क्वारंटीन सेंटर में नर्स को फंसाकर चोदा

नर्स सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं गुड़गांव से अपने घर आया तो मुझे स्कूल में क्वारंटीन सेंटर में रखा गया। रात में एक नर्स की ड्यूटी लगी। वो चेकअप के लिए आयी तो …

नमस्कार दोस्तो, मैं आपका राज शर्मा लेकर आया हूं हिन्दी सैक्स कहानी। मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और आज मैं अपनी नर्स सेक्स कहानी आपके लिए लाया हूं।

आज मैं आपको बताऊंगा कि जहां चाह वहां राह।

जैसा कि आप जानते हैं कि आजकल कोरोना की बीमारी चल रही है.

मैं भी गुड़गांव से अपने घर आया तो मुझे गांव के सरकारी स्कूल में क्वारंटीन सेंटर में रखा गया। मेरी डॉक्टर से पहचान थी तो एक छोटा रूम अलग से मिल गया जिसमें एक पलंग, टेबल, 2 कुर्सी रखी थी,उसमें मैं अकेला रूका था।

हमें देखने के लिए डॉक्टर और नर्स आते थे। एक दिन डॉक्टर नहीं आए और रात में एक नर्स की ड्यूटी लगी। उसकी उम्र 32-34 साल होगी। बड़े बड़े बूब्स बाहर निकली बड़ी गांड, रंग हल्का सांवला था। वो शायद दूसरे गांव के सरकारी अस्पताल में थी और आज उसकी ड्यूटी थी।

रात को सबने 8 बजे खाना खा लिया और कुछ लोग बाहर घूमने लगे, कुछ बिस्तर पर लेट गए।

9 बजे सबका चैकअप शुरू हुआ। मैं अपने रूम में अन्तर्वासना हिंदी सेक्स कहानी साईट खोल कर पढ़ने में लगा था. मैंने एक हाथ अपनी अंडरवियर में डाल रखा था। मुझे पता ही नहीं चला कि कब नर्स रूम में आ गई और मुझे देख रही थी।

थोड़ी देर बाद आवाज आई- चलो चैकअप के लिए तैयार हो जाओ! मैं एकदम से हड़बड़ा गया और जल्दी से हाथ बाहर निकाल लिया और तौलिया लपेट लिया।

मेरा लौड़ा खड़ा हो गया था और नर्स ने देख लिया था।

उसने मुझे चैक किया वो बोली- राज शर्मा? मैंने कहा- हां। नर्स बोली- आप तो एक दम नोरमल हो! मैंने कहा- हां, मैं पूरी सेफ्टी से आया हूं। बो बोली- सही है.

फिर मैंने कहा- सबका चैक‌‌अप हो गया? वो बोली- हां। फिर मैंने उसे बेड पर बैठने को कहा और फिर हम बात करने लगे।

उसकी बात से पता चला कि उसका पति 1 माह से उसके साथ नहीं है।

तभी एकदम से लाइट चली गई मैंने मौके का फायदा उठाकर मोमबत्ती उठाने के बहाने से उसके बूब्स दबा दिए। वो कुछ नहीं बोली.

तो मेरी हिम्मत बढ़ गई मैंने उसको अपनी बांहों में भर लिया और और उसके होंठों को चूसने लगा। शायद वो भी चुदाई के लिए तरस रही थी तभी उसने मेरी किसी हरकत का नाममात्र भी विरोध नहीं किया.



मैं उसे चूम रहा था और उसके जिस्म पर अपने हाथ फिरा रहा था. मैंने उसके बड़े बड़े स्तन खूब मसले. वो बी मजा लेकर अपनी चूचियां मसली जाने का मजा ले रही थी और हल्की हल्की सिसकारियां भर रही थी.

उसर पूरी तरह से गर्म करके मैंने पहले तो उसकी साड़ी को खोल दिया. फिर उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और उसकी पैन्टी के ऊपर से सहलाने लगा. वो मुझे कस कर पकड़ ली और मेरी अंडरवियर में हाथ डालकर लंड को सहलाने लगी।

मैंने उसकी पैंटी उसकी जांघों पर कर दी और उसकी चिकनी चूत में उंगली डाल दी। उसकी सिसकारी निकल पड़ी- उईह्ह आह हां! अब मैं अपनी उंगली नर्स की चूत के अंदर बाहर करने लगा।

तब मैं उठा और उसके ब्लाउज और ब्रा भी उतार दिया. अब वो नर्स मेरे सामने नंगी हो गई थी। तभी लाइट आ गई मैं उसे देखकर पागल हो गया।

वो बोली- राज तुम पहले गेट अंदर से बंद कर दो. मैंने झट से गेट और पर्दे बंद कर दिये।

उसने मेरी बनियान और अंडरवियर उतार दी और मेरे लौड़े को मुंह में लेकर चूसने लगी। क्या मस्त लौड़ा चूस रही थी मुझे रेखा आंटी की याद आ गई।

मैंने उसके सर को पकड़ कर झटके मारना शुरू कर दिया और उसके मुंह को चोदने लगा।

अब मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया उसकी दोनों टांगों को चौड़ा कर दिया और उसकी चिकनी भूरी चूत में अपनी जीभ घुसा दी और चूसने लगा. वो आनन्द के मारे उछलने लगी- आह हहहह ऊई ईई ईईई ऊईई ईहहई आहह हहह हह! ऐसी आवाज निकालने लगी.

मैंने जीभ को उसकी चूत के अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया और चोदने लगा। उसकी चूत लाल हो गई।

अब मैंने उसकी चूचियों को चूसना शुरु कर दिया और लंड चूत में घिसने लगा। उसकी बड़ी बड़ी चूचियां टाइट होने लगी।

उसने मेरे लौड़े को अपनी चूत में सेट किया … मैंने जोर का धक्का लगाया और लंड चीरता हुआ अन्दर घुस गया। वो ‘ऊईई ईईई ईईई ऊईईई ईई आहह ह हहह’ चिल्लाने लगी मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए।

धीरे धीरे मैं अपने लौड़े को नर्स की चूत में चलाने लगा। अब उसका दर्द कम होने लगा। वो और भी गरम हो गई और नीचे से अपनी गांड मटकाने लगी.

मैं समझ गया कि अब इसे जोरदार चुदाई की जरूरत है. और मैंने लन्ड की रफ्तार बढ़ा दी। अब गपागप गपागप मेरा लंड उसकी चूत के अंदर बाहर होने लगा.

वो नर्स सेक्स के मजे में बोली- राज, तुम मस्त चोदते हो! पहले भी किसी लड़की को चोद चुका है क्या? मैंने जोर का धक्का लगाया और कहा- मैं चुदाई का दीवाना हूं और बहुत औरतों लड़कियों को चोदा है।

अब तक हम दोनों पसीने में पूरे भीग चुके थे।

मैंने उसे उठाकर टेबल पर लिटा दिया और खड़ा हो कर उसकी चूत में लन्ड घुसा दिया और चोदने लगा.
अब उसे और भी मज़ा आने लगा. वप बोली- राज चोदो मुझे … और चोदो आह हहह आहहह हह ओहह हहहह … और तेज़ करो। एक महीने से मुझे लंड नहीं मिला. कोरोना में ड्यूटी लगी है।

अब मैं जोश में आ गया और अपने लन्ड को गपागप गपागप नर्स की गर्म गीली चूत में अंदर बाहर करने लगा. उसकी सिसकारियां निकलने लगी।

मैंने कहा- मुझे अभी 5 दिन और रूकना है. तुम अपनी नाइट ड्यूटी यहीं लगवा लो।

अब हम दोनों चुदाई का मज़ा लेने लगे. वो बोली- राज, फ़ाड़ दे मेरी चूत … और तेज़ चोद मुझे आहह उहह आऊहहह आहह हहहह आहहह!

मैंने उसे गोद में उठा लिया और चोदने लगा. अब मेरा लंड उसके अंदर बच्चादानी में टकराने लगा। वो चीख पड़ी- ऊईई ईईई ऊईईईईई सीईईईईई मर गई बचाओ बचाओ मर गई।

मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर आ कर चोदने लगा.

थोड़ी देर बाद उसका पानी निकल गया. मैंने अपने लौड़े को स्पीड में कर दिया और फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज तेज हो गई।

मैंने कंडोम नहीं लगाया था. अब मेरा पानी निकलने वाला था. मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और तेज़ी से लंड ने धार छोड़ दी. उसकी चूत में मेरा वीर्य भर गया.

हम दोनों पसीने से लथपथ हो गये थे लेकिन चिपक कर लेट गए।

30 मिनट बाद वो उठी बाथरूम चली गई मैं भी उसके पीछे पीछे चल दिया। दोनों ने पेशाब की मैंने उसे गोद में उठाया और बिस्तर पर ले आया।

उसने मुझे अपनी बांहों में खींच लिया और चूमने लगी मैं भी उसके पीछे से हाथ फेरने लगा।

मेरा लौड़ा फिर से खड़ा होने लगा. मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके होठों पर लंड फिराने लगा वो गप से लंड अंदर ले गई और लोलीपोप के जैसे चूसने लगी।

अब मैंने उसे बिस्तर में घोड़ी बनाया और अपना लौड़ा उसकी मखमली चूत में घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटकों से चोदने लगा. पूरा कमरा चुदाई की आवाज से गूंज उठा- आहह हहह आहहह ऊईई ईईई ऊईईईई चोदो चोदो चोदो मुझे लेलो मेरी आहहहह आहहह चोदो और चोदो।

अब वो भी गांड को आगे पीछे करने लगी. मैं भी फुल स्पीड से चोदने लगा।

उसने मुझे बताया कि वो इससे पहले कंपाउंडर और डॉक्टर का लंड ले चुकी है और उसका पति भी उसे खूब चोदता है। लेकिन 1 महीने से आज उसे लंड मिला है वो बहुत खुश थी।

अब मैं बिस्तर पर लेट गया और लन्ड पर उसको बैठने को कहा. उसने लंड को थूक से गीला किया और बैठ गई लंड सट्ट से अंदर चला गया। अब वो उछल उछल कर अपनी चूत से मेरे लौड़े को चोदने लगी।

अब हम दोनों ही सिसकारियां निकलने लगी.
उसकी चूत ने मेरे लंड को कस लिया था. वो नर्स सेक्स में ऐसे कूद रही थी जैसे घोड़े पर सवार होकर भाग रही हो। मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी एक टांग उठा कर अपने लौड़े को उसकी मखमली चूत में घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा।

अब हम दोनों फुल स्पीड से चुदाई करने लगे। हर झटके में उसकी सिसकारियां तेज़ हो गई और उसने पानी छोड़ दिया. लेकिन मैं उसी रफ्तार से तेज़ी से अंदर-बाहर करने लगा। फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज तेज हो गई.

मैंने अपने लौड़े को और तेज़ तेज़ अंदर बाहर करना शुरू कर दिया। अब वो बेहाल हो गई और लेट गई. पर मैंने गपागप गपागप अंदर बाहर करना चालू रखा। अब मेरा शरीर भी अकड़ने लगा और झटके के साथ ही पानी छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया। पता नहीं चला कब दोनों को नींद आ गई।

जब आंख खुली तो सुबह के 4:30 हो गये थे। मैंने उसे जगाया वो बोली- मेरी ड्यूटी 6 बजे तक है। मैं खुश हो गया और उसे चूमने लगा.

फिर दोनों गरम हो गये और एक राउंड और जमकर चोदा।

5 बजे उसने कपड़े पहने और मेरा टेम्प्रेचर चैक करके रीडिंग ली.

फिर हमने किस किया. वो नर्स सेक्स का वादा करके रूम से चली गई।

उसने बाकी लोगों को चैक किया और अपने घर गई।

उसके बाद हमने 5 रात जमकर चुदाई की वो सब में अगली कहानी में बताऊंगा। दोस्तो, मेरी नर्स सेक्स कहानी पसंद आयी क्या? कमेन्ट जरूर करें। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!