दोस्ती में फुद्दी चुदाई-13

तभी बाहर कुछ खटपट की आवाज़ हुई। मेरा ध्यान उस तरफ गया… सोनम की सिसकारियाँ भी रुक गई थीं।

मैंने चुपके से उसकी तरफ देखा तो दोनों ही डर गए थे और लगता था अभी-अभी सुनील के लण्ड ने सोनम की चूत भरी थी। उसकी चूत और जाँघों का गीलापन जबरदस्त चुदाई का गवाह था।

उस खटपट की वजह से दोनों ही जाने को हो रहे थे.. सोनम मादरजात नंगी अपनी चूचियों को छुपा रही थी और सुनील अपनी पैंट चढ़ा रहा था।

सोनम- मैंने आपछे कहा भी था.. जल्दी कलो.. कोई आ जाएगा।

सुनील- प्रवचन मत दो यार.. कपड़े पहनो.. मैं जा रहा हूँ.. तू आ जाना।

सोनम- मुझे इस हाल में छोड़ कल कोई भी समझ जाएगा.. छुनील हमने क्या किया.. लुक जाओ प्लीज़।

सुनील- माँ चुदा अपनी.. साली मादरचोद राण्ड…

और सुनील पीछे की खिड़की खोल कर कूद गया.. मैंने प्रीति को लिटाया और दरवाज़े की ओर देखा एल-4 का वो हॉल बहुत बड़ा था। मेरे लण्ड में अब भी तनाव बाकी था। जब तक लण्ड ना झड़े तो बेकरारी उन्हें समझ आती है.. जो इस तरह फंसे हैं।

मेरे लन्ड का तनाव बाकी था.. खटपट की आवाज़ सुन कर प्रीति भी एकदम से जाग गई.. मैंने उसे चुप रहने का इशारा किया और देखा तो कॉलेज के सुरक्षाकर्मियों में भी अब बवाली छात्रों से लोहा लेने की हिम्मत आ गई थी.. और वे वहीं डंडा पटकने लगे थे। तब तक प्रीति ने अपने कपड़े पहने और मुझे चूम कर भागी।

इस वक़्त मुझे पता था कि सोनम कमरे में मौजूद है और थोड़ा डरी हुई और शायद लण्ड की प्यासी भी है, क्योंकि जहाँ तक मुझे लगा सोनम की चूत अब भी एक लण्ड चाहती थी।

मैंने दुबारा चुपके से सोनम की ओर देखा और मेरी सोच बिलकुल सही निकली.. सोनम अपनी गीली चूत में ऊँगली करके अपना पानी निकालने की कोशिश कर रही थी।

मैंने सोचा चलो अब अपना हाथ जगन्नाथ की नौबत नहीं आनी.. एक चूत तो चोदने को मिल ही गई.. चाहे अभी अभी चुदी ही क्यों ना हो। लेकिन मुझे सोनम से चूत मांगनी नहीं थी.. मैं चाहता था कि वो खुद मुझे चोदने को बुलाए। इसलिए मेरे दिमाग में एक जबरदस्त योजना ने जन्म लिया।

मैंने पैंट ऊपर को चढ़ाई और सीधा दनदनाता हुआ सोनम के बिलकुल सामने जा कर खड़ा हो गया और गुस्से भरी निगाह से घूरते हुए उसके बाल पकड़ कर अपने करीब किया और पूछा।

“कब से चल रहा है ये सब?”

सोनम की एक ऊँगली अभी भी उसकी चूत में थी.. ऐसा होते ही वो घबरा गई।

सोनम- क.

.क्..क्या समर.. तु..तुम.. यहाँ?

मैं बोला- हाँ.. और तब से हूँ जब से सुनील तुम्हें चोद रहा था।

सोनम- क..क्..क्या..क्या बात कर रहे हो समर.. सुनील तो आज कॉलेज आए ही नहीं।

मैंने फिर गुस्से में घूर कर बोला- अच्छा तो अभी जिससे चुदवा रही थी.. वो कोई और था.. ऐसे तो उसको अपना पति मानती है.. लेकिन सुहागरात के लिए कोई और क्यूं..? बड़ी आग लगी है तेरी चूत में.. छिनाल…

सोनम- नहीं नहीं..समर.. सुनील ही थे वो।

सोनम खुद की बातों में फंस चुकी थी.. लेकिन मेरे सामने नंगी होने पर भी उसे इस बात की शर्म नहीं थी कि उसने कुछ पहना हुआ नहीं है.. बल्कि वो अपने चरित्र की ज्यादा दुहाई दे रही थी।

फिर मैंने भी नाटक चालू रखा।

‘अभी तो तुमने कहा.. सुनील कॉलेज नहीं आया.. तुम ऐसे नहीं मानोगी.. रुको तुम..!’

और मैंने चलने का नाटक किया ही था कि सोनम की आंसुओं की धार बह निकली।

सोनम- समर.. प्लीज़ रुक जाओ.. किसी को बुलाओ मत.. मैं बर्बाद हो जाऊँगी।

मैं मुस्कराया.. सोनम के करीब जाकर उसे छोटा सा चुम्बन किया और उसके बगल में कंधे से हाथ डाल कर उसकी चूचियों पर रखते हुए बोला।

‘सोना बेबी.. अब तुम खुले में चुद सकती हो तो क्या मैं एक मज़ाक भी नहीं कर सकता.. ह्म्म्म।’

मैं हँसने लगा लेकिन सोनम और रोने लगी और मुझे सीने में घूंसे मारने लगी।

सोनम- कमीने.. कुत्ते.. मेरी जान ही निकाल दी तुमने…

अब सोनम को अहसास हुआ कि वो मेरी बाँहों में नंगी बैठी है। जब तक वो कुछ करती.. मैंने उसकी दाईं चूची जोर से दबाई और उसे अपनी ओर खींच कर उसके होंठ अपने होंठों से सिल दिए।

सोनम का प्रतिरोध ना के बराबर था। मैंने सोनम के होंठ चूसना जारी रखा, कुछ ही देर में सोनम भी मजे लेने लगी। हमारी जीभ एक-दूसरे को छेड़ने लगी। मैंने सोनम की आँखों को चूमा.. उसकी हंसिनी गर्दन पर अपने दांत गड़ाए.. उसके कानों के पीछे अपनी जीभ फ़िराई.. उसकी मुलायम पीठ पर अपने होंठों का जादू चलाया.. कुल मिलाकर हम दोनों दुबारा उत्तेजना और वासना से भर चुके थे।

कुछ ही देर में मेरे कपड़े भी बिखरे हुए थे और सोनम मेरी गोद में बैठी हुई थी। मेरे हाथ उसकी नरम गाण्ड को मसल रहे थे और उसके होंठ मेरे होंठों को चूसने में व्यस्त थे। उसके हाथ मेरी पीठ पर रेंग रहे थे.. तभी मैंने उसका हाथ ले जाकर अपने लण्ड पर रख दिया।

सोनम के मुँह से निकला- हाय दइया.
. इत्ता लम्बा।

मुझे हंसी आ गई कि साली छिनाल नाटक कर रही है.. लेकिन कुछ ना बोल कर मैंने उसका मुँह अपने लण्ड पर दबाया।

सोनम समझ गई कि मैं क्या चाहता हूँ उसने एक बार ‘नहीं’ की.. निगाह से मुझे देखा.. लेकिन मैं बोला- अरे भोसड़ी की.. जो कहता हूँ.. सो कर.. यार सुबह से गाण्ड मरी हुई है.. साला आज एक अदद चुदाई नहीं हुई नसीब में…

सोनम राज़ी नहीं हुई.. तो मैंने उसका सर और नीचे दबाया और बोला- अरे चूस मादरचोदी.. क्यूँ चाहती है कि तेरी गाण्ड फाडू.. और सुन आज ही नहीं.. आज के बाद भी.. तू मुझसे चुदवाएगी क्योंकि जो मेरे पास है अगर वो बाहर गया.. तो तेरी माँ भी चुद जाए तो भी तेरी ही गाण्ड मारेगी।

सोनम का मुँह खुला का खुला रह गया वो मुझे जानती थी कि मैं कितना बड़ा कमीना हूँ।

उसने तुरंत मेरा लण्ड मुँह में लिया और जोर-जोर से उसका टोपा चूसने लगी। मैंने लगभग आधा लण्ड और घुसाया और उसके मुँह को चोदने लगा।

दोस्तो, आज कहानी को इधर ही रोक रहा हूँ.. आगे क्या हुआ अगले भाग में लिखूँगा। आपके विचार और प्रश्न जरूर भेजिएगा।

दोस्ती में फुद्दी चुदाई-12

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!