मैं इस लण्ड से चुदूँगी-2

अनुराग कहने लगा- रोमा, मैं झड़ने वाला हूँ। तो मैंने उसे कहा- मेरे मुँह में ही अपना सारा रस निकाल दो!

उसने मेरे मुँह कस कर पकड़ लिया और पूरे जोश के साथ अपना सारा रस मेरे मुँह डाल दिया, कुछ बूँदें उसने मेरे चेहरे पर भी गिराई। मैं बड़े प्यार से उसके रस पी गई और मैंने कहा- अनुराग, मैंने आज तक ऐसा रस नहीं पिया है।

अब मैं खड़ी हुई तो अनुराग ने मेरे साड़ी उतार दी, मैं बाथरूम में चली गई, अपना मुँह साफ करने जब मैं बाथरूम से बाहर आई तो अनुराग ने मुझसे कहा- रोमा, अब मेरी बारी है। वो मेरे पास आया, उसने मेरा पेटीकोट भी उतार दिया, मैं अब उसके सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी।

अनुराग ने मुझसे कहा- रोमा, तुम इस ब्रा पेंटी में बहुत सेक्सी लग रही हो!

उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और बेड पर लेकर बैठा दिया, फिर उसने मेरी ब्रा का हुक खोल कर उसे उतार दिया, मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे रसीले उरोजों का रस पीने लगा।

मैंने उसके चेहरे को अपने चूचों पर दबा लिया, उसे बड़ा मजा आ रहा था, मैं कहने लगी- चूस अनुराग, जोर से चूस, हाय क्या चूसता है तू… तेरी इस चुसाई से ही लगता है कि मेरी चूत पानी छोड़ देगी… और जोर से चूस… मेरा सारा दूध निकाल कर पी जा! जोर जोर से चूस अनुराग!

यह सुन कर अनुराग और जोश में आ गया और वो जोर जोर से मेरे चुचूकों को चूसने लगा, उसने मेरे दूधों को इतना चूसा कि मेरे गोरे गोरे स्तन लाल हो गए थे।

फिर उसने अपना एक हाथ चूत के ऊपर ले जा अपना हाथ मेरी पेंटी के अंदर डाल दिया और चूत को सहलाने लगा।

उसके हाथ के स्पर्श से मैं तड़प उठी और मचलने लगी। फिर उसने मेरे पैंटी भी उतार कर अलग कर दी।

अब वो सीधा होकर मेरे पैरों के बीच बैठ गया और मेरी चूत को खोल कर देखने लगा और कहने लगा- क्या चूत है रोमा तुम्हारी! और क्या गज़ब की खुशबू आ रही है, मैं तो मदहोश हो रहा हूँ!

मैं इतनी गर्म हो चुकी थी, उसका हाथ लगते ही मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और अनुराग ने वो सारा पानी चाट लिया। मैं तड़प रही थी और बोल रही थी- साले, कमीने… क्या देख रहा है? चल जल्दी से मेरी चूत चाट, यह कब से प्यासी है, इसे अपनी जीभ से चोद डाल!

तो उसने अपनी जीभ से मेरी चूत के होंठों को चूसना शुरू किया, और धीरे धीरे जीभ अंदर डाल कर चूत को चोदने लगा।

और मैं पागलों की तरह मचलने लगी और कहने लगी- वाह्ह, और जोर से चोद… जोर से… आह्ह… मैं तो मर ही गई, बड़ा मजा आ रहा है…

इस चूत चुदाई और चुसाई के बाद हम 69 की पोजीशन में आ गये, मैं उसका लंड मुँह में लेकर चूस रही थी और वो मेरी चूत को चूस रहा था।

उसका लंड अब पूरे जोश में आ गया तो अनुराग ने मुझे सीधे बेड पर लिटा दिया, मेरे पैरों को फैला दिया और अपना लंड मेरी चूत के अंदर डालने लगा।

पर मेरे चूत इतनी कसी हुई थी कि उसका मोटा लंड अंदर नहीं जा पा रहा था तो मैंने उसके लंड को पकड़ कर अपनी चूत के ऊपर रखा और अनुराग से कहा- अब जोर लगा कर डालो अंदर…

तो उसने जोर का धक्का मारा तो उसके लंड का टॉप मेरी चूत के अंदर चला गया। मैं चिल्लाने लगी, दर्द होने लगा था, पर वो नहीं रुका, उसने फिर एक धक्का मारा तो उसका आधा लंड मेरी चूत में जा चुका था, मैं चीख रही थी- बाहर निकल मादरचोद… मुझे दर्द हो रहा है, मैं मर जाऊँगी, छोड़ दे कमीने!

पर वो कहाँ रुकने वाला था, उसने अपना लंड थोड़ा बाहर खींचा और फिर जोर का धक्का मारा, पूरा लंड मेरी चूत में समा चुका था।

मैं चीख रही थी कि मुझे दर्द हो रहा था तो वो थोड़ा रुक गया और मेरे ऊपर ही लेट गया, मेरे बूब्स चूसने लगा।

थोड़ी देर बाद में शांत हो गई पर उसका लंड अभी भी मेरी चूत में था, मेरी आवाज़ भी बदल गई, मेरी चीखों ने अब सिसकारियों का रूप ले लिया था, अनुराग ने अपना लंड अब मेरी चूत में अंदर बाहर करना शुरू दिया, मैं भी अब उसका साथ देने लगी, अपनी चूत को उछाल उछाल कर उससे चुदने लगी।

फिर अनुराग ने धीरे धीरे अपनी स्पीड बड़ा दी और में सिसकारियाँ लेने लगी- आआह्ह आआह… आईईई… और कहने लगी- मज़ा आ रहा है अनुराग, आज तुम मेरी चूत फाड़ दो!

वो जोर जोर से मुझे चोद रहा था, मैं भी अपनी कमर कमर हिला हिला कर उससे चुद रही थी।

थोड़ी ही देर में मैं झड़ गई और शांत हो गई, पर अनुराग अभी भी नहीं झड़ा था, फिर वो बेड पर लेट गया, मुझे उसने अपने खड़े लंड के ऊपर बैठा लिया, उसका लौड़ा मेरी चूत में घुस चुका था और मैं उसके लंड पर उछलने लगी।

यह नजारा देख वो और जोश में आ गया, फिर उसने मुझे अपनी बाँहों में उठा लिया। मैंने उसे गले से पकड़ रखा था।

अनुराग ने मेरे दोनों पैर अपने हाथों से फैला कर ऊपर उठा लिया और हवा में ही अपना लंड अंदर बाहर कर मुझे चोदने लगा। मुझे ऐसे हवा में झूल कर चुदाई करवाने में मज़ा आ रहा था, वो भी मजे ले ले कर मुझे चोद रहा था, उसका लंड पूरा अंदर तक जा रहा था और मैं अजीब अजीब सी आवाजें निकाल रही थी- फक मी हार्ड बेबी… जोर से चोदो…

कहते हुए मैं फिर से झड़ गई और शांत हो गई पर वो चुदक्कड़ अभी भी नहीं थका था, उसका पानी भी नहीं निकला था।

फिर उसने मुझे घोड़ी बनाया और पीछे से एक ही झटके में अपना लंड मेरी चूत में घुसा दिया, वो मुझे घोड़ी बना कर चोद रहा था, मैं भी मजे ले लेकर चुद रही थी।

कुछ देर इसी तरह चुदने के बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे दोनों पैर ऊपर हवा में उठा कर फ़िर मेरे वक्ष पर टिका दिए इससे मेरे चूत पूरी ऊपर उठ गई तो उसने एक झटके के साथ अपना लंड मेरी चूत में उतर दिया।

उसका लंड मेरी चूत के अन्दर गर्भाशय तक जाकर टकरा रहा था।

अब उससे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था और मैं चिल्ला रही थी- तूने मेरी चूत को फाड़ दिया था, चूत का भोंसड़ा बना दिया!

वो कहने लगा- रोमा, मैं बस झड़ने ही वाला हूँ! तो मैंने उसे कहा- अपना सारा रस मेरी चूत में ही छोड़ दो!

वो जोर जोर से चोद रहा था, फिर उसका बदन अकड़ने लगा और उसने सिसकारियों के साथ अपना सारा रस मेरी चूत में छोड़ दिया।

उसके लंड से इतना रस निकला कि मेरी पूरी चूत उसके रस से भर गई, मैं थक चुकी थी और वो भी, उसका लंड मेरी चूत में ही था और अनुराग मेरे ऊपर ही लेट कर सो गया, मैं भी वैसे ही सो गई।

रात में जब हमारी नींद खुली तो हमने फिर से चुदाई की। उस रात अनुराग ने मुझे 3 बार चोदा।

तो यह थी दोस्तो, मेरी कहानी! उम्मीद करती हूँ कि आप सबको पसन्द आएगी। आप सबको यह कहानी कैसी लगी, आप मुझे बताइयेगा जरूर। मेरा फेसबुक आई डी भी [email protected] है।

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!