मेरी अन्तर्वासना हिन्दी सेक्स स्टोरी की फ़ैन की चूत-1

नमस्कार दोस्तो, आप मेरी कहानियाँ को पढ़कर मुझे और कहानियाँ लिखने के लिए उत्साहित कर रहे हो। उसके लिए मैं आपका धन्यवाद करता हूँ। आपके द्वारा मेरी कहानी पढ़ कर मुझे ईमेल करने से मुझे आप लोगों की राय पता चलती है।

यह कहानी नॉएडा के रहने वाले एक कपल रोहित और कविता की है.. जो मेरी कहानियाँ को अक्सर पढ़ते हैं और मुझे मेल भी करते हैं। उनसे धीरे धीरे मेरी बात ज्यादा होने लगी, वो मेरे से चैटिंग करते हुए सेक्स करने लगे। फिर हम व्हाट्सएप पर भी बातें करने लगे और फ़ोन पर भी बात होने लगी।

एक दिन उन्होंने ऐसे ही बात करते हुए मुझे मिलने के लिए बोला। मुझे कुछ काम की वजह से उनसे मिलना नहीं हो पाया और ऐसे ही हमें बातें करते करीब 3-4 महीने निकल गए।

आखिर एक दिन मुझे एक काम की वजह से नॉएडा जाने का मौका मिला, तो मैंने उन्हें बताया। वो बहुत खुश हुए। मैंने उन्हें बताया कि मैं वहाँ 2 दिन के लिए आ रहा हूँ। तो उन्होंने मुझसे कहा कि मैं रात को उनके पास ही ठहरूं। पहले तो मैंने मना किया, परन्तु उनके जोर देने पर मैं उनके पास रुकने के लिए राजी हो गया।

मैं गुरूवार को शाम तक उनके पास पहुँच गया, वो दोनों मुझे स्टेशन पर लेने के लिए आए हुए थे। मैंने उन्हें देखा वो दोनों ही बहुत स्मार्ट थे। रोहित तो बहुत सुन्दर था ही और कविता ऐसा माल थी कि जैसे अँधेरे में रोशनी कर दे। बिल्कुल दूधिया जिस्म.. एकदम कसे हुए मम्मे.. जो उसके टॉप में और भी मस्त लग रहे थे। इतनी सुन्दर होने के बावजूद.. ऊपर से मेकअप करने के बाद वो फुल सेक्सी माल लग रही थी।

मैं एक बार तो उसे देखता ही रह गया, उसकी मुझसे ‘नमस्ते’ की तो मैं उसकी जवानी की कल्पना से वापिस आ गया। रोहित भी मुझे गले लग कर मिला।

हम स्टेशन से बाहर आए और रोहित ने अपनी कार में मेरा बैग रखा और मुझे अपने साथ बिठाया। कुछ ही देर में हम सब घर की तरफ निकल पड़े।

रास्ते में मुझसे रोहित बातें करता जा रहा था और अपने शहर के बारे में बता रहा था। पीछे बैठी कविता भी खुल कर मुझसे बात कर रही थी।

तभी रोहित ने कहा- रवि जी, कविता तो आपकी कहानियों की दीवानी है, ये तो कब से आपको मिलने के लिए तरस रही थी, आपकी पक्की फैन है ये। मैंने भी मुस्कराते हुए पीछे मुड़ कर कविता की ओर देखते हुए कहा- ओह.. अच्छा कविता जी.. क्या रोहित जी सही कह रहे हैं?

तो कविता थोड़ी शर्मा गई।

मैंने उसकी शर्म को दूर करते हुए उससे कहा- अरे फोन पर तो बहुत बेबाक होकर चुद भी जाती हो कविता.

. और आज मैं सामने आया तो ऐसे शर्मा रही हो जैसे कुंवारी लड़की शर्माती है।

रोहित बोला- अरे यार कोई बात नहीं कविता की शर्म घर जाकर उतार देंगे। कविता बोली- अरे यार आप तो बस, अभी से शुरू हो गए। आप और सुनाओ.. कैसे हो.. सफर कैसा रहा? मैंने कहा- सब मस्त, बस तुम्हारी वो नंगी फोटो देखते हुए आ गया, जो आप दोनों ने मुझे व्हाट्सैप्प पर भेजी थी।

वो फिर थोड़ा शर्मा गई और बोली- अरे ये भी न बस.. ऐसे-ऐसे काम करते हैं कि पूछो मत! ऐसी ही बातें करते हम उनके घर पहुँच गए।

उनका घर तीसरी मंजिल पर दो बेडरूम का है। उनका एक बेटा है, अभी तीसरी क्लास में पढ़ता है।

मैं और रोहित ड्राइंग रूम में बैठ गए और कविता हमारे लिए चाय-पानी लेने किचन में चली गई। मैं और रोहित कुछ इधर-उधर और काम-काज की बातें करने लगे।

तभी रोहित ने मुझे करीब होकर कहा- यार, कविता सच में आपकी बहुत बड़ी फैन है.. आप जानते नहीं, आपकी कहानियाँ पढ़ने के लिए इसने अलग से एक फोन लिया हुआ है। आप इसे एक बार हग तो कर दो और एक किस भी कर दो यार.. वो खुश हो जाएगी। कल रात भी इसने आपके नाम से मुझसे चुदाई करवाई है।

इतने में कविता तीन गिलास जूस लेकर कमरे में दाखिल हुई। उसने जैसे ही ट्रे को टेबल पर रखा, तो मैंने उसे आगे बढ़ कर पकड़ लिया। पहले मैंने उसे गले लगा कर हग किया और फिर उसकी गाल पर हल्का सा किस करते हुए कहा- थैंक्स कविता, मुझे इतना मिस करने के लिए।

फिर मैंने एक हाथ से उसकी गांड को थपथपा दिया। ऐसा करने से कविता की गालें लाल हो गईं और वो थोड़ा शर्मा भी गई। वो शायद पहले से उत्तेजित थी।

वो बिना कुछ बोले फिर किचन में गई और वहाँ से कुछ नमकीन वगैरह लेकर आई और मेरे सामने वाले सोफे पर बैठ गई।

हम तीनों ने जूस लिया और बातें करने लगे, तो रोहित ने बताया- बेटा स्कूल गया है और अभी घर में हम तीनों ही हैं, तो मैं चाहता हूँ कि बेटे के स्कूल से आने से पहले आप कविता को मेरे सामने एक बार खुश कर दो।

उसकी इस बात से मैं थोड़ा हिचकिचाया, क्योंकि मैं इसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं था और न ही मैंने ऐसा कुछ सोचा था कि जाते ही मुझे तुरंत कुछ ऐसा करना पड़ेगा।

मैंने कहा- यार, अभी मैंने पहले फ्रेश होना है.. नहाना है.. फिर रात को देखेंगे। अभी आज तो हम सब सिर्फ बातें करेंगे। कविता शर्मा कर बाहर चली गई।

रोहित बोला- यार रवि देख, कविता को अपने साथ लेकर नहला दो, मैं सामने खड़ा होकर देख लूँगा और बेटे के आने से पहले एक राउंड लगा लो। मैंने सर झटका कर ‘हाँ’ बोल दी।

फिर कविता मेरे पास आई और बोली- मैं आपके लिए चाय बनाऊं.
. या आप पहले खाना लोगे? मैंने कहा- नहीं.. मुझे अभी कुछ नहीं लेना, अभी मैं नहाने जा रहा हूँ। फिर सिर्फ चाय लूँगा, खाना रात को ही खाएंगे। तभी बीच में रोहित बोल पड़ा- अरे साली.. तू भी जा.. इनके साथ ही नहा ले।

इसके बाद वो कविता को मेरी ओर धकेलता हुआ बोला- ले रवि.. पकड़ इस साली को.. ले जा बाथरूम में। उसने ऐसा धक्का दिया कि कविता मेरी गोद में आ गिरी।

मैंने कविता को पकड़ा और उसे एक किस कर दी। उसने भी तरफ देखा तो मैंने उसके होंठों को भी किस कर दी।

मैंने देखा कि अब कविता की तरफ से कोई विरोध नहीं हो रहा था। क्योंकि उसका जो ऊपरी विरोध था.. वो तो बस एक औरत होने के नाते था जो नारी का एक नखरा मात्र होता है।

मैं समझ गया कि अब कविता का भी मूड है। शायद उन दोनों ने मेरे आने से पहले ही कोई ऐसा प्लान सोचा लिया होगा कि वो पहले चुदाई ही करेंगे। अब मैंने भी अब दोनों की मर्जी मान कर कविता को चोदने का फैसला कर लिया।

क्योंकि बेबाक तो मैं पहले से ही हूँ, इस लिए मुझे तो रोहित के सामने कविता को चोदने में कोई दिक्कत नहीं थी। बस सफर की वजह से थोड़ी थकावट जरूर थी परन्तु वो भी अब कविता और रोहित को मिलने से उतर गई थी।

मैंने कविता को पकड़ा और उसे बाथरूम तक चलना का इशारा किया, कविता मुझे बाथरूम तक छोड़ने मेरे साथ चली गई। जैसे ही वो वापिस मुड़ने लगी, तो मैंने उसकी बाजू पकड़ कर उसको अन्दर करते हुए कहा- अब अन्दर ही आ जाओ कविता।

मेरे थोड़ा सा बाजू खींचने से ही वो मेरे साथ अन्दर आ गई.. जैसे वो पहले से ही तैयार हो। मैंने बाथरूम का दरवाजा बंद किया और अपने कपड़े उतारने लगा, मैं सिर्फ अपने अंडरवियर में आ चुका था परन्तु कविता ने अभी तक कोई कपड़ा नहीं उतारा था।

कविता ने जीन्स टॉप पहना हुआ था, मैंने कविता को दो-तीन किस एक साथ की और उसके नीचे का होंठ अपने होंठों में लेकर चूसा। फिर मैंने उसके मम्मों को ऊपर से दबाया।

मम्मों को दबाने से कविता गर्म हो गई, वो सिसकारियाँ लेने लगी। मैंने उससे कहा- कविता डार्लिंग, मेरा नाम लेकर कैसे-कैसे चुदती हो?

वो अभी भी कुछ नहीं बोली, बस कामुकता से सिसकारती जा रही थी। मैंने उसके टॉप को उतार दिया और टॉप के नीचे उसने समीज भी पहनी हुई थी। फिर मैं उसकी समीज के ऊपर से उसके मम्मे दबाने और सहलाने लगा। कविता के कानों के पास मैं अपनी गर्म साँसें छोड़ रहा था।

मैंने कविता की समीज भी कुछ ही देर में निकाल दी और अब उसके दोनों कबूतर मेरे सामने छूटने के लिए फड़फड़ा रहे थे, परन्तु उनके ऊपर वाइट कलर की ब्रा कसी हुई थी। मैंने उसकी ब्रा को ऊपर करके उसके दोनों मम्मों को एक-एक करके मुँह में लेकर खूब चूसा और कविता को पूरी तरह गर्म कर दिया।

कविता छटपटाने लगी.
. वो बोली- उन्ह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… छोड़ दो प्लीज़।

मैंने कहा- साली.. फोन पर तो खूब गन्दी-गन्दी गालियाँ देकर चुदती हो.. व्हाट्सैप्प पर खूब मेरे लंड पर पेशाब की धार मारने की बात करती हो और अपनी चूत पर मेरा लंड रगड़वाती हो। अब जब सामने आया हूँ, तो बोलती बंद हो गई। देख.. अगर मज़ा लेना है तो झिझक छोड़ कर खुल कर बोल।

मेरे उत्साहित करने से वो थोड़ा खुल गई और उसने कहा- पहले एक मिनट छोड़ो। मैंने उसे छोड़ दिया। वो अपनी जीन्स उतारने लगी, फिर उसने अपनी ब्रा भी उतार दी, अब उसके शरीर के ऊपर केवल पैंटी बची थी।

मुझे उम्मीद है कि आपको कहानी में रस आ रहा होगा। मुझे आपके ईमेल का इन्तजार रहेगा। [email protected] कहानी जारी है। Facebook- https://www.facebook.com/profile.php?id=100014369581232

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!