गर्लफ्रेंड की सहेली और थ्री-सम चुदाई -3

अब तक आपने पढ़ा..

मैं थोड़ा ऐंठता हुआ अपना लण्ड बाहर निकालने लगा और थोड़ा आगे-पीछे करके.. मेरा पानी तेज पिचकारी जैसे उसके मम्मों पर जाकर गिरा.. और फिर धीरे-धीरे पानी को मैंने उसकी नाभि में भर दिया.. उसके पेट का छेद पूरा भर गया और बहते हुए चूत के ठीक ऊपर लकीर बनाते हुए चूत की फांक में घुसने लगा। मैंने रस को चूत में जाते हुए देखा तो हँसते हुए बाहर निकाल दिया- किधर पार्टी करवाने घुस रहा है मादरचोद..

आयशा हँस पड़ी.. मैं उसके बगल में सीधे लेट गया वो मुझसे लिपट गई। थोड़ी देर हम यूँ ही लेटे होंगे कि कोई हमारे कमरे का दरवाजा बहुत जोर से पीटने लगा.. हम दोनों डर गए।

अब आगे..

मैं जल्दी से बिना चड्डी के जीन्स पहन कर खुद को ठीक करने की कोशिश करने लगा.. और अपनी पसीने से भीगी वही शर्ट दुबारा पहन ली।

जल्दीबाजी में मेरी शर्ट के बटन ऊपर-नीचे लग गए.. और तब तक आयशा ने उठकर अपनी ब्रा से सारा वीर्य पोंछा और चूत को रगड़ कर उसमें लगे पानी को साफ़ करने लगी। फिर उसने जल्दी से ब्रा व पैंटी.. दीवान के गद्दे के नीचे रख दी और वही पिंक लोअर और हल्का ढीला टॉप पहन लिया और ऊपर से स्टॉल ले लिया।

तब तक दरवाजे से एक लड़की की आवाज आई- आयशा दरवाजा खोल.. कहाँ मर गई?

आयशा समझ गई कि दरवाजे पर 34c-28-34 के फिगर वाली उसकी सहेली प्रियंका है, वो एक ठण्डी सी सांस लेती हुई आगे बढ़ी। मैं पास रखी पानी की बोतल उठा कर पानी पीने लगा.. और आयशा ने दरवाजा खोल दिया।

दरवाजा खुलते ही प्रियंका सीधे अन्दर घुस आई.. और बोली- क्या कर रही थी.. इतनी देर कैसे लगी? उसने अन्दर आकर मुझको देखा.. और मजाक उड़ाते हुए कहने लगी- ओह्ह्ह तेरा बॉयफ्रेंड आया है.. तो तुम लोग मजे ले रहे थे.. हम्म्म..

मैं नार्मल होकर बाथरूम.. जो कि कमरे में ही था.. में घुस गया.. और अन्दर जाकर मैंने अपने आपको साफ किया। जब मैं लण्ड साफ़ करके.. मूत कर बाहर आया.. तो देखा प्रियंका ठीक वहीं बैठी थी.. जहाँ आयशा और मेरी चड्डी और ब्रा नीचे दबी थी।

वो थोड़ा ढंग से बैठने की एक्टिंग करती है.. और बोली- अरे क्या हुआ तेरे दीवान को.. ये ऊबड़-खाबड़ सा क्यों हो गया है? उसने ये कहते हुए झट से गद्दा ऊपर उठा दिया और आयशा की ब्रा ऊपर उठाती हुई मजाक करने लगी- ओह्ह तो ये मामला है.. मतलब तूने अभी ब्रा नहीं पहनी है..

और पैंटी उठाकर बोली- मतलब तू अन्दर से पूरी नंगी है.

. और वो मेरा अंडरवियर उठाते हुए और दोनों हाथ से ऊपर उठाकर मेरी तरफ देखने लगी- ओह.. तो ये तेरे बॉयफ्रेंड का है.. मतलब मेरे जीजू का है.. वो मेरे अंडरवियर की पट्टी को पढ़ती हुई बोली- अमूल माचो ब्रांड की 100 नंबर वाला ढक्कन..?

वो मुझे देखकर चिढ़ाती है और बोली- बापरे चड्डी इतनी बड़ी है.. तो लण्ड कितना बड़ा होगा.. और इसका मतलब जीजू भी अन्दर से नंगे हैं.. ओह माय गॉड! यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं ! आयशा और मैं दोनों शॉक्ड हो जाते हैं कि प्रियंका इस तरह खुल कर ‘लण्ड’ शब्द बोलते हुए क्यों बात कर रही है?

आयशा भी खुल कर बोली- तुझे तो सब पता है.. और तूने तो बोला ही था कि तूने मूवी हॉल में इसका लण्ड देखा है.. तो क्यों नाटक कर रही है.. और तूने मेरे बॉयफ्रेंड को पहले तो कभी जीजू नहीं कहा.. तो आज कैसे.. हम्म्म्म?

अब प्रियंका बोली- यार देखकर कहाँ मन भरता है.. और तू इससे शादी करेगी तो मेरे जीजू ही तो लगेंगे ना.. हम्म्म.. और मैं इनकी साली.. और साली तो आधी घरवाली होती ही है.. तो इस नाते से.. मैं भी आधा मजा ले सकती हूँ ना.. इतना सुनते ही आयशा बोली- प्रियंका ये क्या बकवास कर रही है तू?

प्रियंका उठी और आयशा के गले से स्टॉल निकाल कर बिस्तर में फेंकते हुए उसके बड़े मम्मों के निप्पलों पर.. जो अभी भी थोड़े खड़े से थे.. अपने हाथ फेर कर हल्के से दबाते हुए बोली- देखो जीजू अभी इसकी चुदास खत्म नहीं हुई.. इसके निप्पल अभी भी खड़े हैं.. आयशा उसका हाथ पकड़ कर बोली- ये क्या बदतमीजी कर रही है.. होश में आ..

प्रियंका मेरे पास आई और बोली- जीजू, आपका लण्ड तो बहुत बड़ा और मोटा है.. इसका थोड़ा सा सुख अपनी साली को भी दे दो न.. यह कहते हुए उसने अपना हाथ मेरी जीन्स के अन्दर डाल दिया।

उस वक्त मेरा लण्ड ढीला सा था.. पर वो थोड़ी देर दबाती रही.. और बोली- यह तो.. सो गया.. चलो कोई बात नहीं मैं इसे फिर से खड़ा कर दूंगी। उसने अपने हाथ से मेरा हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पर रख लिया.. जो कि बिलकुल टाइट थे.. और वो मुझसे अपने अपने 34 सी साइज़ के चूचों को दबवाने लगी।

इतने में मेरी गर्लफ्रेंड आयशा उसका हाथ पकड़ कर दरवाजे के बाहर निकालने की कोशिश करने लगी।

प्रियंका उसको धक्का देते हुए बोली- ओये बहना.. तमीज से.. वरना.. मकान मालकिन के सामने सारी पोल खोल दूंगी.. समझी ना.. प्यार से समझा रहीं हूँ.
. समझ जा.. आयशा गुस्सा होते हुए बोली- यार तेरा ही तो यह प्लान था.. और तू ही अभी?

‘प्लान तो मेरा ही था.. तो मेरा भी तो कुछ फायदा होना चाहिए ना.. मेरे अन्दर भी आग लगी है.. तुम्हारी चुदाई देखने के बाद और जीजू का लण्ड देखने के बाद कंट्रोल नहीं हो रहा है।’

आयशा चौंकते हुए प्रियंका की तरफ घूर कर देखने लगी।

‘मैं भी चुदना चाहती हूँ जीजू से.. देख आयशा प्यार से मान जा..’

वहीं मैं मन ही मन खुश हो रहा था.. क्यूंकि मैं अभी भी प्रियंका के मम्मों को जो कि एकदम टाइट और पूरे गोल थे.. भूल नहीं पा रहा था।

प्रियंका बोली- देख आयशा हम तीनों मजे लेंगे.. जी भर कर.. किसी को नहीं पता चलेगा। आयशा बोली- पहले तू ये बता कि तूने क्या-क्या देखा? प्रियंका बोली- सब कुछ.. कूलर की दरार से.. तुम लोगों की पूरी चुदाई देखी।

आयशा दिमाग लगाते हुए बोली- तूने देख भी लिया तो क्या.. तेरे बोलने से मकान-मालकिन थोड़े ना मानेगी.. प्रियंका बोली- मुझे मालूम था.. तू ऐसे नहीं चुदने देगी मुझको जीजू से.. इसलिए मैंने वीडियो बना लिया था जीजू और तुम्हारी पूरी चुदाई का.. वो आयशा को अपना मोबाइल निकाल कर दिखाने लगी।

आयशा वीडियो देखते ही चुप हो गई.. उधर थोड़ा सा वीडियो दिखा कर प्रियंका ये बोलते हुए मोबाइल लेकर कमरे से बाहर जाने लगी- रुक अभी.. दिखाती हूँ ये ही वीडियो मकान मालकिन को!

आयशा मेरी तरफ देखने लगी.. और मैं उसकी तरफ देख कर.. आपस में बात करने लगे।

आयशा- अरे यार ये तो पंगा हो गया.. समझ ही नहीं आ रहा क्या करें.. वो बता देगी तो मेरे घर में सबको पता चल जाएगा.. और ये साली आंटी हम दोनों को बेइज्जत करके घर से बाहर निकाल देगी। विवान- अरे आयशा.. हमारे पास और कोई चारा भी नहीं.. पहले जल्दी से प्रियंका को रोक.. और वो किसी को नहीं बताएगी.. छोड़ो एक बार ही तो करना है.. फिर वो अपने रास्ते और हम अपने रास्ते।

आयशा प्रियंका का नाम लेकर चिल्लाते हुए कमरे के बाहर जाती है.. तो देखती है.. प्रियंका सीढ़ियों में बैठी थी। शायद उसको पता था कि हम लोग मान ही जाएंगे.. और हमारे पास कोई चारा भी नहीं था।

आयशा.. प्रियंका के पास सीढ़ियों में बैठ गई और बोली- यार प्रियंका तू सही नहीं कर रही है.. तुझे कोई लड़का चाहिए था तो बोल देती.. मैं अपने बॉयफ्रेंड से बोलती.. वो अपने किसी दोस्त को तुम्हारे लिए मना लेता।

प्रियंका बोली- यार आयशा.
. पहली बात तो तेरा बॉयफ्रेंड.. मेरा जीजू.. जैसा कोई हैंडसम और बड़े लण्ड वाला लड़का मिलेगा कि नहीं.. इसकी कोई गारंटी नहीं है.. और मैं तो तुम लोग की हवस और चुदाई देख ही चुकी हूँ.. और आज मैंने जीजू का मस्त लौड़ा भी कसरत करते देख लिया.. तुम लोगों ने करीब 40 से 50 मिनट तक चुदाई की है.. शायद ही कोई इतने लम्बे समय तक टिकता होगा.. मैं खुद शॉक्ड हूँ.. और मैंने अब ठान ली है कि.. मुझको जीजू से ही चुदना है.. बस तो बस..

आयशा चुप होकर उसे सुन रही थी।

‘और तू खुद सोच.. मैं अगर अकेले जीजू को ब्लैकमेल करती तो क्या वो मुझको अकेले चोदने में मना कर देते.. नहीं ना.. तो तू खुश हो कि हम तीनों मजे लेंगे.. वो भी तेरे सामने.. चल अब अन्दर चल जीजू अकेले हैं..’

वो दोनों अन्दर कमरे में आई, प्रियंका बोली- चलो तुम दोनों दीवान पर बैठ जाओ.. हम दोनों चुपचाप बैठ गए.. हमें समझ ही नहीं आ रहा था कि कैसे काम शुरु करें.. सजैसा-जैसा प्रियंका बोलती जा रही थी.. वैसे-वैसे हम लोग करने लगे।

प्रियंका अब आयशा के पास गई और उसके टॉप के अन्दर हाथ डाल कर.. आयशा के मम्मों को सहलाने लगी और टॉप के ऊपर से ही उसके निप्पलों को चूसने लगी.. जिससे उसके निप्पलों के आगे का हिस्सा गोलाकार में गीला हो गया।

आयशा अपनी आँखें बंद करके मजे लेने लगी.. और एक हाथ से मेरी जीन्स की ज़िप खोलते हुए और अन्दर हाथ डालकर लण्ड को बाहर निकाल लिया।

मेरा लण्ड अब टाइट होने लगा था.. आयशा की हालत देख कर प्रियंका बोली- वाऊ जीजू.. आपका लण्ड तो बहुत ही बड़ा और मोटा है.. मैंने जबसे देखा है.. सोच-सोच कर मेरी चूत गीली हो जाती है.. आपकी चुदाई देखकर मैंने अपनी चूत में बाहर ही उंगली कर ली थी।

फिर वो दोनों हाथों से आयशा का टॉप उतार कर फेंक दिया.. और मेरी जीन्स का बटन खोल कर तुरंत नीचे खिसका कर उतार दिया। अब मैं नीचे से नंगा हो गया था.. और मेरा लण्ड फनफ़नाने लगा था। प्रियंका बोली- जीजू.. आप आयशा के मम्मों को चूसो न..

दोस्तो, मुझे इस चुदाई में जो आनन्द आ रहा था वो मैं आपको हूबहू बताने का पूरा प्रयास कर रहा हूँ। इस घटना का पूरा मजा लेने के लिए आप सभी मेरे साथ बने रहिये और मुझे अपने विचारों से जरूर अवगत कराएँ।

कहानी जारी है। [email protected] [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!