दूसरी चूत-1- मेरी बहन की चूत

दोस्तो, आपने मेरी कहानी सबकी इच्छा पूर्ति पढ़ी होगी। मैं आज आप को अपना एक और अनुभव सुनाने जा रहा हूँ। मैं अपनी बीवी को बोलता रहता था कि तुमने तो दूसरे लण्ड के स्वाद ले लिए पर मुझे तो दूसरी चूत मिली ही नहीं।

वह बोलती थी- तुम कोशिश करो और मैं भी कर रही हूँ, तुम्हें कुछ खास तोहफा ढूंढ कर दूंगी।

इसी बीच गर्मियाँ आ गई। कुछ ही दिनों में गर्मी की छुट्टियाँ शुरू हो गई और मेरी बहन हमारे घर कुछ दिनों के लिए आ गई। मैंने भी कुछ दिन की छुटियाँ ले ली थी। हम लोग खूब मस्ती कर रहे थे। मैं देख रहा था कि मेरी बहन और बीवी दोनों ही कुछ ज्यादा ही खुले गले वाले कपड़े पहन रही हैं और डबल मीनिंग वाले चुटकले भी सुना रही हैं।

मैं भी अब इसमें मजा लेने लगा। दोनों का मटक मटक कर चलना और लहराना। अब तो मैं इससे आगे की सोचना लगा कि क्या कुछ और ही खिचड़ी पक रही है जो मुझे समझ नहीं आ रही है।

दूसरे दिन मैंने उनकी बातें सुनी तो मैं थोड़ा सन्न रह गया क्योंकि उनके मन में जो चल रहा था वह मैं अभी तक नहीं सोच पाया था। वो दोनों ही सेक्स और पति पत्नी अदला बदली की बातें कर रही थी। दोनों एक दूसरी से पूछ रही थी कि क्या तुमने कुछ ट्राई किया है? फिर दोनों बोली- अगर मौका मिले तो सोचा जा सकता है और अगर खतरा ना हो।

यह सुन कर मैं और रस लेकर बातें सुनने लगा।

तभी मेरी बीवी ने मेरी बहन को बोला- तुम किससे सेक्स करना चाहोगी अगर मौका मिले तो?

वह बोली- आप नाराज मत हो जाना, मैं तो तुम्हारे पति के साथ सेक्स करना चाहती हूँ।

यह सुन कर मेरी बीवी बोली- ऐसा है तो फिर हम तीनों मिल कर मजा लेते हैं।

यह सुन कर मैं भी उत्तेजित हो गया। अब मैं इन्तजार में था कि क्या होगा।

रात को जब हम सब लोग खाना खाकर सोने की तैयारी कर रहे थे तो बच्चों को अलग कमरे में सुला दिया गया और हम अभी टीवी देख रहे थे।

तब टीवी देखने वाले सिर्फ मैं, मेरी बीवी और बहन ही थी। मेरी बीवी ने मेरी छाती पर सर टिका दिया और मेरी टांगों पर हाथ फिराने लगी। मेरे मन में भी मस्ती आने लगी और मैंने देखा कि मेरी पत्नी की ननद हमें तिरछी नजरों से देख रही है।

मैंने बीवी से धीरे से बोला- चलो अपने कमरे में चलते हैं।

वह बोली- शरमा रहे हो?

मैं चुपचाप बैठ कर इन्तजार करने लगा कि क्या होगा?

अब मैंने भी धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और वह धीरे धीरे सिसियाने लगी। मुझे लगा कि यह सब ठीक नहीं है। मैं रुक गया और इंतज़ार करने लगा। मेरी पत्नी ने मुझे किस करना शुरू कर दिया।

मेरी बहन भी हमारी तरफ देख रही थी, वह बोली- क्या तुम अभी भी बहुत शरमाते हो?

मैं कुछ नहीं बोला। अब मेरी पत्नी ने मुझे मेरे होंथों पर किस करना शुरू कर दिया और पूरी तरह मेरे ऊपर आ गई।

मैं भी अब उत्तेजित हो गया और उसे चुम्बन करने लगा। हमारे होंठ एक दूसरे के रस को चूस रहे थे।

मैंने देखा कि मेरी बहन ने भी अपनी चूत को ऊपर से सहलाना शुरू कर दिया और हमें देखने लगी।

मैंने अपनी पत्नी को फ़िर कहा- चलो बैडरूम में चलते हैं। और फिर हम दोनों उठ कर अपने कमरे में आ गए।

मैंने पत्नी को बिस्तर पर गिरा दिया और उसके चूचे दबाने लगा। उसने मेरे सर में हाथ फिरना शुरू कर दिया और मुझे उकसाने लगी। हम लोगो ने दरवाजा बंद नहीं किया था। मेरी पत्नी ने मेरे सब कपड़े उतार दिए और अब मैं केवल अंडरवीयर में ही था।

उसमें खड़ा मेरा लण्ड ऐसे लग रहा था जैसे टेंट में तम्बू खड़ा हो। मैंने भी पत्नी के कपड़े उतारने शुरू किये और वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में रह गई।

मैं अपनी सेक्सी पत्नी को देख कर अब खूब उत्तेजित हो चुका था और मैं अब उसके होटों को चूसने लगा। वह भी मेरे होटों को चूसे जा रही थी।

मैंने देखा कि मेरी बहन भी दरवाजे के पास आ गई थी और हमें देख रही थी। वह अपने मोटे चुच्चे दबा रही थी और हमें देख रही थी।

अब मैंने अपनी पत्नी की पैंटी भी उतार दी और उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा। लगता था कि उसने सुबह ही चूत के बाल साफ़ किये थे। चिकनी चूत देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया और मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया, उसकी ब्रा भी खोल कर नीचे गिरा दी और उस के 38 इन्च के उरोज उछल कर बाहर निकल आये जो कि मेरी सबसे बड़ी कमजोरी हैं।

अब मैंने उसकी टाँगें खोली और चूत को देख कर जीभ होटों पर फिराने लगा। मैंने अपने होंट उसकी चूत पर लगा दिए और उसकी चूत को चाटने लगा। मेरी जीभ उसकी चूत में अंदर तक जाने लगी और उसकी रसीली चूत को मैं चाटने लगा।

वह सिसकारियाँ लेने लगी, आनन्द से किलकारियाँ मारने लगी और मेरे सर को अपनी चूत पर दबाने लगी।

मैं अपनी पूरी जीभ उसकी चूत में पेले जा रहा था और उसे अन्दर पूरा घुमा रहा था। उसकी चूत पानी छोड़ रही थी और वह नमकीन झरना मुझे तर किये जा रहा था।

तभी किसी ने मेरे लण्ड को पकड़ कर हिलाना शुरु कर दिया। मैंने देखा कि मेरी बहन भी अन्दर आ गई थी और वह सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी। उसने मेरे अंडरवीयर को भी खींच कर उतार दिया और मेरे लण्ड को सहलाने लगी। मैं तो झनझना गया।

मेरी बीवी बोली- क्यों हैं न सेक्सी मेरी ननद? देखो कैसे तुम्हारे लण्ड को देख रही है।

मैंने देखा कि वो तो मेरे लण्ड को सहलाये जा रही थी और बस उस पर झपट पड़ना चाहती थी। मैंने उससे पूछा- तुम क्या चाहती हो? वह बोली- मजा और खूब सारा मजा।

तो मैंने भी सोचा कि आज तो बहनचोद बन जाता हूँ, इस सेक्सी बहन की चूत और गाण्ड सब मारता हूँ, मैंने बोला- अभी तो मैं पहले तुम्हारी सेक्सी भाभी की चूत का रस पी लूँ, तब तक तुम जरा मेरा लण्ड चूसो और इसे तैयार कर दो।

अब मैंने अपनी बीवी की टाँगें फैलाई और चूत को दोनों उंगलियों से खोल कर चूसने लगा। मेरी बहन ने मेरे लण्ड को अपनी जीभ से चाटना शुरू किया। क्या मस्त चाट रही थी वह !

मेरे लण्ड में अकड़न आनी शुरू हो गई और उसने उसको पूरा मुँह में लेना शुरू कर दिया, अब मैं इधर अपनी जीभ अपनी सेक्सी बीवी कि चूत से बहते रस को चाट रहा था और वह चिल्ला रही थी- चाट लो मेरी चूत ! पी लो इसका रस ! और मेरे सर को अपनी चूत में दबाये जा रही थी।

मेरी बहन ने मेरे लण्ड को पूरा मुंह में लेकर चूसे जा रही थी और मैं तो सातवें आसमान पर था। इधर मेरी सेक्सी बीवी ने चूत को उछालना शुरू कर दिया और सिसिया रही थी- गई मैं तो ! पी लो इस मेरी चूत के रस को ! जीभ और अन्दर तक पेल दो, और अन्दर। और साथ साथ चूत उछाल रही थी। और फिर उसने मेरे सर को अपनी चूत पर दबा दिया और मैं भी झरने से पानी पीने लगा। इस चूत के रस में भी क्या मस्ती है यह बताना बड़ा मुश्किल है पर जो मजा है वो किसी में नहीं। कहानी जारी रहेगी ! [email protected] 2808

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!