बीच समुन्दर में प्यार

हाय डार्लिंग

तुमने प्राइवेट याच में सफर किया है? मैंने एक याच में सफर के साथ-साथ कुछ और भी किया जो मेरे बेस्ट एक्सपेरिएन्सेस से जुड़ गया। तो गौर से सुनो क्या हुआ। गोवा में न्यू ईयर सेलिब्रेशन के बाद मेरे जाने का समय आया, तो जैकी ने कहा कि वह मुझे लेने आ रहा है।

मैंने यह बात चार्ली को नहीं बताई, मैं नहीं चाहती थी कि उसका और जैकी का सामना हो।

शाम को जैकी ने मुझे होटल के बाहर पिक किया और ड्राइवर गाड़ी चलाने लगा। जैकी ने मुझे हग करके कहा की उसने मुझे बहुत मिस किया और मैंने भी ऐसे ही कुछ रिप्लाई दिया।

हम गोवा के एक पोर्ट पहुंचे और जैकी ने मुझे सरप्राइज करते हुए कहा कि हम उसकी प्राइवेट याच में मुंबई जाएंगे।

मैं इस बात से बहुत एक्साइटेड हो गई और उसका हाथ थामे उस याच में गई।

कुछ घंटों बाद हम बीच समंदर में थे और चारो और सिर्फ पानी था। मैं बाहर का नज़ारा देख रही थी जब जैकी ने पीछे से मुझे हग किया।

रात का वक़्त था और आसमान में तारे नहीं दिख रहे थे, शायद काफी बादल आ गए थे, लहरें काफी तेज़ थी और मैं उन्हें देखते रह गई लेकिन जैकी का ध्यान सिर्फ मुझ पर था।

उसके हाथ मेरे बदन को सहला रहे थे और उसके होंठ मेरे नैक और शोल्डर को चूम रहे थे, उसके गीले होंठों का असर मेरे गरम शरीर पर होने लगा और मैं एक्साइट होने लगी।

मैंने अपनी आँखें बंद की और अब मुझे सिर्फ दो आवाज़ें सुनाई दे रही थी, एक थी लहरों की आवाज़ और दूसरी थी वो गीली सी आवाज़ जो किस करते वक़्त आती है।

जैकी के होंठ अब मेरे बैक को चूमने लगे।

उसने धीरे से मेरे ड्रेस के शोल्डर स्ट्रैप्स को स्लिप करके निकाला और अब मेरे ऊपरी बदन को सिर्फ मेरी ब्रा ढक रही थी। अब मेरा ज़्यादा स्किन एक्सपोज्ड था और ठंडी हवाओं के छूने और जैकी के गीले होंठों के चूमने से मेरे अंदर एक उत्सुकता जागी… प्यार की उत्सुकता।

मैं पलटी और जैकी को फेस किया। उसके चेहरे पर एक भूख थी। मैंने अपने हाथ उसके शोल्डर पर रखे और हम दोनों के होंठ करीब आये। हमारे होंठों के मिलन के पहले मैंने अपनी आँखें बंद कर दी और फिर उसके होंठों के मेरे होंठों पर आने की फीलिंग मुझे सातवें आसमान पर ले गई।

फिर अचानक याच हिल गया। एक ताकतवर लहर याच से टकराने के कारण ऐसा हुआ और उसने हमारे रोमांटिक किस को तोड़ दिया। फिर हवाएँ तेज़ हो गई और हल्की सी बारिश होने लगी।

जैकी ने कहा कि केबिन में चलते हैं।

हम केबिन में गए और मैं बेड पर लेट गई। जैकी ने कपड़े उतारे और दरवाज़ा बंद करके और बत्तियाँ बुझा के वह भी बेड पर आ गया।

तूफ़ान से उठती लहरें में पोर्ट-होल से देख पा रही थी और कुछ देर के लिए मेरा ध्यान वहीं था। फिर जैकी मुझसे प्यार करने लगा और मैंने भी उसका साथ दिया।

उसने धीरे से मेरी ब्रा उतारी और मेरे एक्सपोज्ड बदन को चूम कर और सहला कर मुझे आनन्द दिया।

फिर मैंने अपने पूरे कपड़े निकाल दिए और हम दोनों ने एक दूसरे से बहुत प्यार किया।

हमारे प्यार के सिलसिले में लहरों ने भी हमारी मदद की। अनएक्सपेक्टेड्ली किसी लहर का याच से टकराना हमारे लव-मेकिंग में एक मज़ा पैदा कर रहा था और बीच समंदर जैसे वह याच हमें मुंबई की और ले गया हमने हमारे प्यार का सिलसिला जारी रखा।

मैंने जैकी को सैटिस्फाई करने के लिए वह सब किया जो कोई औरत कर सकती थी और मैंने बिना उसे रोके उसे मेरे जिस्म के साथ वह सब करने दिया जो कोई भी मर्द एक औरत के साथ करने की कल्पना करता हो। और इस कारण हमने एक दूसरे को इतना प्यार किया कि जैसे हम दोनों एक दूसरे के लिए बने थे।

कुछ देर बाद हम बेड पर वैसे ही बिन कपड़ों के एक दूसरे को फेस करके लेटे हुए थे।

जैकी का एक हाथ मेरे चीक को सहला रहा था और उसने मुझे बताया कि उसने मुझे कितना मिस किया।

उसका थंब उसने मेरे होंठ पर रखते हुए कहा कि वह मेरे होंठों को चूमने के लिए, मेरे सॉफ्ट बदन को सहलाने के लिए, और मुझसे बेशुमार प्यार करने के लिए कितनी भी कीमत चुका सकता है। मैंने स्माइल किया और शायद मेरे स्माइल से वह प्रभावित हुआ और उसने मुझसे फिर से प्यार करना शुरू किया।

समंदर में पूरे सफर में उसने मुझे एक पल के लिए भी अकेला नहीं छोड़ा और वो सफर मुझे हमेशा याद रहेगा।

तो जानू मेरे अगले कॉन्फेशन का इंतज़ार करना। बाय… मुआअह…

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!