मदमस्त काली लड़की का भोग-1

ये वाकया करीब डेढ़ एक साल पुराना है, इसको मैंने अप्रैल में लिखना शुरू किया था मगर अपनी व्यस्तता के कारण पूरा नहीं कर पाया. मेरी पिछली कहानी मुंबई की शनाया की कुंवारी बुर की चुदाई को पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद.

नए पाठकों की जानकारी के लिए बता दूँ कि मेरा नाम राहुल श्रीवास्तव है. मैं लखनऊ से हूँ और मुंबई में रहता हूँ. देखने में स्वस्थ मर्द हूँ और लड़कियों के मामले में बहुत खुशकिस्मत हूँ. मेरी सभी कहानियां मेरे साथ घटित सत्य घटनाओं और मेरे व्यक्तिगत अनुभवों पर आधारित होती हैं जिसे थोड़ा बहुत मिर्च और मसाला लगा कर मैं आप लोगों तक पहुंचाता हूँ.

कुछ दिन पहले मैं दिल्ली में था. मुझे निकलना था मगर रिजर्वेशन था नहीं. इसलिए मैं नई दिल्ली के टी.टी. ऑफिस में चल गया. मैं स्वतंत्रता सेनानी ट्रेन के टी.टी का इंतज़ार कर रहा था कि तभी एक 20 से 22 साल की काली लड़की भी आई, उसने पूछा कि भुवनेश्वर की ट्रेन का टी.टी आ गया क्या? फिर बातों ही बातों में पता चला कि उसको भी भुवनेश्वर जाना है कोई एग्जाम देने, दोस्तो बहुत काली थी वो, पर उसमें एक नशा था. छोटी सी चूचियां 32 के साइज़ की होंगी शायद, कद 5’5″ का था. दुबली पतली सी थी. पता नही क्यों मुझे उसकी आँखों में उदासी और चहेरे पर परेशानी दिखी. शायद अकेली होने का भय, रिजर्वेशन न होना आदि के कारण परेशान लग रही थी. न जाने क्यों मुझे उसमें इंटरेस्ट आ गया.

खैर टी.टी ने बता दिया कि दोनों ही ट्रेन में सीट नहीं हैं, वो परेशान हो गई. अब मैं ठहरा चोदू इंसान. मौका ऐसे कैसे छोड़ देता. तभी ऐ.सी. का टी.टी बोला कि फर्स्ट ऐ.सी. में भुवनेश्वर तक 2 पैसेंजर वाला कूपा खाली है, आप बोलो तो आप दोनों को देता हूँ? वो हम दोनों को एक समझ रहा था. मैंने झट से हाँ कह दी.

तब काली लड़की बोली- मेरे पास इतने पैसे नहीं हैं. मैंने बिना सोचे-समझे उसका हाथ पकड़ा और चल पड़ा ट्रेन की ओर, और वो बेचारी डरी-सहमी खिंचती चली आई. कूपे में समान एडजेस्ट किया. उसके बाद हम दोनों भी अपनी जगह पर बैठ गए.

दिल्ली से भुवनेश्वर करीब 30 घंटे की यात्रा थी और ट्रेन भी करीब 10 घंटे लेट थी. 12 बजे ट्रेन चल दी, अब वो भी संभल गई थी. हमने बातें शुरू कीं तो वो बोली- सच में मेरे पास पैसे इतने नहीं हैं. मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं तुमसे पैसे नहीं मांग रहा हूं, जब आपके पास होंगे तब दे देना या मत देना, हम दोनों को भुवनेश्वर पहुँचना है, इस समय इसके अलावा और कोई रास्ता नहीं है.



फिर उसने अपना नाम स्मिता बताया. वो छत्तीसगढ़ की थी पर मैं उसको सलोनी नाम से ही बुलाऊंगा. (सलोनी का मतलब सांवली होता है) मैंने खुद को राहुल बताकर मोबाइल में अपने आप को व्यस्त कर लिया.

सलोनी नॉर्मल सी लड़की थी. रंग काला पर आँखें भूरी, लंबी सी नाक, सुराही सी गर्दन, पतली कमर मगर कूल्हे थोड़े ज्यादा थे. चूची ज्यादा बड़ी नहीं थी पर उभार कुर्ते के ऊपर से साफ दिख रहे थे. एक से एक खूबसूरत गोरी गुलाबी लड़कियां मेरे जीवन में आईं और उनका भोग भी लगाया लेकिन काली सलोनी लड़की पहली बार मेरे से टकराई थी. उसकी पर्सनेलिटी में ना जाने क्या था जो मुझे उसकी ओर आकर्षित कर रहा था.

खैर दिखावे के लिए मैं मोबाइल में लगा हुआ था लेकिन दिमाग सोच रहा था कि शुरुआत कैसे करूँ? तभी सलोनी बोली- आपका शुक्रिया, आप की वजह से मैं एग्जाम दे पाऊंगी. मेरे को तो जैसे जीवन मिल गया क्योंकि बातचीत से सलोनी को मैं इम्प्रेस करके उसका भोग लगा सकता हूँ। मैं बोला- अरे ऐसी कोई बात नहीं, दोनों को जाना था मुझे लगा कि एक से भले दो, तो सफर अच्छा कट जाएगा. यह सुनकर सलोनी पहली बार मुस्कराई.

कसम से क्या नशीली मुस्कान थी, गालों में डिम्पल उफ्फ्फ … सलोनी थोड़ा सहज महसूस करने लगी थी. लंबा सफर था.

तभी टी.टी आया, मैंने टिकट बनवाया और फिर दरवाज़ा लॉक कर लिया, बातों-बातों में पता चला कि वो छत्तीसगढ़ के जगदलपुर की रहने वाली है. स्नातक डिग्री किए हुए थी. दिल्ली में रह कर कम्पटीशन की कोचिंग ले रही थी. अकेले पेइंग गेस्ट में रहती थी. आगे बढ़ने की बहुत चाह थी उसके अंदर. सुन कर सच में अच्छा लगा कि देश की लड़कियां भी कुछ करने की इच्छा रखती हैं और वो माँ-बाप धन्य हैं जो अपनी लड़की को पढ़ा रहे हैं.

उसके 3 छोटे भाई-बहन और थे दिल्ली में. वो कुछ कोचिंग सेंटर में पार्ट टाइम पढ़ाया भी करती है जिससे अपना खर्चा खुद निकाल सके. उसको देख कर कहीं नहीं लगा कि सलोनी इतनी स्वाबलंबी और आत्मनिर्भर लड़की होगी. खैर, ट्रेन धीमी रफ़्तार से बढ़ रही थी और सफर आराम से कट रहा था. मगर मेरी हिम्मत नहीं हुई कि उसके साथ कुछ गलत करुँ … पर दिल नहीं मान रहा था. फिर मैंने सोचा वक्त पर ही सब छोड़ देता हूं, अभी बहुत लंबा सफर है।

इस बीच कानपुर फ़ोन करके अपने एक जूनियर साथी से खाना लाने के लिए बोल दिया था.

मैंने कोशिश की कि बात का सिलसिला प्रेम संबंधों की तरफ मोडूं, मुझे थोड़ी सफलता भी मिली.
कॉलेज में कोई बॉयफ्रेंड नहीं था, क्योंकि उसका रंग देख कर कोई पास नहीं आता था. वो बोली- पता नहीं, कोई लड़का मेरे पास आया ही नहीं. रंग को लेकर काफी दुखी सी महसूस हुई।

वह बोली- शायद मैं सबसे काली लड़की थी अपने स्कूल कॉलेज की और हर लड़का गोरी, खूबसूरत लड़की को अपना साथी बनाना चाहता है. मैंने कहा- नहीं, ऐसी बात नहीं, लड़के भी सीरत देखते हैं. काला रंग होना कोई गुनाह नहीं है, रंग काला होना इंसान के वश में नहीं है. आप रंग से भले सलोनी हो पर आपके चेहरे में एक कशिश है और आंखों में उदासी है जो शायद आपको अपने रंग से हीनता के कारण हो रही है. मगर आपका व्यक्तित्व बहुत आकर्षक है.

सलोनी बोली- आप पहले इंसान हैं जिसने मेरी तारीफ की है वरना कोई लड़का तो मेरे पास ही नहीं आना चाहता है. इतना तो मुझे समझ में आ गया था मुझे कि सलोनी में भी आम लड़की की तरह इच्छाएं हैं, अरमान हैं, कुछ जज्बात हैं.

फिर मैं बोला- एक सच बोलूं? कह कर कुछ सेकण्ड के लिये रुक कर उसका चेहरा देखा. सलोनी भी मेरी तरफ उत्सुकता से देख रही थी. मैंने कहा- आप जब वहां आई थी तो आप मुझे अच्छी लगीं और जब पता लगा हम दोनों को एक ही जगह जाना है तो दिल से लगा कि काश आप और हम एक साथ सफर करते और देखिए न अब हम सच में साथ सफर कर रहे हैं. सलोनी- रियली? ऐसा क्या देखा आप ने मेरे में जो किसी ने नहीं देखा? और आपने देख लिया? आप झूठ बोल रहे हैं. मैं- आप में बहुत कुछ है. ज्यादा कुछ बोलूंगा तो आप बुरा मान जाएंगी और कहेंगी कि मैं अकेली लड़की देख कर फ़्लर्ट कर रहा हूँ. सलोनी- नहीं, आप बोलिये, मैं बिल्कुल बुरा नहीं मानूंगी. बल्कि मैं खुद उत्सुक हूँ. आपने ऐसा क्या देखा जो किसी और लड़के ने नहीं देखा?

मैं- नहीं, आप बुरा मान जायेंगी और गुस्सा भी होंगी या फिर मेरी पिटाई या शिकायत भी कर देंगी. सलोनी- जी नहीं, ऐसा कुछ नहीं होगा और हां अब यदि आपने अब न बताया तो शायद वैसा ही हो सकता है जो आपने कहा.

दोस्तो, यह एक माइंड गेम था जो मैं सलोनी के साथ खेल रहा था. किसी लड़की की सबसे बड़ी कमजोरी को उसका सबसे अच्छा बता देना लड़की को भावनात्मक रूप से आपसे जोड़ देता है और हर लड़की अपनी तारीफ सुनना पसंद करती है. सलोनी भी एक सामान्य लडक़ी थी जिसकी तारीफ किसी भी लड़के ने नहीं की. उसकी बातों से उसके व्यवहार से लगा कि अपने रंग के कारण उसमें एक हीन भावना सी है, इस वजह से वो अपने व्यक्तित्व को अपने अंदर ही समेटे हुए थी.


मैंने कहा- आप वादा कीजिये कि आप बुरा नहीं मानेंगी? कह कर उसका हाथ अपने हाथ में लेकर उसकी आँखों में सीधे देखने लगा. एक और बात … हर लड़की में एक शक्ति होती है जो गॉड गिफ्ट होती है कि वो लड़के की आंखों में देख कर चेहरे के भाव से, बॉडी लैंग्वेज से कुछ पल में समझ लेती है कि लड़का उसके प्रति क्या सोच रहा है और सलोनी भी समझ गई कि मैं क्या सोच रहा हूँ. उसकी आंखें शर्म से झुक गईं और धीरे से बोली- वादा करती हूँ.

यह तो वो भी समझ गई कि मैं क्या बोलना चाहता हूं पर क्या बोलूंगा वो मेरे मुंह से सुनना चाहती थी पर उसने एक बार भी हाथ छुड़ाने की चेष्टा नहीं की. मैं- बहुत ख़ूबसूरत आँखे हैं आपकी, आपके मुस्कराने से गाल पर डिंपल पड़ते हैं, वो आपकी तरफ आकर्षित करते हैं. कह कर मैं एक पल रुक गया उसकी मनोदशा समझने के लिए, सलोनी के काले गाल पर भी शर्म की लाली नज़र आई, आंखों में एक अपनापन दिखा, लोहा गरम था, मैंने उसको अपनी तरफ खींचा तो वो कटी पतंग की तरह मेरी तरफ खिंची चली आई, मेरे पहलू में बैठ गई.

एक दिलकश अंदाज़ में मेरी तरफ देखा और शर्म से नज़र झुका ली. मेरे हाथ कंधों से सरकते हुए उसकी पतली कमर पर जा रुके. दूसरे हाथ में अभी भी उसका हाथ था और उसके बदन और हाथों का कंपन बता रहा थी कि उसकी भी इच्छाएं जग गई हैं।

मैंने उसकी आँखों में भरपूर नज़रों से देखा. उसमें इतनी प्यास दिखी कि न जाने किस बात ने मुझे मजबूर कर दिया कि उसके लाल होते काले गालों में चुंबन ले लिया और धीरे से बोला- तुम में बहुत कशिश है, एक आकर्षण है जो मुझे तुम्हारे पास आने को मजबूर कर रहा है। सलोनी सिहर सी गई, उसकी आँखें बंद सी हो गईं, उसके हाथ ने भी मुझे जोर से पकड़ लिया, उसकी खामोशी मुझे सता सी गई, मैंने भी उसको छोड़ दिया और बोला मुझे माफ़ कर दो. मैं बहक गया था तुम्हारी आँखों में.

काफी देर सन्नाटा सा रहा; फिर सलोनी बोली- राहुल जो तुम कह रहे हो वो सच है या सिर्फ मेरा दिल रखने को बोल रहे हो?” मैं बोला- मैंने जो भी बोला वो बिल्कुल सत्य है. मैंने पहले भी बोला था कि तुम पहली नज़र में मुझे अच्छी लगीं, तभी जब पता लगा कि हम दोनों की मंजिल एक है तो … आगे तुम खुद जानती हो. सलोनी- पर आज तक मेरे से किसी ने कहा क्यों नही? मेरा भी दिल करता था कि कोई मेरी तारीफ करे. “हो सकता है कि तुम्हारा ध्यान भी न गया हो उस तरफ, या तुम खुद अपने रंग के दर्द के कारण अपने आस-पास ऐसा संसार बना लिया हो कि और किसी को उसमें तुमने आने की इ्ज़ाज़त ना दी हो?” मैंने गहराई से कहा।

सलोनी- बात तो आप सही कह रहे हो.
मैंने ही एक अलग दुनिया बना ली थी. किताबें मेरी जिंदगी का हिस्सा बन गई थीं, घर पढाई और फिर घर, मैंने सोच लिया कि मैं एक बड़ी अफसर बनूंगी एक दिन, तो इसमें किसी और का क्या कसूर? मैं- जी … हम लड़के भी अच्छे होते हैं. कई बार वो भी रंग और चहरे पर नहीं जा कर वो सिर्फ दिल को सुनते और देखते हैं. पर दिल को सुनने के लिए उनका आपके पास आना जरूरी है, आपकी सीरत को जानना जरूरी है, अब देखिये न आप के साथ बात करके ही पता चला न कि आप कितनी स्वाबलंबी हैं. आप जैसी लड़की न जाने कितनों की रोल मॉडल हो सकती है जो खुद अपने दम पर दुनिया में आगे बढ़ना चाहती है, आज मैं आपको अपने साथ न लाता तो मुझे आपको जानने का अवसर ही नहीं मिलता.

सलोनी- आप बातें बहुत अच्छी करते हो. किसी को कैसे खुश रखना है ये कोई आप से सीखे. मैं- अब आप मुझे शर्मिंदा कर रही हैं. सलोनी- जी नहीं, सच कह रह रही हूँ. शायद आप दिल के साफ हैं, इसी लिए आप की मुस्कराहट में एक कशिश है. कहकर सलोनी कातिल मुस्कान के साथ फिर से मेरे दिल पर कटार चला गई.

कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!