा।

आँटी की आवाजें शुरु हो गई- आह… आह… आ… उफ़… उफ़ मैं मर गई… ईइ… आह… आ अब बस भी करो… अब नहीं सहा जाता… अब तो डाल तो अपना लंड… मेरे आह आआ फाड़ डाल… तेरे अंकल बाहर जाते है तो मूली गाजर से प्यास बुझाती हूँ ! ऊऊ ऊऊ आह अब तू मेरी चूत को फाड़ !

मैंने भी अपना लंड पैंट के बाहर निकाला और आंटी की पेंटी को नीचे खींचकर सीधा उनकी चूत में डालना चाहा लेकिन मुझे इसका कोई भी अनुभव नहीं था, तो वह बाहर ही रह जाता था।आंटी ने कहा- पहली बार है?

तो मैंने हाँ में सर हिलाया और आंटी ने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपने चूत में डाल लिया।

लेकिन मुझे तकलीफ हो रही थी, यह देखकर आंटी ने अपने चूत से जो पानी बह रहा था वो मेरे लंड पर लगा दिया और तब झट से मेरा लंड अन्दर चला गया। मैं आंटी को जोर जोर से झटके मारने लगा।

वाह मेरे शेर ! इइ इ इ आह्ह्ह… आआ…ह्ह्ह और जोर से.

. इइ आह… तेरे अंकल जैसा कर… आआह आ आआह !

आंटी खुद मेरे चूतड़ों को पकड़ कर झटके लगा रही थी। मैंने जोर लगा कर 4-5 झटके मारे और बस मेरा सारा पानी निकल गया।

मैं निढाल हो गया, आंटी समझ गई कि यह पहली बार कर रहा है।

और मैं आंटी की बगल में सो गया। जब नींद खुली तो मेरा लंड बहुत दर्द हो रहा था, आंटी टीवी देख रही थी। अब मुझे अपने आप पर शर्म आ रही थी, मैं सर निचे झुका कर जाने लगा तो आंटी बोली- अरे, इसमें कैसी शर्म ! जब तुमने मुझे पूरा नंगा देखा, तभी मैं समझ गई थी कि तुम भी मेरे साथ कुछ करना चाहते हो !मैं एकदम से सन्न रह गया लेकिन आंटी बोली- पहली बार है इसलिए दर्द हो रहा है, लेकिन जब 2-3 बार करोगे तो दर्द कम हो जायेगा।

मैंने आंटी की तरफ देखा तो आंटी मुस्कुरा रही थी, मैं भी मुस्कुरा दिया और बाहर चला गया।

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!