चुदाई सेक्सी चूत की

हेल्लो दोस्तो

मैं कुछ दिनों से अन्तर्वासना की कहानियाँ पढ़ रहा हूँ। इन कहानियोँ से मुझे मेरी घटनाएँ याद आ गई।

मेरे नाम अमित है मैं पुणे से एम बी ए कर रहा हूँ। कद ५’८”, लंड ७” ।

मैं पुणे अप्रैल में पहली बार आया था, मुझे कॉलेज की फीस देनी थी। मेरी ट्रेन दोपहर १२ बजे स्टेशन पर पहुंची। अब मुझे कॉलेज जाना था। चूंकि मैं पुणे में नया था, मुझे सिटी बस के बारे में कुछ पता नहीं था। लेकिन ऑटो वाले बहुत ज्यादा भाड़ा बोल रहे थे। मैं स्टुडेंट हूं इसलिए इतना ज्यादा पैसा नहीं दे सकता था। तब मैंने कोई सवारी देखना शुरू किया, जो मेरे साथ भाड़ा शेयर कर ले। बहुत समय तक देखा कोई नहीं मिला।

फ़िर अचानक एक औरत आई और कहा वो ऑटो का भाड़ा शेयर कर सकती है। उसका घर भी रास्ते पर ही था। क्या फिगर था उसका, ३८-२८-३४ का फिगर था। उसके चूतड़ के तो क्या कहने जैसे निकलने के लिए बेताब हो।

उसने मेरा नाम पूछा, मुझे बहुत जोरों की प्यास लगी थी। तो उसने मुझे पानी दिया, वो शोपिंग कर के आ रही थी। मैं उससे सटकर बैठा हुआ था। मेरे जांघ उसके जांघ से टकरा रहे थे। मुझे स्वर्ग सा मज़ा आ रहा था।

ड्राइवर ने एक बार जोर से ब्रेक मारा तो मैं उस पर जा गिरा।

उसका घर आया। चूंकि हम दोनों में बहुत अच्छी दोस्ती हो चुकी थी, स्वाति उसका नाम था। उसके पास सामान बहुत था सो मैं उसका सामान लेकर उसके घर गया। क्या बंगला था उसका। फ़िर मुझे उसने बैठाया और पानी लेकर आई, फ़िर मैंने पूछा कि इतने बड़े घर में अकेले रहती हो क्या?

उसने जवाब दिया कि वो और उसका पति रहते हैं। अभी ३ महीने ही हुए है शादी को। फ़िर उसने कहा कि वो कपड़े बदल के आती है, मैं तब तक अकेले ही बैठा रहा। फ़िर वो बरमूडा और टी शर्ट में आई, मैं तो उसे देखता ही रह गया।

क्या गोरे गोरे जांघ थे उसके। फ़िर वो मेरे पास आकर बैठ गई। फ़िर उसने मेरे बारे में पूछा, मैं तो उसके गोरे जांघ देखकर पागल हुआ जा रहा था, मुझ से रहा नहीं गया, मैंने उससे कहा कि वो बहुत सेक्सी है।

उसने कहा कि बस सेक्सी और कुछ नहीं।

बस मैं समझ चुका था। मैंने कहा कि आप तो हॉट हो, मैं आपके साथ सिर्फ़ कुछ पल बिस्तर पर बिताना चाहता हूँ।

उसने कहा- कुछ पल क्यों जितना बिता सकते हो !

फ़िर क्या था मेरा रास्ता साफ़ हो गया था।

फ़िर उसने बताया कि वो चुदवाने की बहुत दीवानी है, रात भर मेरा पति मुझे चोदता है, मैं कालेज के समय से ही रोज रात को चुदाते आ रही हूँ। बिना चुदे मुझे नींद नहीं आती है। पर दिन को मेरे पति काम पर होते हैं, तो चुदाई की विडियो देखकर काम चलाना पड़ता है।

मैंने कहा- रानी अब मैं तुम्हें चुदाई का असली मज़ा देता हूँ जो आज तक तुम्हें किसी ने नहीं दिया होगा। फ़िर मैंने उसके लाल रसीले होंठों को अपने होंठों से किस करना चालू किया, क्या रसीले होठ थे, मैं तो बस चूस ही रहा था। कभी ऊपर के होंठ तो कभी नीचे के। फ़िर उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में दे दी, मैंने उसे चूसा, फ़िर मैंने अपनी जीभ उसे दी। इस तरह आधे घंटे तक चुम्मा चलता रहा। वो पूरी तरह से गरम हो चुकी थी।

फ़िर मैंने उसका टी-शर्ट उतार दिया और बरमूडा भी। अब वो मेरे सामने ब्रा और चड्डी में थी। क्या चूतड़ थे। चड्डी तो पूरी गीली हो चुकी थी। फ़िर मैं पूरा नंगा हो गया।

जैसे ही उसने मेरा ७” का लंड देखा तुंरत अपने मुँह में डाल लिया। अब वो मेरा लण्ड चूस रही थी, मैं उसके ब्रा और चड्डी उतार रहा था। क्या चूसती है। मैं उसके मुँह में अपने लंड को पूरा उसके गले तक डालता था, करीब आधे घंटे तक मैं उसके मुँह की चुदाई करता रहा।

मैंने बहुत देर तक उसके पूरे गोरे बदन को चाटा। ऐसा कोई अंग नहीं था जिसे नहीं चाटा हो। उसके चूतड़ को तो दबा दबा के लाल कर दिया था।

फ़िर उसे बेड पर लेटाया और और उसके चूत को चाटने लगा, उसने बताया कि उसने आज ही शेव की है चूत की। इसलिए चिकनी फ़ुद्दी चाटने में बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने उसकी चूत को अपने जीभ से चोदा, ऊँगली डाल के चोदा, चूस चूस के उसके चूत को लाल कर दिया । वो वही पर झड़ गई।

फ़िर मैंने उसके गांड को चाटना चालू किया। वो चिल्ला रही थी मर गई, आऽऽ आ आऽऽ आऽ आऽऽऽऽऽऽ आ !

मुझे मजा आ रहा था। क्या गांड था, कुछ देर बाद वो रिचार्ज हो गई।

फ़िर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत में डाल दिया। उसे चोदता रहा, पहले धीरे धीरे चोदा फ़िर एक्सप्रेस की स्पीड से चोदा।

वो चिल्ला उठी- बस कर हरामजादे !

चूंकि वो बहुत अच्छे घर से थी, उसे गन्दी गालियां नहीं आती थी।

मैं फ़िर भी चोदता रहा। अब तो वो भी साथ देने लगी। अपने चूतड़ उठा कर साथ देने लगी।

उसने कहा- फाड़ दो आज इस चूत को।

फ़िर मैंने उसे कुतिया की तरह किया और पीछे से चोदा। बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने उससे कहा कि मैं तुम्हारे चूत का भोसड़ा बनाऊंगा ! क्या लग रही थी वो ! सिर्फ़ सेंडल पहन कर चुदा रही थी !

हम दोनों साथ में झड़ गए। वो शादीशुदा थी, इसलिए झड़ने का कोई डर नहीं था मैं उसकी चूत में ही झड़ गया।

हम दोनों सो गए, कुछ देर बाद मैं जगा, वो नंगी सो रही थी ! मैंने उसे जगाया, फ़िर मैंने उसकी गांड मारी।

उसने कहा कि उसने कभी गांड नहीं मराई क्योंकि गांड मराने से जवानी ढलती है। पर तुम्हारे लंड को देखकर मैं अपने आप को रोक नहीं पाई।

फ़िर मैंने उसकी गांड मारी, और उसके गांड में ही झड़ गया। अब हम दोनों बहुत थक चुके थे। फ़िर मैंने अपनी मुठ मारी और सारा माल उसके मुंह में दे दिया। फ़िर मैंने उसकी गांड और चूत को चाट कर साफ़ किया।

फ़िर हम दोनों साथ नहाए, फ़िर नाश्ता किए।

फ़िर उसने मुझे १००० रूपए देना चाहा पर मैंने नहीं लिया। फ़िर उसने मेरा फ़ोन नम्बर लिया। मैं आज पुणे में रहता हूँ। और स्वाति को कई बार चोद चुका हूँ। जब भी उसे जरुरत महसूस होती है, मुझे बुला लेती है।

हमारा राज़ आज तक कोई नहीं जान पाया।

आप को मेरी घटना कैसी लगी? मेल करें।

[email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!