कुँवारी पिंकी की सील तोड़ चुदाई -7

फिर हम दोनों बाथरूम में चले गए और फिर मैंने फव्वारा चालू कर दिया और पिंकी के लबों को चूमने लगा, साथ ही मैंने पिंकी के चूचों को जोर जोर से दबाना चालू कर दिया, एक हाथ से पिंकी की नंगी पीठ को प्यार से सहला रहा था और पिंकी मेरे लंड को पकड़ कर सहला रही थी।

फिर मैंने पिंकी को नीचे बैठा दिया और पिंकी के मुँह में लंड डाल कर उसके मुँह को चोदने लगा। 5 मिनट ऐसे ही पिंकी के मुँह को चोदने बाद मैंने पिंकी घोड़ी बना दिया और फिर उसकी गांड को चाटने लगा तो पिंकी म्मम्मह्ह्ह ह्ह आयाह्ह ह्हह्ह ऊऊय्य्य्य्या आआआस्सह ह्ह ह्ह्ह्म्म म्मम्म करने लगी।

अब मैंने पीछे से ही पिंकी की गांड पर लंड को रखा और जोर के धक्का मारा, पिंकी ‘ऊऊओईईई ईईईईई…!’ करके रह गई। इस बार आधे से ज्यादा लंड पिंकी की गांड में चला गया फिर थोड़ी जोर जोर से पिंकी की गांड में लंड को अंदर बाहर करने लगा। अब पिंकी भी मस्त हो गई थी और मैं जोर जोर से गांड मार रहा था, पूरे बाथरूम में आवाज गूँजे जा रही थी- ऊऊऊआआह्ह्ह ह्ह्ह्ह ऊऊह्ह ह्ह्ह्हो यस ऊऊऊओ इस्स स्सस आह्ह ह्ह और जोर से ह्हहम्म म्मम्म!

करीब 10 मिनट इसी पोज़ में पिंकी की गांड मारी, बता दू कि यह पोज़ मुझे बहुत पसंद है। ऐसे चोदने से अब मैं भी थकने लगा तो मैं पिंकी को उठा कमरे में ले गया फिर उसको पीठ के बल लेटा कर उसकी चूत को चाटने लगा।

कभी कभी जब मैं पिंकी की चूत चाटता तो कभी उसके दाने को दबा देता जिससे वो और भी ज्यादा सिसकारियाँ ले रही थी।

करीब 5 मिनट पिंकी की चूत चाटने के बाद पिंकी की चूत अब गीली हो गई थी तो मैंने पिंकी की चूत पे लंड को रखा और जोर से पेल दिया, आधा लंड अंदर चला गया। फिर मैंने साथ में एक धक्का एक और पेल दिया पिंकी की आवाज निकली ‘आआःह्ह…’

अब मैने स्पीड थोड़ी तेज कर दी और पिंकी को जोर जोर से चोदने लगा, पिंकी बस बोले जा रही थी- आह्ह ह्ह्ह… चोदो और चोदो ह्ह्ह्ह ह्ह्हम्म मम्मम्म ऊऊऊऊ…

और ऐसे ही मैंने फुल स्पीड कर दी और पूरा कमर हम दोनों की आवाज से गूंज रहा था- आआह्ह्ह ह्ह्ह् ऊई ऊऊओ ह्ह्ह ह्हूऊऊओ ह्हह ह्हह्हह!

अब पिंकी बोलने लगी- यश मेरा निकलने वाला है। मैं अपनी फुल स्पीड में पिंकी को चोद रहा था, मैंने 15 से 20 फुल स्पीड में धक्के मारे होंगे और पिंकी अकड़ने लगी और झड़ गई। एक मिनट बाद मैं भी उसकी ही चूत में सारा माल डाल कर लेट गया। अब हम दोनों थक चुके थे और एक दूसरे की बाँहो में थे।

मैंने पिंकी से पूछा- कैसा लगा लॉन्ग ड्राइव? पिंकी- यार आज तो आप ऐसी लॉन्ग ड्राइव पर ले गए, पूछो मत ! तो मैंने पिंकी से कहा- पिंकी, तुमसे एक बात कहूँ तो बुरा तो नहीं मानोगी? पिंकी- नहीं, बोलो क्या बोलना है आपको? मैं- पक्क ना? पिंकी- हाँ बाबा, बोलो ना? मैंने कहा- पिंकी मैंने और सोनी ने कल सेक्स किया था। पिंकी- क्या? मैंने कहा- हाँ, कल तुम अपनी फ्रैंड की सिस्टर की शादी में गई थी न, तब की बात है।

पिंकी का मुँह बन गया पर मैंने पिंकी को किस किया, फिर पिंकी बोली- चलो कोई नहीं यार, उसको भी बहुत दिन से देख रही थी, मुझे पता था कि उसका मन भी कर रहा था। चलो अच्छा है कि तुम से ही किया, कम से कम यह बात कहीं फ़ैलेगी तो नहीं! और मुझे डर भी था कि वो कहीं गलत लड़के के साथ न करे! तुमको पता ही है, आजकल सेक्स तो करते हैं और अपने दोस्तों को भी मजा दिलवाते हैं। और वीडियो का भी डर रहता है।

फ़िर पिंकी ने कहा- तुम तो मुझे बिना बताये हुए मेरी बहन से सेक्स कर सकते थे? फिर क्यों बताया मुझे? मैंने कहा- देखो यार, मैं लड़कियों की बहुत रिस्पेक्ट करता हूँ और जब तक लड़की की हाँ नहीं होती, मैं कुछ नहीं करता क्योंकि जब तक दोनों की हाँ ना हो ना, तो चाहे वो सेक्स हो या शादी या और कोई फैसला, तब तक कोई काम ठीक नहीं होता!

कहानी जारी रहेगी। दोस्तो, मेल भेजना न भूलें। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!