तन के मिलन को बेकरार सपना

मेरा नाम वेदान्त है, मैं इंदौर का रहने वाला हूँ।

यह मेरी सच्ची कहानी है, अगर आपको अच्छी लगे तो मुझे प्रोत्साहित जरूर कीजिएगा क्योंकि यह मेरी पहली कहानी है जो मैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर प्रकाशित करने के लिए भेज रहा हूँ।

बात 2007 की है, जब मैं 23 साल का था और अपना प्रोफेशनल कोर्स करके ट्रेनिंग के लिए मुम्बई आया था।

आँखों में एक सपना लेकर बड़ा आदमी बनने का, जैसा सभी करते हैं।

मुम्बई पहुँचते ही एक चैनल में ट्रेनिंग के लिए मेरा चयन भी हो गया।

अभी कुछ दिन ही बीते थे कि मेरे साथ एक लड़की चयन हुआ, नाम था सपना उम्र 21 साल।

कसा हुआ बदन, गोल गोल संतरे जैसे वक्ष जैसे कयामत बरसा रहे थे।

कोई भी देख ले तो लंड महाराज बिना सलामी दिए हुए नहीं रह सकते।

उसे देखते ही मेरे भी लंड ने सलामी दी।

दिन बीतते गए, मैं मन ही मन उसे चाहने लगा और छुप-छुप कर देखता था, उसके वक्षों को निहारता था।

कभी–कभी मुझे लगता कि उसे भी मैं पसन्द हूँ।

धीरे–धीरे सपना मुझसे घुल मिल गई, हम अक्सर साथ में घूमने जाते लेकिन कभी कुछ करने की हिम्मत नहीं हुई।

एक बार की बात है, मुझे दिल्ली जाना पड़ा। जब मैंने सपना को यह बात बताई तो वो भी मेरे साथ जाने की जिद करने लगी।

अब अंधा क्या चाहे दो आँखें, मैंने सोचा इसी बहाने हमें कुछ वक्त साथ बिताने को मिल जाएगा और कोई डिस्टर्ब करने वाला भी नहीं होगा।

मैंने दो सीट का रिजर्वेशन करवा लिया और ट्रेन से दिल्ली आ गए।

पूरे रास्ते हमने बहुत मस्ती की पर इससे आगे कुछ नहीं कर पाए।

यों कहें कि हमें हमारे सभ्य तौर तरीकों और शालीनता ने रोक दिया लेकिन उसकी हरकतों से एक बात तो समझ में आ गई कि आग दोनों तरफ बराबर लगी है।

हम दिल्ली पहुँचे, वहाँ पहुँच कर अपना काम हमने एक होटल बुक किया। होटल में मैंने उसे अपनी पत्नी बताया।

होटल के कमरे में पहुँच कर हमने सोचा कि थके हुए हैं, थोड़ी देर आराम कर लिया जाय।

हम दोनों डबल बेड पर लेट गए। थकान तो थी पर आँखों में नींद नहीं थी।

अचानक सपना ने मुझसे कहा कि वो मेरी बाहों में सर रखकर सोना चाहती है।

मेरी तो जैसे मन मांगी मुराद पूरी हो रही थी। मैंने भी अपनी बाहें बिछा दी और वो आकर सो गई।

इधर में लिंग महाराज अंडरवियर फाड़ कर बाहर आने को मचल रहे थे। पर मेरी हिम्मत नहीं हुई कि मैं कुछ कर सकूँ क्योंकि इससे पहले मैंने किसी लड़की को इतने करीब से महसूस नहीं किया।

मैं वैसे ही लेटा रहा, थोड़ी देर बाद मुझे नींद आ गई।

थोड़ी देर बाद मैंने पर मैंने सपना की गर्म सांसे महसूस की लेकिन मैं वैसे ही लेटा रहा।

फिर उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और मेरे होंठों का रसास्वादन करने लगी।

मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था फिर भी मैंने सोने का नाटक किया।

अब वो मेरे शर्ट का बटन खोलकर मेरे सीने और पेट कर चुम्बन करने लगी।

तब मैंने अपनी आँखें खोल दी।

वो किसी प्यासे पक्षी की तरह बस मुझमें समा जाना चाहती थी।

अचानक मेरी आँखों से उसकी आँखें मिली तो वो शरमा गई और मुझसे दूर हो गई और रोने लगी।

मैं डर गया कि अचानक उसे क्या हो गया।

मैंने उसे अपनी बाहों में भरकर उसे कस के आलिंगन किया और पूछा कि क्या हो गया।

तब उसने बताया कि मेरे न चाहते हुए भी उसने मेरे साथ ये सब किया और उसने मुझे ‘आई लव यू; कहा।

मैंने भी प्रत्युत्तर में उसे ‘आई लव यू’ कहा और बताया, मुझे भी उसे बाहों में लेकर बहुत सुकून मिला।

और फिर उसे मैं किस करने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी। हम एक दूसरे को चूमे जा रहे थे।

मेरे हाथ धीरे-धीरे उसके वक्ष पर पहुँच गए, मैं जोर-जोर से उन्हें दबाने-सहलाने लगा, उसने जरा भी विरोध नहीं किया।

हम एक दूसरे में समा जाना चाहते थे।

मैंने सपना को बताया कि मैं उसके साथ सेक्स करना चाहता हूँ। उसने कोई भी जवाब नहीं दिया। उसकी चुप्पी को मैंने उसकी सहमति समझा मैं उसके उरोजों को दबा रहा था, वो एकदम कड़क हो चुके थे। मैंए एक कदम आगे बढ़ कर उसकी टी-शर्ट उतार दी।

अब वो गुलाबी रंग की ब्रा और लोवर में थी।

उसने भी मुझसे अनुरोध किया कि मैं भी अपना शर्ट निकाल दूँ, मैंने ऐसा ही किया।

अब धीरे-धीर मेरा हाथ अपने अगले पड़ाव की ओर बढ़ गया। मैंने लोवर के उपर से ही उसकी चूत मसल दी।

उसके मुख से आवाजें निकलने लगी- अहह…हहह… अम्म…मह्ह्ह…

अब मैं उसके संतरों का दीदार करना चाहता था, मैंने झट से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया।

सपना ने शर्म से आँखें बंद कर रखी थी और सिसकारियाँ ले रही थी।

उसके संतरे आजाद हो गए। मैं उसकी चूचियों को चूसने लगा, क्या चूचियाँ थी।

मैं अब चरम पर था… और अचानक मेरे लंड महाराज ने कपड़ों के अन्दर ही पानी छोड़ दिया। यह कहानी आप अंतर्वासना.

कॉम पर पढ़ रहे हैं।

मैं शांत हो गया लेकिन उसे कहाँ चैन था। उसने मेरी पैंट खोल कर मेरे लौड़े को हाथ से पकड़ लिया और उसे दुबारा खड़ करने में लग गई।

उसे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी और जल्द ही लंड महाराज फिर से सलामी देने लगे।

मैं अब उसकी चूत के पास उंगली ले गया और उसे उसकी चूत में प्रवेश कराने की कोशिश करने लगा। लेकिन वो उसे दूर करने लगी, शायद उसे दर्द हो रहा था।

मैंने उसकी एक न सुनी और अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी।

वो एकदम कराह उठी और अपनी चूत को टाईट कर लिया।

मैं एक उंगली से ही उसकी चूत चोदता रहा फिर मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने खींचकर उसका लोवर उतार दिया।

अब वो सिर्फ गुलाबी रंग की पैंटी में थी और मैं अपनी जॉकी में।

मैंने उसकी पैंटी भी एक झटके में उतार दी।

क्या चूत थी उसकी। मेरा लौड़ा उसकी चूत में जाने को बेकरार था।

अब मैं अपने आप को रोक नहीं पाया, मैं अपने लंड को उसकी चूत के पास ले गया और प्रवेश द्वार पर रखकर उसमें प्रवेश कराने की कोशिश की।

वो दर्द के मारे कराह उठी और मुझे अपने आप से अलग करने की कोशिश करने लगी।

मैंने अपनी पकड़ को मजबूत करते हुए एक धक्का दिया।

वो जोर से चिल्लाने लगी और मुझसे मिन्नतें करने लगी- प्लीज मुझे छोड़ दो, बहुत दर्द हो रहा है। उसका चीखना सुन कर मैं डर गया कि होटल के किसी कर्मचारी को पता ना चल जाय।

फिर मैंने पास ही पड़ रिमोट से टीवी चालू कर दिया और उसका आवाज़ बढ़ा दी।

फिर मैं थोड़ी देर तक उसके होंठों और चूचियों से खेलता रहा।

जब वो थोड़ी शांत हुई तो मैंने एक जोरदार धक्का लगाया।

वो जोर से चीखी पर मेरे द्वारा उसके होठों को चूसने के कारण उसकी आवाज दब गई, वो बुरी तरह छटपटाती रही पर मैंने लगातार 2-3 धक्के लगाए मेरा 7 इंच लंबा लिंग पूरी तरह से उसकी चूत में प्रवेश कर गया।

उसकी झिल्ली फट चुकी थी। उसकी चूत से खून निकल रहा था।

फिर मैंने धीरे-धीर धक्के लगाना चालू किया। अब वो भी मेरा साथ देने लगी, उसे भी मजा आने लगा, उसने कहा- फ़क मी जान… आहह हहहह… फ़क मी हार्डड…

मैंने धक्के लगाना चालू रखा।

अब वो भी अपनी कमर उठा–उठा कर मुझसे चुद रही थी।

थोड़ी देर चुदने के बाद वो बोली- मुझे कुछ हो रहा है… उह… हहहह… आह… की आवाज निकाल रही थी। उसकी जकड़ मेरे ऊपर मजबूत होती जा रही थी। मुझे लगा कि वो अब जाने वाली है… मैंने अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी।

फिर मैं और वो एक साथ ही झड़े।

फिर हम यूँ ही शांत पड़े रहे।

थोड़ी देर बाद वो मुझसे अलग हुई और बाथरूम जाने लगी। उससे चला भी नहीं जा रहा था, मैंने उसको सहारा दिया और बाथरूम ले जा कर उसे प्यार से नहलाया।

हम दोनों ने साथ में नहाए और वहाँ भी उसे चोदा। हम दो दिन होटल में रूके। इस दौरान मैंने उसे 8 बार चोदा।

अगले दिन मैंने उसे आईपिल ला कर दी क्योंकि हमने चुदाई के दौरान कॉन्डोम का इस्तेमाल नहीं किया था।

फिर हम मुम्बई आ गए।

मुम्बई में जब भी मौका मिलता, हम कहीं दूर निकल जाते और दो-तीन दिन तक चुदाई का खेल खेलने के बाद वापस आ जाते।

अब मैं इंदौर वापस आ गया हूँ और वो मुंबई में ही है।

हमारी बात तो होती है पर लण्ड और चूत का मिलन हुए एक साल हो गया। मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताएँ।

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!