हाथ में हाथ-1

आप कहाँ जा रहे हैं?

जहाँ तक बस जाएगी।

बस कहाँ तक जाएगी?

आपको कहाँ जाना है?

खेड़ी तक ! लेकिन सुना है कि रास्ते में बाढ़ का पानी इतना है कि बस का निकलना कठिन है?

सुना तो मैंने भी है, मगर मै’म आपको इन हालातों में यात्रा नहीं करनी चाहिए थी। मुझे तो अभी सफर के दौरान ही पता चला है कि उस तरफ बाढ़ का पानी अधिक फैला हुआ है। वैसे मेरा जाना जरूरी है, क्योंकि हमारी तीन माह के लिए हॉस्पिटल में ट्रेनिंग चल रही है।

बस में मेरी सीट पर बैठी एक तरुणी से मेरा वार्तालाप चल रहा था।

सुंदर युवती, फैशनेबल परिधान, किंतु सभ्य व शालीन, नेत्रों में अदभुत आकर्षण, पतले होंठ जैसे किसी चित्रकार ने अपनी कला का प्रदर्शन किया हो, नाक प्रकृति ने नाप तौलकर लगा रखी थी। उसकी यह छवि हर किसी की आँखों में पहली झलक में ही समा जाने वाली थी।

आवाज में मधुरता, होंठों पर धीमी मुसकान उसका जैसे संपूर्ण परिचय दे गई।

बस अपनी यात्रा पर अपनी गति से चल रही थी। दो दिन पूर्व ही राज्य भर में भयंकर बाढ़ आई थी। गाँव- कस्बों और शहरों की गलियों, घरों में पानी घुस गया था। बाढ़ का पानी इतना था कि कहीं-कहीं तो पूरे-पूरे गाँव डूब गए। अपने पशुओं को लेकर, थोड़े सामान के साथ ही गाँव के बाहर टीलों पर डेरा डालना पड़ा। शहरों में लोग छतों पर सामान रखे बैठे थे। सैकड़ों जानें जा चुकी थीं। कुछ लोग बाढ़ में बह गए, अपनों से बिछड़ गए। हमारा गाँव ऊँचाई पर है, डूबने का प्रश्न दूर था। फिर भी मैं घर वालों को संभालने के लिए अपने गांव चल पड़ा था। मैंने उस लड़की को सांत्वना देते हुए कहा- आप घबराइए नहीं ! मैं आपके साथ हूँ, कोई दिक्कत आई तो मैं संभाल लूंगा।

थैंक्यू !

वैसे बस आखिरी छोर तक ही जाएगी।

पानी सड़क पर अधिक आ गया और बस रुक गई तो?

तो देखा जाएगा, जो होगा सो होगा। बस में अन्य सवारियाँ भी हैं, जो औरों के साथ होगा, हमारे साथ भी होगा। अकेली होतीं तो डरने की बात थी।

बस जैसे-जैसे आगे बढ़ रही थी, सड़क पर बाढ़ का पानी बढ़ता जा रहा था। बस की गति भी धीमी पड़ती जा रही थी, लेकिन चालक-परिचालक समेत सभी सवारियों के दिल की धड़कन तेज हो रही थी। सफर आधे से अधिक तय हो चुका था। बस वापस जाने की स्थिति में भी नहीं थी। चालक हिम्मत से आगे बढ़ता रहा।

परन्तु कुछ और आगे जाने पर पानी इतना आ गया कि बस ने आगे बढ़ने से मना कर दिया। उसके रुकते ही मन में अनेक प्रश्न खड़े हो गए। अब तक सफर तीन-चौथाई कट चुका था। आगे पानी ही पानी था और अभी गाँव 10 मील दूर था, अंधेरा हो चुका था।

सवारियाँ बस से उतरकर हिम्मत करके पानी में से पैदल हो लीं। दो मील की दूरी पर एक गाँव और था। आधी सवारियाँ तो उसी गांव की थीं। इतने पानी में पैदल तथा लंबे सफर के बारे में सोचकर युवती घबरा गई।

मैंने हिम्मत बंधाते हुए कहा- देखिए, घबराने से काम नहीं चलेगा। आप इस जंगल में पानी के बीच रात भर बस में तो नहीं रह सकेंगी, चलना तो पड़ेगा ही। एक औरत भी तो यहाँ है। घबराने की बात नहीं। दो मील पर एक गांव है। आगे के लिए शायद वहीं से कुछ वाहन मिल जाए।

लेकिन इतने पानी में सड़क पर कहीं गड्ढा हुआ तो.

.?

मैडम ! आपको बुरा न लगे तो मेरा हाथ पकड़ लीजिए, मुझे तैरना आता है। आपको डूबने नहीं दूँगा। आप बैग को एक हाथ से ऊपर उठाइए तथा दूसरा हाथ मुझे थमा दीजिए।

थैंक्यू !

उसने अपना हाथ मुझे पकड़ाते हुए आभार व्यक्त किया। हम दोनों अन्य लोगों के पीछे-पीछे संभल कर चल पड़े।

“अगर बुरा न लगे तो क्या मैं आपका नाम जान सकता हूँ?”

“मेरा नाम रंजीता है। घर वाले मुझे..”

“रंजू कहते हैं ! है ना?”

“हाँ ! आपने सही अंदाजा लगाया।” कहते हुए वह मुस्कुराई।

उदास चेहरे पर क्षणिक मुस्कान भी अच्छी लगी। मैंने उस मुस्कान में मिठास घोलते हुए पूछा,”क्या मैं आपको रंजू कह सकता हूँ?”

“ओ श्योर.. आपने अपना नाम नहीं बताया?”

“मनीष… लेकिन घर वाले मुझे प्यार से मनु कहते हैं..”

बढ़ते हुए अंधेरे को देख कर अगले ही क्षण रंजू के चेहरे पर चिंता की रेखाएँ खिंच गई। बाढ़ के पानी को चीरते हुए हम अन्य लोगों से दस-पंद्रह कदम पीछे-पीछे आगे बढ़ रहे थे। जैसे-जैसे बाढ़ का पानी आगे सड़क पर बढ़ता गया, रंजू मेरे हाथ को मजबूती से पकड़ती गई। हाथ के कसाव के साथ ही मेरा दिल भी धड़कता चला गया।

घना अंधेरा था, हम थोड़ी दूर चले थे, पूरे आकाश को बादलों ने घेर कर चांद-तारों को अपने आगोश में ले लिया। बादलों की गड़गड़ाहट के साथ चमकती बिजली जहाँ मन में डर जगा रही थी, वहीं अपनी रोशनी से बार-बार हमें रास्ता भी दिखा रही थी। थोड़ी-थोड़ी ठंड भी महसूस होने लगी थी।

हम धीरे-धीरे पानी को मापते हुए चल रहे थे। आगे-आगे चलने वाले कुछ गांव वाले पीछे मुड़कर हमें बार-बार देख रहे थे। शायद वे सोच रहे थे कि हम दोनों संबंधी ही हैं।

उन्होंने कई बार पीछे मुड़कर कहा,”आप हमारे साथ चलिए।”

हमने कहा,”हम आपके पीछे-पीछे आ रहे हैं। आप हमारी चिंता न करें, हम आ जाएँगे।”

थोड़ा आगे बढ़े तो सड़क पर एक हलका-सा गड्ढा आ गया। रंजू का पैर उसमें गया तो वह संतुलन खो बैठी और हल्की सी चीख के साथ वह आगे गिरने लगी। मैंने तुरंत उसे अपनी बांहों में संभाल लिया। रंजू कए उन्नत वक्ष मेरी बाजू से छुए लेकिन मुझे कोई कामुक अहसास नहीं हुआ।

थैंक्यू कह कर उसने चैन की सांस ली। कुछ देर पहले तक हम दोनों अजनबी थे, लेकिन अब हमारे बीच एक अजीब आकर्षण-सा पनपता जा रहा था। मेरी नीयत बुरी नहीं थी, बस उसके प्रति एक लगाव-अपनापन सा महसूस होने लगा था। चाहने लगा कि इसे सुरक्षित मंजिल तक पहुँचा सकूँ।

लेकिन शायद मेरे अन्तर्मन में कहीं एक चाहत पैदा होने लगी।

एक अनजान लड़की का अजनबी लड़के के साथ यों अनिश्चित सफर ! हल्के सर्द मौसम में हथेलियों का गर्म स्पर्श कहीं मन में भावनाएँ जगा रहा था। बादलों की गड़गड़ाहट से भी ज्यादा मेरे मन में भावनाओं और विचारों की टकराहट हो रही थी।

हम पानी में संभल-संभल कर कदम रखते हुए बढ़ रहे थे। बूंदें पड़नी शुरु हुई तो रंजू और घबरा गई।

मैंने समझाया,”रंजू ! घबराने से बात नहीं बनेगी। आगे बढ़ने के सिवा हमारे पास कोई चारा भी नहीं है। गांव वाले भी साथ में हैं। अब पानी, बारिश और ठंडी हवा को तो सहन करना ही पड़ेगा।”

बारिश धीमी थी, लेकिन इतनी तो थी ही कि हम पूरी तरह भीग गए। रंजू का कमीज उसके उरोजों से चिपक कर उनका पूरा सही आकार बता रहा था और साथ ही उसकी ब्रा का डिजाइन भी !

रंजू ठंड़ से कुछ कांपने-सी लगी थी तो मैंने अपने बैग से अपनी कमीज निकाली और रंजू की ओर बढ़ा दी,”और कुछ नहीं है तो यही सही, कुछ तो बचाव होगा।”

वास्तव में अपने बेकाबू होते जा रहे मन को काबू में रखने के लिए मुझे कुछ नहीं सूझा इसके सिवा !

कहानी जारी रहेगी।



Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!