लॉकडाउन में भाई की ससुराल में चुदाई धमाल

सेक्सी चुत हॉट चुदाई कहानी में पढ़ें कि भाभी को लिवाने गया देवर लॉकडाउन में भाभी के मायके में फंस गया. वहां भाई की सलहज भी थी. तो समय कैसे कटा?

लॉकडाउन में किसी किसी को तो बहुत दिक्कत हुई, किसी की लाटरी खुल गयी. अब उनसे पूछो जिनकी बीवी लॉकडाउन से पहले मायके गयी और वहीं फंस गयी. और उनकी मौज हो गयी जो अपनी सेटिंग के पास एक दिन को गए और वहीं फंस गए.

बॉबी का वो गाना कितना सटीक बैठता है हम तुम एक कमरे में बंद हों और बाहर लॉक डाउन हो जाए

मेरी पिछली कहानी थी: लॉकडाउन में चरमसुख की प्राप्ति

तो आइये सेक्सी चुत हॉट चुदाई कहानी शुरू करते हैं. किस्सा है अजय का.

अजय 24 वर्ष का बांका जवान है. आई आई टी इंजीनीयर है और फिलहाल एक एमएनसी में दिल्ली में कार्यरत है.

उसके भाई विजय की अभी चार महीने पहले ही शादी हुई थी. नयी नवेली दुल्हन प्रिया अपनी पहली होली पर मायके आगरा आई हुई थी. अब उसको वापिस दिल्ली आना था. विजय लेने नहीं जा पा रहा था.

तो फिर अजय का जिम्मा लगा कि वो अगले शुक्रवार की शाम को ऑफिस से ही आगरा चला जाए और अपनी भाभी को लेकर इतवार की रात तक आ जाए.

चूंकि अजय पहली बार भाई की ससुराल जा रहा था तो उसने एक बेग में दो रात के हिसाब से कुछ ज्यादा ही कपड़े रख लिए. उसकी और प्रिया की बहुत पटती थी और खुली हुई थी.

प्रिया की ससुराल और पति दोनों ही रुढ़िवादी थे. पर अजय हॉस्टल में पढ़ा होने से जवानी के जोश से भरपूर था. उसने कसरती बदन बना रखा था. वो और प्रिया कई बार बियर या व्हिस्की मार लेते.

विजय टूर पर रहता तो बाजार के बहाने से अजय और प्रिया मोटरसाइकिल पास मस्ती करते, बाहर खाते पीते.

अब आगरा आने के लिए प्रिया और उसने यह तय कर लिया था कि शनिवार की रात को मूवी देखेंगे और इतवार को ताज. उनका ये प्रोग्राम एक हफ्ते पहले ही बन गया था.

प्रिया के मायके में उसके मम्मी पापा कालोनी में एक कोठी में रहते थे और उसके बड़े भाई भाभी पास में ही सरकारी कोठी में रहते थे.

प्रिया की अपनी भाभी मनीषा से बहुत खुली दोस्ती थी. दोनों एक ही उम्र की थीं. जब से प्रिया आगरा आई थी, उसके बड़े भाई मनीष होली के पांच-छह दिन बाद ही कम्पनी के काम से सिंगापूर गए थे 10 दिन के लिए.

मनीषा की शादी भी 6 महीने पहले ही हुई थी. मनीषा बहुत सेक्सी थी. उसके दिमाग में हर समय सेक्स ही चलता था.

उसका साथ उसका पति रमेश भी खूब देता था.

मनीषा अपने सारे मजे खूब चटकारे लेकर प्रिया को सुनाती थी. सेक्स प्रिया भी विजय के साथ कम नहीं करती थी, पर विजय इतना जिंदादिल नहीं था.

रमेश के सिंगापूर जाने के बाद प्रिया मनीषा के पास ही आ गयी थी. दोनों दिन भर गप्पे मारती, पोर्न फिल्म देखती और … हाँ, मनीषा ने प्रिया को उंगली करना और वाइब्रेटर लेना सिखा दिया था. दोनों साथ ही नहातीं और घर में कम से कम कपड़ों में रहतीं.

रात को मनीषा रमेश से विडियो चैट करती, तो विडियो सेक्स भी करती. उसने रमेश को यह कह रखा था कि प्रिया अलग कमरे में सो रही है.

मनीषा चेट करते करते रमेश का पानी निकलवा देती और उनकी बातें सुन सुन कर प्रिया का भी पानी निकल जाता. इसीलिए प्रिया भी विजय से पीछे पड़ी थी कि वो उसे ले जाए या अजय को उसे लेने जल्दी भेजे.

खैर, शुक्रवार शाम 7 बजे तक अजय आ गया. वो ऑफिस से जल्दी ही चल दिया था.

अजय पहले प्रिया के मम्मी पापा से मिला. प्रिया वहीं थी. फिर प्रिया के साथ ही उसके भाई की कोठी पर आ गया.

तीनों फटाफट तैयार हुए और घूमने निकल लिए. तीनों मस्ती में थे. प्रिया और मनीषा ने शॉर्ट्स और टी शर्ट डाली थीं.

मनीषा हालांकि शादी के बाद अजय से पहली बार मिल रही थी. पर प्रिया ने उसकी इतनी तारीफ कर ली थी कि मनीषा मिनटों में ही अजय से घुलमिल गयी. अजय था भी बहुत स्मार्ट और हंसमुख.

शाहजहाँ पार्क के पास गाड़ी खड़ी करके तीनों पार्क में घूमने लगे.

पार्क में अनेक जोड़े थे जो प्रेमालाप में लगे हुए थे. प्रिया अजय से चिपट कर चल रही थी. मनीषा संबंधों का लिहाज कर रही थी. बाहर निकलकर तीनों ने भेलपुरी खायी और आइसक्रीम ली.

प्रिया ने दोनों से आइसक्रीम शेयर की तो फिर तो मनीषा ने भी अजय की आइसक्रीम से खा लिया.

वहीं पास में पनवाड़ी की दुकान थी तो अजय ने लड़कियों से पूछा कि क्या मैं सिगरेट ले लूं. मनीषा बोली- हाँ ले लो, एक आध सुट्टा मैं भी मार लूंगी.

प्रिया ने आश्चर्य से उसकी ओर देखा तो मनीषा बोली- शादी से पहले हॉस्टल में मैं ले लेती थी. पर तुम्हारे भाई नहीं पीते तो मुझे भी आदत छूट गयी.

अब बात डिनर लेने की थी. राजपुर रोड पर एक महंगे रेस्टारेंट में तीनों ने डिनर लिया.

रात के 10 बज गए थे. प्रिया के कहने पर अजय ने 10-12 केन बियर के ले लिए.


घर आते ही अजय तो नहाने चला गया. मनीषा ने बियर फ्रीजर में रख दीं.

अजय के सोने का इंतजाम गेस्ट रूम में किया जहां डबल बेड पड़ा था. अजय ने नहाकर शॉर्ट्स और टी शर्ट डाली.

प्रिया और मनीषा भी फ्रेश होकर शॉर्ट्स और टी शर्ट में ही आ गयीं थीं.

11 बज गए थे तो अजय ने कहा- अब सो जाते हैं. मनीषा बोले- बच्चे हो क्या? अभी से क्या सोएंगे. अभी सो जायेंगे तो दिन में क्या करेंगे? यहाँ कोई काम तो है नहीं … और न मम्मी-पापा जो कहेंगे उठ जाओ बेटा, सूरज सर चढ़ आया है.

सब हंस दिए.

अजय बोला- फिर क्या करें? मनीषा बोली- कार्ड्स खेलते हैं. तीनों बेड पर जम गए.

प्रिया फ्रीजर से बियर निकाल लायी, चिप्स का पैकेट भी ले आई. म्यूजिक चला कर प्रिया ने पत्ते बांटे, अजय ने लड़कियों से पूछ कर सिगरेट जला ली.

मनीषा ने उससे सिगरेट लेकर एक कश मारा और सिगरेट प्रिया की ओर बढ़ा दी. प्रिया सकुचाई, उसने कभी नहीं पी थी.

मनीषा बोली- देख इसे हल्के से खींच ले, ज्यादा जोर से नहीं खींचना वर्ना गले में चली जायेगी और खांसी आ जायेगी.

अजय के भी जोर देने पर प्रिया ने एक सुट्टा मारने की कोशिश की. पर उससे नहीं हुआ.

मनीषा ने फिर एक लम्बा कश लेकर छल्ले प्रिय के मुंहपर छोड़ दिया. अबकी बार प्रिया ने भी कश मार लिया. हालाँकि उसे हल्की सी खांसी आई. पर फिर वो लगातार मनीषा और अजय का सिगरेट में साथ देती रही.

बियर की कैन खुल गयी थीं. सिगरेट, चिप्स और बियर के साथ नॉन वेज जोक्स भी शुरू हो गए और धीरे धीरे शर्म की सीमा भी ख़त्म हो गयी. मनीषा की सलाह पर अब सभी एक दूसरे का नाम ले रहे थे.

कमरे में जो टीवी था वो सीधा मोबाईल से चल जाता था. मनीषा ने कोई रेव पार्टी का म्यूजिक चला दिया. माहौल गर्म होने लगा था.

मनीषा ने अचानक म्यूजिक बदल कर कोई सेक्सी इंटिमेट म्यूजिक एलबम लगा दी थी जिसमें लड़के लड़कियां बीच साइड पर जबरदस्त चूमा चाटी का डांस कर रहे थे.

अब मनीषा बोली- अब गेम चेंज करते हैं. वो बोली- अब तीनों में से जो गेम हारेगा, उसे जीतने वाले की इच्छा से एक कपड़ा उतारना होगा. प्रिया ने मना कर दिया.

तो मनीषा बोली- चलो ब्रा पेंटी नहीं उतरेंगी और अजय का बरमूडा भी नहीं उतरेगा. प्रिया फिर भी नहीं मानी.

तो अजय बोला- चलो गेम तो शुरू करो, जो कपड़े नहीं उतारेगा वो लिप टू लिप फ्रेंच किस देगा.
प्रिया पहले भी अजय को किस दे चुकी थी तो वो बोली चलो- किस तक तो ठीक है.

बियर की कैन ख़त्म हो गयी थी तो मनीषा किचन में गयी और बियर ग्लास्सेज में कर लायी. असल में वो दो दो ढक्कन व्हिस्की भी मिला लायी थी.

प्रिया ने कहा भी कि गिलास में क्यों कर लायी तो मनीषा बोली कि ऐसे ही. मनीषा ने आते ही सिगरेट जलाई और सबको अलग अलग जला कर दीं.

अब प्रिया भी आराम से सुट्टे मार रही थी.

अजय ने गिलास का सिप भरते ही मनीषा की ओर देखा तो मनीषा ने आँख मार दी. प्रिया ने जैसे ही सिप लिया तो बोली कि कुछ कड़वी है. मनीषा बोली कि सिगरेट की वजह से तुझे ऐसा लग रहा है.

अजय ने पत्ते बांटे. गेम, बीयर और सिगरेट के बीच पहली बाजी ख़त्म हुई तो अजय हारा. प्रिया जीती.

प्रिया ने सोचा कि किस लूंगी तो मनीषा के सामने उसे शर्म आएगी. तो वो बोली- अजय तुम टी शर्ट उतारो. अजय ने टी शर्ट उतार दी.

मांसल गोरा बदन … मनीषा ने तो एक जोर से आह भर दी. सब हंस दिए.

अगली बाजी चल पड़ी. अजय बोला- देखना अबकी मैं जीतूँगा और प्रिया तुम्हारी टी शर्ट उतरवाउंगा. प्रिया बोली- मैं नहीं उतारने वाली. मनीषा बोली- उतारेगी कैसे नहीं, तूने भी तो अजय की उतरवाई है.

गेम में प्रिया फिर जीती और मनीषा हारी. प्रिया उठी और मनीषा से चिपट गयी और उसके होंठों से होंठ मिला दिए. दोनों ने किसी लेस्बियन की तरह एक दूसरे को चूमा.

पर प्रिया ने हटते हटते मनीषा की टी शर्ट भी उतार दी. मनीषा अब रेड कलर की ब्रा में थी.

गेम फिर शुरू हुआ. बियर में मिली व्हिस्की का नशा होना शुरू हो गया था.

अबकी बार अजय जीता और प्रिया हारी. अजय बोला- चलो शर्ट उतारो. तो प्रिया बोली- नहीं, शर्ट नहीं उतारूंगी, तुम किस ले लो.

अजय बोला कि किस तो मैं लूँगा ही पर शर्ट मनीषा उतारेगी. कह कर अजय ने प्रिया को दबोच लिया और अपने होंठ प्रिया के होंठ से मिला दिए. प्रिया तो प्यासी थी. उसने अजय का खूब साथ दिया. दोनों ने एक दूसरे की जीभ को खूब चूसा.

अजय ने जैसे ही प्रिया को छोड़ा, मनीषा ने प्रिया की टी शर्ट उतार दी. प्रिया स्पोर्ट्स ब्रा पहने थी.

मनीषा की जबरदस्ती करते समय प्रिया का एक मम्मा खुल गया. अजय को तो मानों जन्नत मिल गयी. इतना गोरा मांसल. वो मन ही मन अपने भाई की किस्मत से रश्क करने लगा.

खैर गेम फिर शुरू हुआ.
पर अब व्हिस्की का सुरूर पूरा हो चुका था, और कपड़े उतरने की लिमिट भी आ गयी थी. तो सबने अब गेम बंद किया और सोने की बात कह कर अजय खड़ा हुआ.

मनीषा ने उसका हाथ पकड़ लिया- अकेला कहाँ सोयेगा बच्चे … चल हमारे बीच में सो जा. अजय को प्रिया का संकोच था, तो प्रिया भी बोली- अब शर्माने को रह क्या गया है.

तो अजय वहीं लुढ़क गया.

एसी खूब ठंडा कर रहा था तो तीनों ने चादर ओढ़ ली.

लाईट काफी धीमी कर दी गयी थी. तीनों चुपचाप पड़े रहे. बदन की गर्मी ने चादर के अंदर आग लगा दी थी. तीनों कुछ कर तो नहीं रहे थे, पर उनके पैर आपस में टकरा रहे थे.

अजय ने मनीषा की ओर मुख किया तो मनीषा ने अपने होंठ उसके होंठों से चिपका दिए. दोनों एक दूसरे को धीमे धीमे चूमने लगे.

अजय ने एक हाथ उसके मम्मों पर रख दिया, पर मनीषा कुछ नहीं बोली.

पीछे से प्रिया भी इनकी हरकत देख गर्म हो गयी थी तो उसने अजय के कान को और गर्दन को किस करना शुरू किया. वो अपने हाथ मनीषा की पीठ पर ले गयी.

अजय और मनीषा अब चिपट चुके थे और अजय ने हाथ से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया. मनीषा ने भी अपना एक हाथ अजय के बरमूडा में डालकर उसके लंड का साइज़ नाप लिया था.

अजय ने अपने एक पैर से अपना बरमूडा नीचे कर दिया और मनीषा को भी नंगी कर दिया और फिर उसके मम्मों पर पिल गया.

उनको नंगा देखा प्रिया भी नंगी हो गई. अब शर्म से क्या फायदा था … उसने अजय को खींचा.

अजय के लिए प्रिया को नंगा देखना एक अचरज था. एक नए रिश्ते की बुनियाद रखी जा रही थी.

प्रिया मनीषा के सामने ज्यादा सुंदर और मांसल थी. अजय ने प्रिया की ओर मुंहकिया और एक प्यार भरा डीप किस उसको किया. प्रिया ने भी अजय के बाल पकड़कर उसको भींच लिया.

प्रिया के मम्मे खूब भारी थे. अजय ने बारी बारी से उसके दोनों निप्पलों को चूसा. अजय प्रिया के साथ बहुत नरमी और भावनाओं के साथ पेश आ रहा था. आखिर वो उसकी भाभी थी और अब शायद जिन्दगी भर उससे चुदने वाली थी.

मनीषा नीचे खिसकी और अजय का लंड पकड़ कर उसे मसलने लगी.

अजय ने प्रिया को नीचे लिटाया और टेढ़ा होकर उसके ऊपर लेट कर उसके मम्मों और होंठों को चूमना शुरू किया. मनीषा उसका मतलब समझ गयी और नीचे लेटकर उसका लंड अपने मुंह में ले लिया.

अजय ने अपनी उंगली प्रिया की गीली चूत में कर दी. जहाँ गंगा जमना बह रही थी.

थोड़ी देर बाद प्रिया ने अजय को हटाया. उसे पानी पीना था. उसके हटते ही मनीषा ने अजय को खींच लिया.

अजय ने अपना मुंह उसकी सेक्सी चूत में कर दिया और अपनी जीभ से उसकी सीत्कारें निकाल दी.

यह देख प्रिया ने अपनी होंठ मनीषा के होंठों पर रख दिए.

अब अजय ने मनीषा की दोनों टांगों को चौड़ा किया और ऊपर करके अपना मूसल उसकी चूत में पेल दिया. मनीषा हिल गयी, प्रिया भी हट गयी.

अब अजय और मनीषा चुदाई के घमासान में लग गए. अजय के धक्कों की स्पीड बढ़ती जा रही थी और उधर मनीषा की सीत्कारें. वो अब चीख रही थी- मजा आ गया मेरी जान अजय … और जोर से. आज तो फाड़ ही दो मेरी चूत को. रुकना मत और तेज मेरे राजा.

उसकी हर पुकार पर अजय स्पीड और बढ़ा देता.

प्रिया मनीषा के मम्मे चूस रही थी. अब उसकी भी सेक्सी चूत की आग बेकरार हो रही थी. वह उठी और अजय के होंठों को अपने होंठों से पकड़ लिया. इससे अजय की चुदाई रुक गयी.

वो मनीषा को छोड़ प्रिया की हॉट चुदाई करना चाहता था. प्रिया नीचे लेट गयी और अजय उसके ऊपर.

आज वो होने जा रहा था जिसकी कल्पना न तो प्रिया ने की थी, न अजय ने.

अजय ने प्रिया की सेक्सी चूत को चाट कर चिकना किया और अपना लंड घुसेड़ दिया अपनी भाभी की प्यासी चूत में.

प्रिया चीख उठी- मार दिया अजय तुमने मुझे तो … उई मेरी मां! पर अब मां कहाँ से आती.

अजय ने एक और धक्का लगाया और प्रिया की चूत की गहराई में पहुँच गया. प्रिया ने उसको जकड़ लिया और फिर दोनों हॉट चुदाई के समुंदर में गोते लगाने लगे.

अजय प्रिया के ऊपर पूरा सीधे लेट गया और धीरे धीरे पानी में तैरने सा लगा. उसका लंड कभी पूरा अंदर जाता, कभी हल्का सा बाहर आ जाता. बाहर जाते लंड को रोकने के लिए प्रिया नीचे से ऊपर उठती और अजय को जकड़ लेती. आज प्रिया इस प्यार को वो मजबूत जमीन देना चाहती थी कि फिर जिन्दगी भर उसकी चुदाई में कोई टोटा न रहे.

अब अजय के धक्के राजधानी एक्सप्रेस क्या बल्कि बुलेट ट्रेन की स्पीड से लग रहे थे. प्रिया हॉट सेक्स का पूरा मजा ले रही थी. उसका स्खलन हो चुका था. पर अजय की निशानी वो अपने पेट में लेना चाहती थी. उसकी कोख जो अभी खाली थी, शायद आज भरने वाली थी.

अजय ने हांफते हुए उससे पूछा- कहाँ निकालूं? तो प्रिया ने उसे जकड़ लिया और कहा- अंदर ही निकालो.

प्रिया की सेक्सी चूत अजय ने गर्म गर्म मलाई से भर दी.

अब अजय उठा और वाशरूम में जाकर अपने को साफ़ करके आया. प्रिया यों ही लेटी रही. उसके चेहरे पर विजयी मुस्कान थी.

गर्म गर्म लावा प्रिया की चूत से बाहर निकल रहा था. पर प्रिया हिली नहीं. वो अजय का बीज अपनी कोख में सही तरीके से बोना चाहती थी.

मनीषा अजय के पास आई और उसे चूमकर बोली- तुमने आज प्रिया का मन भर दिया. पर मेरी चूत अभी प्यासी है.

अब मनीषा ने अजय से कॉफ़ी के लिए पूछा तो अजय ने हाँ कह दी. मनीषा किचन में जाकर कॉफ़ी बना लायी.

तीनों नंगे ही बैठे रहे और हंस बोल कर कॉफ़ी का मजा लेते रहे.

आधा घंटे में मनीषा की किस्मत जाग गयी और अजय का लंड फिर तन गया. मनीषा ने अजय को बिस्तर पर धक्का दिया और पहले तो जमकर लंड को चूसा फिर वो चढ़ गयी उसके ऊपर.

उसने अपने हाथ से ही अजय का लंड अपनी सेक्सी चूत में किया और लगी चुदाई करने. वो खूब उछल उछल कर अजय के लंड को अपनी गहराइयों तक पहुंचा रही थी. और अजय भी नीचे से ऊपर धक्के लगा कर मनीषा को पूरा मजा दे रहा था.

अजय ने अब मनीषा को नीचे किया और घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में घुस गया. अपने दोनों हाथों से उसने मनीषा के मम्मे मसले और धक्कों से उसकी चूत का भोसड़ा बनाया.

मनीषा भी पक्की थी. उसकी चूत का मन अभी भरा नहीं था.

वो सीधे लेट गयी और अजय फिर उसकी टांगों के बीच में घुस गया. अजय को भी मजा आ रहा था. ऐसी औरतें बहुत मजा देती हैं जिनकी कामोत्तेजना बहुत देर में शांत होती हो.

अबकी बार का सेक्स सेशन मनीषा, प्रिया और अजय तीनों के लिए अनोखा था.

प्रिया वाशरूम में जाकर नहा आई थी और अपनी चूत अच्छे से धो आई थी. अब प्रिया अपनी टाँगें चौड़ी करके मनीषा के मुंह पर बैठ गयी.

मनीषा ने अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटना तब तक जारी रखा जब तक अजय के धक्कों की स्पीड बहुत नहीं बढ़ गयी.

अब अजय और मनीषा दोनों ही क्रम नहीं तोड़ना चाहते थे तो अजय के हर धक्के का मनीषा भी मजबूती से जवाब धक्के से देने लगी.

चूत पर दो तरफ से प्रेशर पड़ रहा था. अजय ने पूरी ताकत झोंक दी थी मनीषा की चूत को हॉट चुदाई का पूरा रस देने के लिए.

मनीषा को भी अब लग रहा था कि वो आने वाली है. एक जोरदार धक्के के साथ अजय ने सारा माल मनीषा की चूत में डाल दिया और निढाल होकर उसके ऊपर ही पड़ गया.

मनीषा ने उसे कस के भींच लिया. आज उसकी अनोखी हॉट चुदाई जो कभी उसकी परिकल्पना में थी, पूरी हुई.

रात के 2 बज गए थए. तीनों थक चुके थे. अजय अपने रूम में जाकर नंगा ही बेड पर पड़ गया. इधर मनीषा और प्रिया भी बेहाल और बेसुध होकर सो गयीं.

सुबह 9 बजे करीब मनीषा उठी. प्रिया सो रही थी.

मनीषा फ्रेश हुई और अजय के रूम में गयी. अजय बेसुध सो रहा था. उसका लंड तन्ना रहा था. मनीषा ने उसके लंड को मुंह में ले लिया और चूसने लगी.

अजय की आँख खुल गयी. वो मुस्कुरा दिया.

मनीषा ने उसको डीप किस दिया और उसके लंड पर बैठ गयी और अपनी चूत में कर लिया. दोनों फिर चुदाई में लग गए.

अजय ने मनीषा के मम्मे पकड़ कर उन्हें खूब मसला.

तभी प्रिया भी उन्हें ढूंढती आ गयी और बोली- अरे! तुम दोनों तो फिर शुरू हो गए. रुको मैं भी आती हूँ. अजय बोला- अभी नहीं. अभी फ्रेश होने दो.

फ्रेश होकर चाय पीकर सभी साथ नहाये और ये तय हुआ कि कम से कम कपड़े पहने जायेंगे.

दोपहर बाद फिर सेक्स धमाल हुआ. और सबसे बड़ा धमाल शाम को लॉकडाउन की खबर से हुआ. अब कब वापिस जाना होगा, कैसे जाना होगा, किसी को नहीं मालूम था. अब तो सिर्फ एक ही काम था हर समय हॉट चुदाई … दो जवां चूत और एक बांका लंड.

कामसूत्र की सारी मुद्राएँ और घर का हर कोना इनकी काम क्रियाओं का गवाह बना.

प्रिया ने अजय से ये वादा लिया कि दिल्ली में जब भी मौका मिलेगा वो सेक्स करेंगे. और अगर वो गर्भवती हो गयी तो ये राज उन्हीं के बीच रहेगा.

दोस्तो, कैसी रही ये सेक्सी चुत हॉट चुदाई कहानी. मुझे लिखियेगा [email protected] पर.

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!