सलोनी रानी की चुदाई-1

चूतनिवास सभी पाठकों को चूतनिवास का नमस्कार। अन्तर्वासना के माध्यम से मुझे कुछ ही दिनों में एक गर्लफ्रेंड मिली जिसकी कहानी मैं प्रस्तुत कर रहा हूँ। हुआ यूं कि ‘चंदारानी की भरपूर चुदाई’ जो कहानी प्रकाशित हुई थी उसके बाद और भी कई कहानियाँ छपीं तो बहुत से पाठकों के मुझे इमेल आये प्रशंसा से भरे हुए। उनमें एक पाठिका है सलोनी गौड़, उनका मेल आया ‘चूतनिवासजी आपकी चुदाई मस्त है चंदा रानी की चुदाई भी मस्त है।; मैंने उनको धन्यवाद लिख कर भेज दिया। कुछ दिनों के बाद उनका मेल आया ‘चूतनिवास जी, मेरी चूत कब मारोगे?’ मैंने लिखा ‘जब आप चाहो, बंदा हाज़िर है।’ सलोनी जी ने फिर कहा कि वो चंदा रानी से बात करना चाहती हैं। मैंने कहा कि यह तो मुमकिन नहीं है क्योंकि इस से चंदा रानी की प्राइवेसी बिगड़ती है और मेरा फ़र्ज़ है कि मैं अपनी गर्ल फ्रेंड का राज़ राज़ ही रखूँ। सलोनी जी ने कहा मैं यह मानती हूँ लेकिन अगर चंदा रानी मान जाती है तो कोई परेशानी नहीं है, आप पूछ के तो देखो। मैंने कहा- ठीक है। मैंने तुरंत चंदा रानी से सारा मामला बताया और आग्रह किया सलोनी जी से बात करने का। चंदा रानी तो यारों आग बबूला हो गई, उसने फोन पर मुझे जम कर कोसा, बहुत से गालियाँ दीं, उसने गुर्राते हुए पूछा- तेरी हिम्मत कैसे हुई मेरा असली नाम किसी अजनबी को बताने की। अगर यह बात फैल गई तो मेरा क्या होगा। मैं शादीशुदा दो दो बच्चों की माँ हूँ। खैर बड़ी मुश्किल से चंदा रानी का गुस्सा शांत किया। बहुत मिन्नत खुशामद की, तब जा के चंदा रानी कुछ ठंडी हुई। पूरे दो दिन लगे इस में। परंतु आखिरकार चंदा रानी ने कहा वो फोन पर बात तो किसी भी हालत में नहीं करेगी लेकिन ईमेल पर चैटिंग कर लेगी। मैंने चंदा रानी की ईमेल आईडी सलोनी जी को दे दी और कहा- आप कर लीजिये चैटिंग। दो दिन ना जाने क्या दोनों ने आपस में क्या बातचीत की, मैंने पूछा तो दोनों ने कुछ भी बताने से ना कर दी, परंतु चंदा रानी और सलोनी जी की दोस्ती बहुत पक्की हो गई दो ही दिन में। खैर आगे हुआ यह कि मैं सलोनी जी को सलोनी रानी कहने लगा और वो मुझे राजे कहने लगी। उसने मुझसे आपकी बजाये तू से बात करनी शुरू कर दी और मुझे मेरे नाम राजे से पुकारने लगी। मेरी और सलोनी रानी की दो दिन खूब इमेल पर बातें हुई। मैंने खुल कर बताया कि मैं चुदाई में लड़की को कैसे कैसे मज़ा देता हूँ। सलोनी रानी मेरी बातें पढ़कर बेहद गर्म हो जाती थी। मेरा भी लंड अकड़ जाता था। दो दिन के बाद मैंने सलोनी रानी को अपना नंबर दिया और यह तय हुआ कि वो मुझे शाम को एक मिस कॉल मारेगी और मैं जब भी मौका पाऊँगा उसे फोन कर लूंगा। शाम को 7 बजे मैं एक घंटे के लिये सैर करने जाता हूँ। वही ऐसा टाइम है जब बिना किसी डर के बात कर सकता हूँ। मेरा काम ऐसा है मैं RESIDENCE CUM OFFICE में होता है तो मेरी बीवी जूसी रानी घर पर होती है इसलिये जब मैं घर पर हूँ, बात करना संभव नहीं है। दो दिन हमने पूरा एक घंटा अच्छी तरह खुल के बातें कीं। सलोनी रानी की मधुर बोली मेरे कानों में शहद की भांति लगती थी, यूँ लगता था घंटियाँ धीमी धीमी बज रही हैं। उसकी आवाज़ सुन कर ही मैं मतवाला हो जाता था। सलोनी रानी का कहना था कि हमारी चुदाई के भिन्‍न भिन्‍न वर्णन सुन सुन कर वो भी इतनी गर्म हो जाती है कि चूत बेतहाशा रस बहाने लगती है, चूचुक कस जाते हैं और निप्पल यूँ अकड़ जाते हैं जैसे किसी मर्द का लौड़ा अकड़ जाता है। तीसरे दिन मैंने कहा- सलोनी रानी… यह कंप्यूटर पर बैठ कर बहुत वक़्त बीत गया… अब तुम्हारी तसल्ली हो गई हो यो यार, मिलने का प्रोग्राम बनाते हैं… तुम भी गर्म, मैं भी गर्म होकर दुख पा रहे हैं… अब मिल कर मिलन करें। सलोनी रानी ने कहा- हाँ राजे, मैं भी सोच रही थी कि अब मिलने का समय आ गया है। लेकिन कहाँ और कैसे मिलेंगे? मैं बोला- देखो ऐसा करते हैं, नई देहली स्टेशन के पास एक होटल है जिंजर, वो सुरक्षित है, वहाँ मैं दो कमरे बुक करवा देता हूँ। सलोनी रानी ने पूछा- क्या यह 5 स्टार होटल है? और दो रूम क्यों? मैंने कहा- रानी, 5 स्टार नहीं है। 3 स्टार है। 5 स्टार होटलों में मुझे बहुत से लोग जानते हैं। जिंजर स्टेशन के साथ लगा हुआ है वहाँ बहुत से लोग सिर्फ दिन के लिये रूम लेते हैं, 5 स्टार में ऐसा करना शक पैदा करता है। दो रूम इसलिये कि कभी भी रेकॉर्ड से तुम्हारा और मेरा कोई लिंक नहीं बैठना चाहिये। एक ही रूम लेंगे तो रेकॉर्ड में दोनों के नाम आ जायेंगे एक रूम में। दो रूम दो रेकॉर्ड कोई प्राब्लम नहीं, कोई आपस में लिंक नहीं। सलोनी रानी बोली- हाँ ठीक है… समझ गई… करवा लो बुक। लेकिन एक बात है…सबसे पहले तुझे मेरी सू सू पीनी पड़ेगी। मैं बोला- हाँ हाँ रानी, बड़ी खुशी से पी लूंगा ! और फिर मैंने चार दिन बाद की तारीख पर दो रूम बुक करवा लिये। हमने तय किया था कि मैं पहले दिन में 11 बजे होटल में चेक इन करूंगा और सलोनी रानी दो घंटे के बाद 1 बजे के करीब। मेरा रूम नंबर 304 था और सलोनी रानी का 306, सलोनी रानी सवा एक बजे आ गई और मुझे फोन कर दिया कि पहुँच गई है। तुरंत ही मैं उसके रूम पर चला गया। सलोनी रानी ने दरवाज़ा खोला, उस वक़्त हम पहली बार एक दूसरे को देख रहे थे। दो मिनट तक हम बस आँखों में आँखें मिलाये एक दूसरे को निहारते रहे। मैं बोला- सलोनी रानी? वो बोली- राजे? और हम लिपट गये। मैंने पूछा- रानी, तुम्हें मेरी सफेद दाढ़ी देख कर निराशा तो नहीं हुई? सलोनी रानी ने कहा- नहीं राजे…चंदा रानी की कहानी पढ़ कर इतना तो समझ आ गया था कि राजे कोई 25 साल का तो होगा नहीं। वो कहानी ही बहुत साल पहले की है… मुझे तो चाहिये था एक बहुत तजुर्बेकार आदमी… जो मुझे पूरा मज़ा दे सके। मैंने अब दुबारा से सलोनी रानी को निहारा, मदमस्त जवान लड़की थी, उसने जींस और एक झक सफेद टॉप पहन रखा था। टॉप में से ब्रा की झलक दिखाई दे रही थी, उन्नत उरोज क़यामत बरसा रहे थे, टॉप से निकाली हुई उसकी नंगी बाहें गज़ब ढा रही थीं। उसने पैरों में मध्यम हील का जूता पहन रखा था। उसके होंठ एक ताज़ा ताज़ा गुलाब की पंखुडियों के समान चुस जाने को बेताब लग रहे थे। उसकी आँखें मुझे बड़े प्यार से भर कर देख रही थीं। मतवाला होकर मैं फिर उससे लिपट गया और कस के उसे बाहों में भींच कर उसके मुख से अपना मुँह सटा दिया। उसने होंठ खोल दिये और मैंने अपनी जीभ पूरी उसके मुँह में घुसा दी। सलोनी रानी जीभ चूसने लगी। मेरे मुँह का रस उसके मुँह में जाने लगा। मस्ता कर सलोनी रानी ने एक टांग मेरी टांगों पर लपेट दी।

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं ! थोड़ी देर के बाद मैंने अपना मुँह नीचे कर लिया ताकि उसका मुँह ऊपर आ जाये। अब उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में दे दी, मैं हुमक हुमक के उसके पतली छोटी सी जीभ चूसता रहा और उसके मुँह से निकलने वाला सारा रस मज़े ले ले कर पीता रहा। सलोनी रानी अपनी स्वादिष्ट जीभ चुसवा रही थी और अपना मुखामृत मेरे मुँह में दिये जा रही थी। मैंने उसे चूसते चूसते ही उसके टॉप में हाथ डाल के सलोनी रानी की चूचियाँ हौले हौले सहलानी शुरू कीं। सलोनी रानी चिहुंक उठी। मैंने हाथ उसकी कमर के पीछे ले जाकर ब्रा की हुक खोल दी। सलोनी रानी की भरी भरी मनमोहक चूचियाँ उछल कर बाहर निकली जैसे  उन्हें ब्रा की कैद से छुटकारा मिला। मस्त गोल मुलायम स्तन थे सलोनी रानी के !!! नरम और मुलायम थे लेकिन पिलपिले नहीं थे। मैंने हौले से निप्पलों पर उंगली फिराई। दोनों निप्पल अकड़े हुए थे, ऐंठन से तने हुए थे और दो तोपों की तरह सीधे सामने को निशाना साधे थे मानो चुनौती दे रहे हों कि आओ और हमें उमेठ उमेठ कर अकड़न से मुक्ति दो। सलोनी रानी ने मेरे कान में फुसफुसा कर कहा- अबे चूतिए… अब हम नंगे भी होंगे या यूँ ही घसर पसर करते रहेंगे? मैंने जल्दी जल्दी से उसका टॉप उतार दिया। ब्रा तो खुली हुई थी ही, तुरंत ही हटा दी गई। अरे यार क्या मस्त उरोज सामने निकल के आये हैं। मैं तो दीवाना सा हो गया। जी करता था इनको तो चूसता जाऊँ, चूसता जाऊँ और बस चूसता ही जाऊँ… सारी कायनात सिमट के उन दो चूचियों में आ गई थी। बड़ी मुश्किल से नज़र हटा के मैंने सलोनी रानी की जींस उतार डाली। अब वो सिर्फ चड्डी पहने हुई थी, उसका तराशा हुआ रेशम सा चिकना बदन मेरे भीतर आग लगाये जा रहा था, अकड़ अकड़ के लंड फटने को हो रहा था। सलोनी रानी ने कहा- हरामज़ादे, चड्डी हाथों से नहीं मुँह से उतारी जाती है। सलोनी रानी के सुन्दर मुख से उसकी शहद जैसी मधुर वाणी में यह मर्दानी गालियाँ इतनी मस्त लगती थीं कि मेरा दिल करता था कि वो बस मुझे गालियाँ देती जाये और मैं सुनता जाऊँ और बस सुनता जाऊँ। इसका अर्थ यह हुआ कि मैं भी उसे गाली दे सकता था। वैसे मैं कभी लड़कियों को गाली नहीं देता लेकिन अगर कोई लड़की गाली पसंद करती है तो फिर क्या दिक्कत है। मैंने मुँह में चड्डी के ऊपरी भाग को फंसा के थोड़ी मेहनत के बाद उतार ही दिया तो सलोनी रानी मादरजात नंगी मेरे सामने खड़ी थी, मानो स्वर्ग से कोई अप्सरा धरती पर उतर आई हो। मैं मुँह खोले टका सा देखता ही रह गया। सलोनी रानी ने फिर मेरी शर्ट को ज़ोर से खींचा तो मैं जैसे नींद से जगा और फटाफट मैंने भी अपने कपड़े उतार डाले। मैं झपट कर उन जन्नत की हूरों से भी दिलकश चूचियों पर लपका परंतु सलोनी रानी पीछे हट के तेज़ आवाज़ में बोली- याद है ना, मैंने क्या कहा था… सबसे पहले तू मेरा स्वर्ण रस पियेगा… तेरी हिम्मत कैसे हुई मेरे मम्‍मों को छूने की.

. बिना स्वर्ण रस पिये? मैं बोला- सलोनी रानी, माफ करो मेरे समझने में भूल हो गई… मैं समझा कि चोदने से पहले पीना है। ‘क्यों मैं क्या फारसी में बोली थी…सबसे पहले का मतलब सबसे पहले…’ ‘अच्छा रानी माफी दे दो….सच में मेरी ही भूल है…’ ‘ठीक है… ठीक है… लेकिन तुझे सज़ा तो मिलेगी ज़रूर… अब तू स्वर्ण रस इंसान की तरह नहीं बल्कि एक कुत्ते की तरह पियेगा…’ सलोनी रानी ने मेरे बाल पकड़ लिये और मुझे नीचे फर्श पर लेट जाने का इशारा किया। ‘जैसा हुक्म मेरी महारानी का !’ मैं लेट गया। सलोनी रानी मेरे ऊपर खड़ी हो गई इस तरह कि उसकी चूत एकदम मेरे मुँह की सीध में थी। उसने अपनी खूबसूरत टांगें चौड़ी कर लीं और थोड़ा सा घुटने मोड कर सेट हो गई, फिर बोली- राजे अब ठीक से समझ ले… मैं अभी तेरे मुँह के उपर शू…शू… करती हूँ… जितना भी अमृत फर्श पर गिरेगा या मेरी टांगों पर गिरेगा तू जीभ से कुत्ते की तरह चाट के साफ करेगा… जैसा अभी फर्श साफ है और जैसी मेरी टांगें साफ हैं बिल्कुल वैसा का वैसा होना चाहिये…’ इतना कह के उसने मेरे मुँह पर धारा छोड़ दी। मैं मुँह खोल के पिये जा रहा था और ठरक से बेहाल हुए जा रहा था। इस लड़की का स्वर्ण रस नहीं था ये तो स्वर्ण अमृत था। मैं तो इसे सारा दिन पीने को खुशी खुशी मान जाता। सर्र सर्र सर्र… करके अमृत की मेरे ऊपर बौछार होती गई और मैं मस्ती में मतवाला होता गया, पूरे समय मैं सलोनी रानी की आँखों में देखता रहा। उसकी आँखों में गुलाबी डोरे तैरने लगे थे और उसका आकर्षक चेहरा तमतमा कर लाल हो गया था, उसे बेहद आनन्द आ रहा था। आखिर कुछ देर के बाद धार समाप्त हो गई तो सलोनी रानी ने मेरे मुँह पर बैठ कर अपनी चूत मुँह से रगड़ के साफ कर ली। जैसे ही उसने चूत मेरे मुँह पर लगाई और रगड़ा मैंने अपनी जीभ बुर में डाल दी। बुर रस से तरबतर हुई पड़ी थी, ढेर सारा रस मेरी जीभ पर आ गया और मेरी प्यास कुछ शांत हुई। तभी सलोनी रानी के झल्ला के कहा- कुत्ते की औलाद… मेरी टांगें गीली हो गई हैं और यह जो फर्श भीग गया है, इसे कौन, तेरा बाप आके साफ करेगा? कहा था न तुझे ही साफ करना है… भूल जाता है कमीने ! हाय मेरे यारो, सलोनी रानी की मस्त गालियों ने तो मस्ती सैकड़ों गुना बढ़ा दी थी। खूबसूरत तो वो थी ही लेकिन जब झल्लाने का नाटक करके भारी भरकम गाली देती थी तो उसकी खूबसूरती भी सैकड़ों गुना बढ़ जाती थी। यार यह लड़की है या मर्दों की जान की दुश्मन !!! मैंने फौरन पहले तो फर्श को एक कुत्ते तरह जीभ निकाल के चाटा और फिर तो यारों मज़े का सैलाब आ गया, जब मैंने सलोनी रानी के पैर और टांगें चाटीं। क्या लज़ीज़ बदन था सलोनी रानी का !!! उसके मुलायम चिकने पैरों से जूते के चमड़े की गंध आ रही थी। शायद थोड़ा सा पसीना भी आ गया था। मुझे तो सलोनी रानी की हर गन्ध कस्तूरी समान लगती थी। उसकी टांगें चाट कर तो सच में जन्नत का आनन्द आ गया, इतनी चिकनी कि जीभ ही फिसल जाये। नज़र टिकाओ तो नज़र ही फिसल जाये। परमात्मा ने इस लड़की को बहुत सोच समझ कर, बड़ी प्रसन्नता के मनोस्थिति में बनाया था। खैर मैं फिसल फिसल कर ऊपर बढ़ता हुआ उसकी रेशमी टांगों पर से उसके स्वर्ण रस के छींटे चाटता गया। अब सलोनी रानी के मुँह से सी…सी…सी… हाय…हाय.
. की भिंची भिंची सीत्कार निकलने लगी थी, वो मज़े में अब छटपटा रही थी। धीरे धीरे स्वाद लेता हुआ मैं सलोनी रानी की चूत तक जा पहुँचा। अब मैं अपने घुटनों के बल बैठ चुका था, मैंने उसकी झांटों को निहारा, उसने शायद दो तीन दिन पहले ही सफाई की थी क्योंकि दिखने में तो बिल्कुल चिकनी थी लेकिन जब मैंने अपना मुँह रगड़ा तो थोड़ी सी चुभन लगी, झांटें थोड़ी थोड़ी निकलनी शुरू हो गयीं थीं। इतने में सलोनी रानी मेरे पास नीचे फर्श पर ही बैठ गई और झुक कर मेरे बालों में बड़े प्यार से हाथ फेरा। उसकी मिशरी जैसी मधुर आवाज़ मेरे कानों में पड़ी- राजे राजे राजे… आज तूने मेरा दिल जीत लिया… हरामी, तू है तो कमीना पर तुझ पर प्यार बहुत आता है… चल उठ जा अब उपर बेड पर आजा… और चोद दे मुझे… बड़ी प्यासी है तेरी सलोनी रानी… अब बुझा दे इस प्यास को ! हम बेड पर आ गये। कहानी जारी रहेगी।

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!