बहन का नग्नतावाद से परिचय-12

प्रेषक : आसज़

सम्पादक : प्रेमगुरू

बुधवार सुबह

मैं बुधवार की सुबह बहुत जल्दी उठ गया, सूरज अभी तक पहाड़ियों से बाहर नहीं आया था लेकिन अभी से हवा गर्म तापमान से एक आज का दिन गर्म लग रहा था। मुझे मेरे सिर को हल्का करने के कुछ व्यायाम की जरूरत थी।

अपनी बहन करेन के लिए एक नोट छोड़ने के बाद मैंने एक तौलिया और अपना आइपॉड लिया और केबिन छोड़ दिया। एक नदी के किनारे जोगिंग करने के लिये। मैं छोटे से रेतीले मार्ग जो केबिनों के नजदीक से गुजरता था, छोटे कदमों से दौड़ते निकला। वहाँ सिवाय एक कर्मचारी के जीवन का कोई संकेत नहीं देखा था। वह एक आउटडोर खाना पकाने की जगह के आसपास की सफाई कर रही थी और नग्न थी, खूबसूसरत नंगे चूतड़ मुझे दिखाई दिए।

उसने वहाँ से हाथ हिला कर मुझे अभिवादन किया तो मैंने भी उसी अंदाज़ में उसका जवाब दिया।

मैं अपने कानों में इयरफ़ोन लगा कर गाना सुन रहा था, मैं अपनी दुनिया और विचारों में खो गया था।

पिछली रात की घटनाओं से मुझे करेन की चिंता होने लगी थी और मुझे अफ़सोस हो रहा था कि मैं उसे अपने साथ यहाँ क्यों लाया।

मैं थोड़ी तेजी से भागा, सोचा कि वापस आकर इस बारे में उससे बात करूंगा।

जैसे ही मेरी मांसपेशियों को गर्मी मिली और मैंने बेहतर महसूस किया शारीरिक और मानसिक रूप से।

मैंने एक बार फ़िर सोचा कि पिछली रात की घटनाओं से क्या नुकसान हुआ?

क्या हुआ अगर मेरी बहन ने एक आदमी का हस्तमैथुन करने के लिये वैल की मदद की? तो क्या हुआ अगर उसने मेरे उत्थान और मेरे यौन संतुष्टि को देखा?

हमारे नए दोस्त हिंसक या महत्वाकांक्षी नहीं थे, वे सब वास्तव में अच्छे लोग थे जिन्होंने थोड़ा सा आपसी आनंद लिया।

करेन बड़ी थी, होशियार और मुझसे बेहतर शिक्षित ! अगर उसे किसी के साथ कोई समस्या होती तो मुझे यकीन है कि वह मुझे जरूर बताती।

मुझे नग्न दौड़ने के अनुभव से प्यार रहा है और जब मैं नदी के किनारे केम्प ग्राउंड में पहुंचा तो मेरी जांघों से निरंतर टकरा कर मेरा लिंग थोड़ा खड़ा हो गया था।

अभी तक वहाँ कोई नहीं था, सब टेंट बंद थे। मैं पूरे जोश के साथ अपने लिंग को ऊपर-नीचे झुलाते हुये भागा, आइपॉड पर अच्छा संगीत बज रहा था और चिड़ियाँ और नदी के ऊपर चक्कर लगा रही थी। पहली बार मैंने अपने आप से कहा- मैं इसी तरह जीना चाहता था और यह वो जगह है जहाँ से मैं रिटायर होना चाहता हूँ।

मैंने नदी के तट की ओर पानी की एक लहर आते देखी और मैं रूक गया, पानी के किनारे एक पेड़ के नीचे खड़ा हो गया।

मैं पेड़ के पास खड़ा था, संगीत को बंद किया और पानी में होती हलचल को देखने लगा। मुझे उम्मीद थी कि वहाँ पानी में प्लेटीपस हो सकता है। प्लेटीपस एक शर्मीला जानवर है और इसे देखने का मौका कम ही मिलता है।

तब मुझे पीछे से एक तम्बू की ज़िप खुलने की आवाज सुनाई दी और किसी के मेरी ओर चलने की।

मैं अपने कंधे के ऊपर से घूम कर देखा तो पूल में मिली एशियाई पत्नी मेरी तरफ़ आ रही थी। यह वही थी जिसे मैंने और करेन ने गलती से जंगल में अपने पति के साथ मुखमैथुन करते देखा था। वह अपने छोटे स्तनों के ऊपर एक सफेद टी शर्ट पहने थी, लेकिन उसकी चिकनी योनि खुली थी।

उसने मुझे प्रश्नात्मक देखा, मैं फुसफुसाया- प्लेटीपस है, उसे डराना नहीं !

वह मेरे बगल में रूक गई, मैंने पानी की चक्करदार लहर की ओर इशारा किया।

“मैंने कभी नहीं देखा है।” उसने सांस ली और उसी पल वो जानवर सतह के ऊपर आ गया। यह अजीब सा सांप जैसे शरीर का और अपने छोटे झिल्लीदार पैरों से यह किनारे की तरफ तैरने लगा।

महिला ने खुशी में किलकारी मारी और एक पल में प्लेटीपस ‘छप्प’ से नीचे पानी में चला गया, जो निसंदेह नदी तट पर नीचे गहरे कोई अपनी जलमग्न बिल में भाग गया।

“ओह, मुझे खेद है !”उसने कहा,”मैंने इसे डरा दिया लगता है।”

“हाँ !”मैंने कहा।

“मैं माफी चाहती हूँ !” वह मेरी तरफ घूमी,”मिस्टर.

.?”

“टिम !”मैंने कहा और अपना हाथ उसकी ओर बढ़ाया।

“मियाको !”उसने मुझसे हाथ मिलाते हुए कहा।

तभी एहसास हुआ कि मैं अभी भी उत्तेजित था और मेरा लिंग उसके हाथ से इंच भर की दूरी पर था।

“क्षमा करें !”मैंने कहा और जल्दी से इस पर तौलिया डाल दिया।

“मुझे नहीं लग रहा था कि कोई और जाग रहा होगा।” मैंने समझाया।

“मैं शिविर में तो जल्दी जागती हूँ।”उसने कहा,”तम्बू मे इतना आराम नहीं है। मेरा पति दोपहर तक सोना पसंद करता है। वह आपके जैसे ऊर्जावान नहीं है !”

वह मेरे लिंग पर नीचे नजर मारते हुये मंद-मंद हंसी और उस ओर इशारा करते हुए वापस चली।

“मुझे लगता है कि यहाँ जल्दी जागने का विचार बहुत अच्छा है !” मैंने कहा,”यहाँ काफ़ी शांति है और देखो अभी भी बाहर कंगारू चर रहे हैं।”

उसने खुशी में फिर किलकारी मारी उसके हाथ से ताली बजाकर।

“मैं चाय बनाने जा रही हूँ !” उसने कहा,”आप पीना चाहेंगे?”

“चाय मुझे पसंद है लेकिन मैंने अपनी दौड़ अभी तक खत्म नहीं की है।”

“चाय बनने में समय लगेगा !” उसने कहा,”जब तक आप वापस आयेंगे तब तक ही शायद बनेगी।”

“ज़रूर !” मैं मुस्कुरा दिया,”बाद में मिलते हैं।”

मैंने एक दौड़ लगाई जंगल में और धीरे धीरे जॉगिंग करते वापस आ गया।

जिस समय मैं उनकी कैम्पिंग की जगह पर वापस आया, मेरा लिंग सुप्तावस्था मे चला गया था। मियाको एक छोटे से गैस चूल्हे पर पानी उबाल चुकी थी और चाय के दो कप की तैयारी में व्यस्त थी।

“हाय !” उसने कहा,”दूध?”

” हाँ !”

वह मेरे लिए चाय ले आई। हम नदी तट पर बैठे थे, अब भी कुछ उम्मीद के साथ कि प्लेटीपस फिर से प्रकट हो सकता है।

“क्या आप यहाँ एक नियमित रूप से आने वालों में से हैं?” उसने पूछा।

“बहुत ज्यादा” मैंने कहा,: एक वर्ष में कई बार !”

“वो आपकी पत्नी होगी ना जिसे हमने आपके साथ पूल में देखा था?”

“नहीं !” मैंने बताया उसे अपनी पत्नी के विदेश होने के बारे में और मेरी बहन के साथ छुट्टी साथ बिताने के बारे में।

“ओह, तुम बहादुर हो !” उसने कहा,”अपनी बहन के सामने नग्न होने की हिम्मत है तुममें !”

“ओह, इसमें कोई बड़ी बात नहीं !” मैंने झूठ बोला,” तुम लोग यहाँ अक्सर आते हो?”

“नहीं !” उसने कहा,”हम दोनों के लिए पहली बार है।”

“यहाँ मजा आ रहा है?”

“हाँ, हम इसे पसंद कर रहे हैं।” वह मुस्कुराई,”बहुत ….
रोमांचक है।”

“मुझे खुशी है कि तुम इसे पसंद कर रही हो !” मैंने कहा,”लेकिन वन्यजीवों को डराना बन्द कर दीजिए।”

“और तुम…” वह ठहाका मार कर,”…अपने लिंग से मेहमानों को डराना बंद कर दो।”

“सच?” मैंने कहा,”मैं इस के बारे में माफी चाहता हूँ। मैंने सोचा था कि मैं अकेला हूँ।”

“मैं सिर्फ मजाक कर रही हूँ !”उसने कहा,”मेरे पति एक यही समस्या है, यहां अभ्यस्त होना मुझे लगता है कठिन है।”

तभी उसका पति तम्बू से निकल कर अंगड़ाई लेते हुए अपनी पत्नी के लिए चारों ओर देख रहा था। उसका लिंग पूरी तरह से खड़ा था। वह उनकी गेंदों को खुजला कर उसको नाम पुकार रहा था।

“मैं यहाँ पर हूँ।” मियाको ने कहा,”आओ और टिम से मिलो ! हमने अभी एक प्लेटीपस देखा था !”

वह मंथर गति से चल कर हमारे पास आया और माइक के नाम से अपना परिचय परिचय दिया। जैसे ही हमने हाथ मिलाया, मैं समझ गया कि उसने मुझे पहले दिन उसकी पत्नी के साथ मुखमैथुन करते जासूसी करने वालों में से एक रूप में पहचान लिया।

लेकिन अपनी पत्नी पर वहाँ चाय के लिये मेरे पास बैठने के लिए नाराज होने के बजाय उसके चेहरे एक मुस्कराहट आ गई और मुझे हल्की सी आंख मारी।

मियाको ने उसका चाय पेश की।

माइक ने चाय पकड़ कर अपनी पत्नी को हम दोनों के बीच बैठा लिया। उसने आलस्य में अपने लिंग को कई बार मला और पूछा,”तो ! तुम्हारी पत्नी कहाँ है?”

“ओह, वह यूरोप में है !” मैंने कहा,”मैं यहाँ अपनी बहन के साथ हूँ।”

वह दंग रह गया।

“यार ! “उसने कहा,”तुम तो मुझे से भी अधिक साहसी हो।”

मियाको खिलखिलाई और उसका हाथ धीरे से अपने पति के वृषण पकड़ने के लिए उसकी जांघों के बीच पहुँच गया।

माइक पीछे की ओर झुका और पैरों को चौड़ाई में फ़ैला लिया।

“क्षमा करें दोस्त ! “उसने कहा,”हम नए हैं और इसकी परवाह नहीं करते कि ऐसे काम के लिए कोई नियम है या नहीं है।”

मियाको ने धीरे से उसके खड़े लिंग पर ऊपर और नीचे उसका हाथ फिराया,”बेचारे बच्चे !” उसने कहा।

मैं हँसा,”शायद यह बेहतर होगा कि मैं आप लोगों को अकेला छोड़ दूँ !”

“अरे, हम केवल चिढ़ा रहे हैं !” माइक ने कहा।

और मियाको ने उसका हाथ लिंग से हटा लिया और मेरी ओर खेदभाव से देखा।

“और तुम कपड़े पहने यहाँ क्या रही हो बेबी?” माइक ने मियाको से उसकी टी शर्ट की आस्तीन खींचते हुये पूछा।

“मुझे कल रात को ठंड लगी थी क्योंकि तुमने मुझे गर्म नहीं रखा था।” उसने एक मुस्कराहट के साथ कहा और टीशर्ट उतारकर दूर फेंक दी। हमें उसके दोनों छोटे और नुकीले स्तनों एक मस्त नजारा दिख रहा था।

उसने पीछे हाथ रखे और हम दोनों के बीच ही पीछे की ओर झुक गई, उसके छोटे स्तनों पर गहरे भूरे रंग के आश्चर्यजनक बड़े चुचूक बाहर निकले हुए थे।

“बहुत अच्छा किया बेबी !” माइक ने कहा। ” टिम क्या तुम सहमत हो मेरी बात से?”

“यकीनन !”मैंने कहा,”सब कुछ नग्न ही बेहतर है।”

“अरे, अब एक अच्छा मौका है !” मियाको ने कहा,”टिम, तुम हमारी तस्वीर लोगे?”

“ज़रूर !” मैंने कहा,”मुझे खुशी होगी।”

वह तम्बू की ओर भागी और एक डिजिटल कैमरे के साथ वापस आई।

जल्द ही मैं उनकी फोटो ले रहा था। हाथ में हाथ लिये खड़े, एक दूसरे को सामने से गले लगाये हुये और अंत में पानी के किनारे एक बड़े तौलिए पर करीब पर एक साथ बैठे हुए।

“मेरी इच्छा थी कि मेरे स्तन बड़े होते !” मियाको ने हाथों से अपने छोटे स्तन छुपाते हुए कहा,”आपकी बहन की तरह टिम !”

“वे उस पर अच्छे लगते हैं प्रिय !” माइक ने कहा,”लेकिन तुम्हारे तो मैं बस जैसे हैं, वैसे ही पसंद करता हूँ।”

वह उसको चुम्बन देने के लिये मुड़ी और इसके साथ ही अपने दाहिने हाथ को उसके बाएं स्तन पर ले गया और उसकी उंगलियों के बीच चुचूक को दबाने लगा। उसने उसकी गर्दन और माथे को चूमा और सहज ही मियाको के हाथ में अब उसका उत्तेजित लिंग आ गया।

कहानी अभी जारी रहेगी !

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!