होली के बाद की रंगोली-4

अब तक आपने पढ़ा कि योजना के अनुसार सबसे पहले रूपा सचिन चुदवाने वाली थी। सोनाली और सचिन फ़ोन पर इशारों इशारों में काफी सेक्सी बातें करने लगे थे और सोनाली को समझ आ गया था कि सचिन अपनी मम्मी को नंगे नहाते हुए देख रहा था। इसी बात से प्रेरित होकर पंकज, सोनाली और रूपा ने एक रोल प्ले किया था। सचिन के आने तक ऐसे ही दिन काटते रहे। अब आगे…

अगले दिन सचिन आने वाला था और कम से कम कुछ दिनों के लिए घर का माहौल बदलने वाला था। अब न तो कोई सारा समय नंगे रह पाएगा और न ही जब मनचाहे ढंग से चुदाई हो पाएगी। पंकज, रूपा और सोनाली ने आपस में सलाह करके पूरी योजना तैयार कर ली और फिर सारी रात जम के चुदाई की ताकि अगले आने वाले कुछ दिनों में खुद पर नियंत्रण रखना आसान हो जाए खास तौर पर पंकज ने सबसे ज़्यादा रूपा को चोदा क्योंकि सोनाली तो फिर भी मिल सकती थी लेकिन सचिन के रहते रूपा की चूत मिलना थोड़ा मुश्किल होता।

देर रात तक तरह तरह से चोदने के बाद आखिर सब थक गए। पंकज- अब नहीं होगा मुझसे, बहुत थक गया हूँ। सोनाली- तीन बार अपनी बहन चोद चुके हो और दो बार मुझे। आदमी हो कोई खरगोश नहीं कि बस चुदाई ही करते रहो। रूपा- हाँ, और ऐसा भी नहीं कि अब मैं कभी मिलने वाली नहीं हूँ। भाभी को तो रात में चोद ही सकते हो और मैं भी 4-6 दिन में मिल ही जाऊँगी। तब तो भाभी सारा टाइम अपने भाई से ही चुदवाने वाली हैं तो आपको मेरी ही चूत नसीब होगी। सोनाली- तेरे मुँह में घी-शक्कर! और इतना कह कर सोनाली ने ने रूपा को चूम लिया। इस बात पर सब हंसने लगे और फिर सब सो गए।

अगला दिन एक नया सवेरा ले कर आने वाला था। सुबह उठने के बाद सबने फ्रेश होकर नाश्ता किया और फिर तीनों ने गोला बना कर एक साथ एक दूसरे को गले लगाया (जैसा फुटबॉल के खिलाड़ी अक्सर करते हैं)। उन्होंने वादा किया कि वो पूरी कोशिश करेंगे कि अगली बार जब वो इस तरह गले मिलें तो सचिन भी उनके साथ हो।

उसके बाद पंकज तैयार होकर क्लीनिक चला गया। रूपा ने आज कॉलेज से बंक मार दी क्योंकि वो अपनी भाभी के साथ सचिन को लेने स्टेशन जाने वाली थी।

दोनों ने मिल कर घर सजाया, जो कुशन और गद्दे, सेक्स की सहूलियत के लिए इधर उधर बिखरे पड़े थे उनको अपनी जगह पर रखा गया। सहूलियत के लिए जो 1-2 कंडोम के डब्बे हर कमरे में पड़े हुए थे, उनको वापस छिपा कर रख दिया गया। टीवी के पास जो चुदाई के वीडियो की सीडी/डीवीडी का ढेर था, उसे भी छिपा कर उसकी जगह बॉलीवुड के सेक्सी गीतों और फिल्मों की डीवीडी रख दी गईं।

तब तक ट्रेन के आने का समय भी होने लगा था तो दोनों ननद-भौजाई जल्दी से तैयार होकर रेलवे स्टेशन की तरफ चल दीं। कार सोनाली चला रही थी और रूपा उसके मज़े ले रही थी। रूपा- क्या भाभी, बड़ी जल्दी हो रही है अपने भाई से मिलने की। आपको देख कर तो ऐसा लग रहा है कि आपसे सब्र नहीं होना। मुझे तो लगता है वहीं स्टेशन पर ही कोई रूम बुक करवाना पड़ेगा आप दोनों के लिए। सोनाली- रहने दे… रहने दे। खुद के मन में लड्डू फूट रहे हैं, मुझे बोल रही है। रूपा- मेरे मन में क्यों लड्डू फूटेंगे? सोनाली- पहले तो तू ही चुदवाने वाली है न उस से। नए लंड के बारे में सोच सोच के चूत में गुदगुदी हो रही होगी इसलिए मेरा नाम ले ले कर ये सब बोल रही है। रूपा- भाभी आप भी न… बड़ी वो हो।

इतने में स्टेशन आ गया और गाड़ी पार्क कर के दोनों गेट की तरफ बढ़ गईं।

थोड़ी ही देर में सचिन आता हुआ दिखाई दिया। उसने अपना हाथ लहरा के इशारा किया इधर सोनाली ने भी अपना हाथ हवा में हिला कर हेलो वाला इशारा किया। रूपा ने पहली बार उसे इस नज़र से देखा था, वो मंत्रमुग्ध सी देखती ही रह गई। शादी में तो वो इतना व्यस्त था कि खुद कैसा दिख रहा है उसका होश ही नहीं था। बहन की शादी में भाई के पास कहाँ समय होता है सजने धजने का।

जैसे ही वो पास आया, सोनाली ने उसे गले से लगा लिया, शादी के पहले उसने कभी ऐसा नहीं किया था। एक तो शादी के पहले लड़कियां होती ही हैं थोड़ी रिज़र्व टाइप की और ऊपर से इनके बीच जिस तरह का आकर्षण था, उसके चलते सोनाली को लगता था कि अगर वो सचिन के ज़्यादा पास गई तो कहीं कुछ कर न बैठे। लेकिन आज न उसे कोई झिझक थी न कोई डर, इसलिए वो दिल खोल कर अपने भाई से गले मिल रही थी।

सचिन की तो हालत ख़राब हो गई थी, जिस बहन को वो छिप छिप कर नंगी देखा करता था, आज वो उसकी बांहों में थी। उसके वो कोमल उरोज जिनको वो हमेशा छूना चाहता था, वो आज उसकी छाती से चिपके हुए थे। उसने भी सोनाली को अपनी बाँहों में जकड़ लिया था। दिल तो किया कि हथेलियों को पीठ से नीचे सरका कर नितम्बों को सहला दे लेकिन उसके हाथ कमर से आगे न जा पाए। हिम्मत ही नहीं हुई बावजूद इसके कि फ़ोन पर दोनों बहुत खुल गए थे, असली में जब सामने आते हैं तो बात कुछ और हो जाती हैं।

इनको देख कर रूपा भी बड़ी उत्तेजित हो गई थी, उसे लगा अब उसकी बारी है तो जैसे ही सचिन सोनाली से अलग हुआ और सोनाली ने कहा- ये मेरी ननद रूपा! सचिन ने हाथ मिलाने के लिए हाथ बढ़ाया और रूपा ने गले मिलने के लिए दोनों हाथ। फिर अचानक से सचिन का हाथ देख कर उसे होश आया और उसने भी हाथ मिला लिया। इस बात से सोनाली को बड़ी हंसी आई लेकिन उसने हंसी छिपा ली। लेकिन सारे रास्ते जब भी उसकी नज़रें रूपा से मिलतीं वो मुस्कुरा देती और रूपा मन मसोस कर रह जाती।

रास्ते भर इधर उधर की बातें होती रहीं जैसे घर पर सब कैसे हैं वगैरा वगैरा।

घर पहुंच कर सोनाली ने सचिन को कहा कि वो नहा ले फिर सब खाना खा लेंगे। सचिन- नहाने के लिए ही तो आया हूँ मैं यहाँ। सोनाली ने एक बड़ी सी मुस्कराहट के साथ उसे बाथरूम का दरवाज़ा दिखाया और किचन में चली गई।

सचिन ने देखा वो काफी बड़ा बाथरूम था। आम घरों में जितने बड़े साधारण कमरे होते हैं उतना बड़ा। दरवाज़ा उसके एक कोने में था। दरवाज़े के ठीक सामने वाले कोने में पर्दा लगा हुआ था जिसके पीछे एक बड़ा सा तिकोना बाथ टब था। उसके सामने के कोने में चमचमाता हुआ हाई-टेक कमोड था। इन दोनों के सामने और दरवाज़े से लगी हुई दीवार पर एक बड़ा पूरी दीवार के साइज का दर्पण था और एक बड़ा सिंक जो ग्रेनाइट के प्लेटफॉर्म में फिट था।

बाथ टब का बाहरी हिस्सा गोल था (पिज़्ज़ा के बड़े टुकड़े जैसा)। उसके अंदर ३ कोनों पर बैठने की जगह दी हुई थी लेकिन जितना बड़ा वो था उसमें 4-5 लोग आराम से बैठ सकते थे। अंदर तरह तरह की लाइट्स और शॉवर्स लगे हुए थे जिनकी सेटिंग के लिए एक पैनल भी था। इसके चारों ओर फाइबर का पारदर्शी गोल कवर था जो आधा स्लाइड हो कर दरवाज़े का काम करता था और इसके चारों ओर एक सुन्दर पर्दा लगा हुआ था ताकि अगर कोई टॉयलेट या सिंक का प्रयोग करना चाहे तो नहाने वाले को न देख सके।

ये सब देख कर सचिन के मुँह से अपने आप ‘वाओ’ निकल गया। वो नहाते नहाते सोचने लगा कि दीदी की तो ऐश है। लेकिन एक बात उसे दुखी कर रही थी कि यहाँ अगर वो बाथरूम के दरवाज़े में छेद कर भी ले तो पता नहीं सोनाली को नहाते हुए देख पाएगा या नहीं क्योंकि अंदर एक पर्दा और भी था।

आखिर उसने उन सब नए नए उपकरणों के साथ छेड़खानी करते हुए सारी सेटिंग्स आज़मा कर देखीं और बहुत देर तक नहाने के बाद जब वो बाथरूम से बहार निकला तो रूपा वहीं सामने खड़ी थी। रूपा गुस्से में- क्या यार नहाने के लिए दरवाज़ा बंद करने की क्या जरूरत थी। इतना कह के वो अंदर चली गई और दरवाज़ा बंद कर लिया।

सचिन कुछ समझ नहीं पाया कि हुआ क्या था। वो किचन में सोनाली के पास गया और जब उसने पूछा कि ये सब क्या था तब सोनाली ने उसे समझाया। सोनाली- देखो, बाथ टब के चारों तरफ तो परदा है न… तो नहाने के लिए दरवाज़ा बंद नहीं करते ताकि किसी को टॉयलेट या सिंक यूज़ करना को तो कर सके। बेचारी रूपा को कब से पेशाब आ रही थी लेकिन तुम्हारे चक्कर में रोक कर खड़ी थी। इसलिए गुस्सा हो रही थी। अब समझे? सचिन- और किसी ने पर्दा हटा दिया तो? इतना कह कर सचिन ने धीरे से आंख मार दी। सोनाली- तो पर्दा हटाने वाला भी तो दिखाई देगा न। सोनाली ने एक शैतानी सी मुस्कराहट बिखेरते हुए कहा।

खाना तैयार था सब जा कर खाने के टेबल पर बैठ गए और खाना खाने लगे।

सचिन- माफ़ करना रूपा, मेरे कारण तुमको तकलीफ उठानी पड़ी। मुझे पता नहीं था कि यहाँ का क्या सिस्टम है। रूपा- कोई बात नहीं यार, वो तो उस समय मुझे ज़ोर की लगी थी इसलिए गुस्से में बोल दिया था लेकिन तुम दिल पर मत लेना। ठीक है? सचिन मन में ‘दिल पर लेना ही होगा तो तेरे इन दोनों चाँद के टुकड़ों को लूँगा न जानेमन।’

खाना खाने के बाद तीनों मिल कर गप्पें लड़ने लगे। चुटकुले-कहानियां चल रहे थे कि तभी बातों बातों में रूपा ने कहा- पता है भाभी, कल मेरे कॉलेज में हॉस्टल की लड़कियों ने एक जोक सुनाया। एक हॉस्टल में सुबह 6 से 7 का समय जिम का था और अक्सर लड़कियां उस टाइम में साइकिल चलाती थीं। एक दिन 7 बजे एक लड़की हांफती हुई जिम वाली मैडम के पास आई और बोली- मैडम दस मिनट और साइकिल चला लूँ? मैडम बोली- ठीक है, लेकिन आगे से ध्यान रखना सात बजे के बाद नहीं। लेकिन कोई न कोई लड़की रोज़ ऐसा पूछती थी। एक दिन गुस्से में मैडम चिल्लाई- आज के बाद किसी से एक मिनट भी ज़्यादा माँगा तो सबकी साइकिल में सीट लगवा दूँगी.



इतना सुनते ही सोनाली ज़ोर से हंसी और रूपा के हाथ से हाथ टकरा कर हाय किया। दोनों पेट पकड़ कर हंस रहीं थीं और सचिन के कुछ पल्ले नहीं पड़ रहा था। आखिर उस से रहा नहीं गया और उसने पूछ लिया कि इसका क्या मतलब हुआ? सोनाली- अरे मेरे लल्लू… साइकिल में सीट नहीं होगी तो क्या होगा? डंडा ! अब समझ आया? सचिन- ओह्ह तो ये बात थी। अब यार मुझे यह उम्मीद नहीं थी कि रूपा ऐसा जोक सुना सकती है। और लल्लू किसको बोला? आप इतने ही चालू हो तो ये सवाल का जवाब दो? तीन लड़कियां कुल्फी खा रहीं हैं। एक पिघला के खा रही है एक चूस के खा रही है और एक काट के खा रही है तो तीनों में से कौन शादीशुदा है? बताओ? सोनाली- सिंपल है यार जो चूस के (आँख मारते हुए) खा रही है वो शादीशुदा है। रूपा- वैसे तो भाभी, चूस के खाने वाली भी कोई ज़रूरी नहीं है कि शादीशुदा ही हो. लेकिन क्या है न कि अपने सचिन को उससे ऐसी ‘उम्मीद’ नहीं होगी। हा हा हा…

दोनों फिर पेट पाकर कर ज़ोर ज़ोर से हंसने लगीं। सचिन का तो पोपट हो गया था लेकिन वो न केवल अब उन दोनों से साथ ज़्यादा खुल गया था बल्कि उसके मन में रूपा के लिए आकर्षण भी पैदा होने लगा था। सोनाली से तो उसे कोई खास उम्मीद नहीं थी क्योंकि वो दीदी थी लेकिन अब उसका मन होने लगा था कि अगर मौका मिले तो वो रूपा को चोद दे। लेकिन अब तक की बातों से तो कोई भी समझ सकता है कि दुनिया सचिन की ‘उम्मीदों’ से कहीं आगे जा चुकी है।

दोस्तो, आपको यह भाई-बहन और उसकी ननद की मस्ती भरी कहानी कैसी लगी आप मुझे ज़रूर बताइयेगा। कहानी जारी रहेगी. आपका क्षत्रपति [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!