चाची का भोंसड़ा चोदा

सभी पाठकों को मेरा प्रणाम। मेरा नाम अर्जुन चौधरी है। मैं पाली (राजस्थान) में रहता हूँ और अंतरर्वासना का नियमित पाठक हूँ।

यह कहानी आज से करीब 6 साल पहले की है। जब मैंने जवानी में कदम रखा था। वैसे मैंने मुठ तो बहुत पहले से मारनी चालू कर दी थी, जब साल का था। उस समय लंड से पानी तो नहीं निकलता था, पर बड़ा मजा आता था।

मैंने मेरे गाँव में बहुत से लड़कों की गांड भी मारी है। वो सब मैं आगे की कहानियों में बताऊँगा। यह कहानी मेरी चाची की चुदाई की है।

गर्मी की छुट्टियाँ बिताने के लिए मैं मेरे गाँव में गया हुआ था। मैं और मेरी बहन पिंकी बाहर बरामदे में ही खाट लगाकर सोते थे। मेरे चाचा और चाची अन्दर वाले कमरे में सोते थे।

गाँव में मेरे चाचा-चाची पिंकी और मेरे दादा-दादी रहते हैं। परन्तु दादा-दादी किसी काम से दूसरे गाँव गए हुए थे। उस समय मेरे चाचा 44 साल चाची 34 की होगी।

अचानक रात को नींद खुली तो मैंने पानी पीने के लिए उठा। पानी पीते वक्त अन्दर के कमरे से मुझे कुछ आवाजें सुनाई दीं। मैंने खिड़की के एक छेद से अन्दर देखा तो मैं देखते ही रह गया।

मेरी चाची मेरे चाचा लंड मुँह में लेकर लॉलीपोप की तरह चूस रही थीं। मेरे चाचा मेरी चाची से करीब दस साल बड़े हैं। मेरी चाची बार-बार लंड चूस रही थीं पर लंड ढीला होने की वजह से चाची को मज़ा नहीं आ रहा था। आखिर आधे घंटे की कोशिश के बाद लंड में थोड़ी से अकड़ आई। अब मेरी चाची पलंग पर पैर फैलाकर सीधी लेट गईं।

मेरे चाचा एक हाथ से मेरी चाची के बड़े-बड़े पपीते दबा रहे थे और दूसरे हाथ से थोड़ा सा अकड़े हुए लंड को चाची की चूत में डालने की कोशिश कर रहे थे।

चाची का मुँह दरवाजे की तरफ था इसलिए खिड़की के छेद से चाची की चूत स्पष्ट दिखाई दे रही थी। एकदम मस्त चूत थी और चूत पर एक भी बाल नहीं था। मैंने मेरी जिंदगी पहली बार उस रात किसी औरत का भोसड़ा देखा था।

अब तक मेरे पैंट मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था। मुझे अपने चाचा पर गुस्सा आ रहा था। दिल में तो आ रहा था कि चाचा को एक तरफ हटा कर अभी जाकर चाची को चोद दूँ। कुछ देर बाद चाचा से कुछ हुआ नहीं तो चाची मन मसोस कर रह गईं।

थोड़ी देर के बाद चाचा सो गए। मैंने देखा चाचा सो गए पर चाची जाग रही थीं और धीरे-धीरे चूत में अंगुली डाल कर हिला रही थीं। दस-पंद्रह मिनट ऐसा करने के बाद वो पलंग से उठीं और एक कपड़े से चूत साफ़ करने लगीं। थोड़ी देर बाद सो गईं।

मैं समझ गया कि चाची ने ऊँगली से खुद को संतुष्ट कर दिया। मेरा लंड अभी भी खड़ा था।

मैं धीरे से वापस बरामदे में खाट पर पिंकी के पास आकर सो गया। परन्तु नींद मेरी आँखों से कोसों दूर थी। मेरी आँखों के सामने बार-बार चाची की चूत आ रही थी और लंड ढीला होने का नाम नहीं ले रहा था।

फिर मैं धीरे से उठा और बाथरूम में जाकर मुठ मारने लगा। थोड़ी लंड हिलाने के बाद मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया।

अभी मैंने पैंट पहना ही नहीं था कि मैंने देखा कि पीछे मेरी चाची खड़ी हैं। मैं जल्दबाजी में बाथरूम का दरवाजा बंद करना भूल गया था। मैं एकदम भौंचक्का हो कर देखता ही रह गया।

‘अब क्या होगा? कहीं चाची ने मुझे लंड हिलाते हुए देख तो नहीं लिया?’

मैं चुपचाप पैंट पहन कर बरामदे में जाकर सो गया। सुबह मेरी नींद खुली तो मैंने देखा सुबह के नौ बज चुके थे। पिंकी ने बताया कि पापा की दस दिन इलेक्शन में ड्यूटी लगी है इसलिए वो सुबह 6 बजे ही निकल गए हैं। वो दस दिन बाद लौटेंगे और दस दिन तक मुझे गाँव में रहने को कह कर गये थे।

उस दिन 5-6 बार चाची का सामना हुआ, मैं चाची से आँख नहीं मिला पा रहा था। जैसे-तैसे दिन गुजर गया शाम हो गई। शाम को पिंकी चाची को कहकर मंजू के घर टीवी देखने चली गई और कहकर गई कि वो रात को उसके घर ही सो जाएगी। मेरे चाचा के घर टीवी नहीं था।

पिंकी हमेशा मंजू के घर ही टीवी देखती थी और देर होने पर उसके घर ही सो जाती थी और सुबह घर आ जाती थी। पिंकी के चले जाने के बाद चाची ने मेन गेट को लॉक कर दिया।

चाची मुझसे बोलीं- नरेन्द्र आज तुम्हारे चाचा तो हैं नहीं, तुम भी अंदर वाले कमरे में सो जाना।

मैंने ‘हाँ’ में सर हिला दिया। रात वाली बात अभी मेरे दिमाग में घूम रही थी कि चाची कहीं कुछ पूछ न ले।

कुछ देर बाद चाची भी सब काम करके अन्दर वाले कमरे में आ गईं। चाची ने घाघरा और पोल्का पहन रखा था। हलके घाघरे में से चाची की पिछाड़ी दिख रही थी।

चाची ने नीचे कुछ भी नहीं पहना था। घाघरे के अन्दर चाची की गोरी-गोरी टाँगे और चूतड़ देख कर मेरा लंड फिर कड़क हो गया।

मैं अपने लंड को चाची से छुपाने के लिए थोड़ा नीचे दबाने लगा। शायद चाची मुझे ये सब करते हुए देख रही थीं।

चाची कमरे का दरवाजा बंद करके मेरे पास पलंग पर आकर सोने लगीं तो मैंने चाची से बोला- मैं नीचे सो जाता हूँ।

तो चाची ने यह कहकर मुझे नीचे सोने से मना कर दिया कि पलंग बहुत बड़ा है हम दोनों आराम से पलंग पर सो जायेंगे।

मैं और चाची पलंग पर ही सो गए और बातें करने लगे। चाची मुझे शहर के बारे पर पूछने लगीं। चाची बड़ी रंगीन बातें करती थीं।

उसने मुझसे पूछा- शहर सिर्फ पढ़ते ही हो या कोई लड़की से भी सैटिंग है?

मैंने ऐसे ही ‘हाँ’ में सर हिला दिया। चाची ने पूछा- कुछ किया या??

मैंने कहा- मैं ऐसा लड़का नहीं हूँ चाची। मुझे उन सब बातों से मेरा कोई मतलब नहीं है।

चाची बोली- ओह्ह तो आपको इन सब बातों से कोई मतलब नहीं है तो कल रात को आप बाथरूम में क्या कर रहे थे?

मैं एकदम चुप हो गया। चाची ने मेरी रात की हरकत देख ली थी। मैं दूसरी तरफ मुँह करके सोने का बहाना करने लगा। कुछ समय बाद मैंने महसूस किया कि चाची ने एक हाथ मेरी कमर पर रख दिया।

मैंने कोई विरोध नहीं किया। मैं नींद का बहाना करके सोया रहा।

चाची ने धीरे से मेरी पैंट के हुक खोल दिए और ऊपर से हाथ डाल कर मेरे लंड को सहलाने लगीं। मेरा लंड पहले से ही खड़ा था। चाची मेरे लंड की चमड़ी को कभी ऊपर कभी नीचे कर रही थीं। मैं चुपचाप सोया रहा।

मैंने चाची की तरफ मुँह कर दिया चाची ने फिर मेरे लंड को हाथ मैं लेकर हिलाने लगीं। इस बार चाची ने मेरा पैंट घुटनों तक कर दिया। मैं ऊपर से पूरा नंगा हो गया था।

चाची ने अपना मुँह मेरे पैरों की तरफ कर लिया और वे बेझिझक हो कर मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं। मुझे परम आनन्द महसूस हो रहा था।

धीरे-धीरे चाची मेरे ऊपर आ गईं और जोर-जोर से मेरे लंड को मुँह में चचोरने लगीं। मैंने भी धीरे-धीरे चाची का घाघरा ऊपर कर दिया और चाची की चूत पर हौले-हौले हाथ घुमाने लगा और एक ऊँगली चूत के अंदर-बाहर करने लगा। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

चाची भी जोर-जोर से मेरे लंड को चूसने लगीं। पहली बार मैं किसी औरत के साथ ये सब कर रहा था। आज से पहले ये कभी नहीं किया था। दस-पंद्रह मिनट ऐसा ही करने के बाद मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया।

चाची ने तब भी मुँह से लंड नहीं निकाला। वो पूरा का पूरा पानी गले के अन्दर गटक गईं और मेरे लंड को चाटने लगीं। अब तक मैं और चाची एक-दूसरे से खुल चुके थे।

मैं चाची की चूत चाटने लगा और चाची अपने हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगीं। चाची के द्वारा लंड को सहलाने से कुछ देर में मेरा लंड पहले की तरह खड़ा हो गया।

चाची ने पूरे कपड़े उतार दिए और पूरी नंगी होकर पलंग पर सीधी लेट गई, और उनने कहा- अब मुझसे रहा नहीं जाता अर्जुन प्लीज़, अपना लंड अन्दर डाल दो।

मैंने भी अपने पूरे कपड़े उतार कर अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगाया जैसा मैंने ब्लू फिल्मो में देखा था और धीरे से लंड को चाची चूत पर रख दिया।

चाची थोड़ा ऊपर नीचे हुईं तो पूरा का पूरा लंड उनके भोसड़े में घुस गया। मेरे मुँह से थोड़ी सी ‘आह’ निकली तो चाची ने पूछा- दर्द हो रहा है क्या?

तो मैंने ‘ना’ में सर हिला दिया और लंड चूत में पेलने लगा बीस मिनट तक पेलने के बाद चाची की चूत ने गरम-गरम लावा उगल दिया।

फिर तीन-चार झटके और जोर-जोर से चूत के अन्दर मारे तो मेरे लंड ने भी पानी छोड़ दिया। मैंने पूरा पानी चाची चूत की अन्दर ही निकाल दिया।

कुछ देर तक मैं चाची के ऊपर वैसे ही छाया रहा और चाची मेरे बालों में अपना हाथ फेरती रहीं।

कुछ देर बाद चाची ने कहा- मैं घोड़ी बनती हूँ, तुम पीछे से चूत में लंड डालना।

चाची पलंग पर ही घोड़ी बन गईं और पलंग से नीचे उतर कर खड़ा होकर पीछे से चाची की चूत मैं लंड डालकर सटासट अन्दर-बाहर करने लगा।

कुछ देर ऐसा करने के बाद मैंने और चाची ने एक साथ पानी छोड़ दिया। अब तक हम दोनों थक चुके थे फिर हम दोनों नंगे ही एक-दूसरे से लिपट कर सो गए।

सुबह जल्दी उठाकर चाची को मैंने एक बार और चोदा। चाची के साथ चुदाई का बहुत मज़ा आया मुझे।

उसके बाद चाची ने मुझे चुदाई के बहुत से गुर सिखा दिए और मैं एक नंबर का चुदक्कड़ बन गया बाद मैंने बहुत सी लड़कियों को चोदा जिसका मैं आगे की कहानियों में आप के सामने प्रस्तुत करूँगा जिसमें मेरी चचेरी बहन पिंकी की चुदाई भी शामिल है।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी? आप अपने कमेंट मेरी ईमेल आईडी पर जरूर भेजें। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!