भाई की गर्ल फ्रेंड ने मुझे बुला कर चूत चुदवाई-2

आपने अब तक पढ़ा.. मेरे भाई की जुगाड़ ने मुझे दारु और सिगरेट की पार्टी के लिए बुला लिया था। अब आगे..

‘हैलो.. कहाँ खो गए?’ तभी मैंने भी कहा- नहीं.. यार कहीं नहीं.. बस ऐसे ही।

फिर वो पूछने लगी- आज मैं कैसी लग रही हूँ। तो मैंने भी सिगरेट का कश खींचते हुए कहा- एकदम शानदार.. और जबरदस्त.. मा.. मैं ‘माल..’ कहते हुए रुक गया।

वो मुस्कुराते हुए पूछने लगी- हाँ हाँ.. पूरा कहो यही न माल लग रही हूँ.. मज़ाक तो नहीं कर रहे हो ना..? ‘नहीं जी.. इसमें मज़ाक वाली कौन सी बात है।’ हम दोनों हँसने लगे।

वो अपने मम्मे उठाते हुए बोली- पार्टी शुरू की जाए? मैंने भी कहा- हाँ हाँ.. क्यों नहीं।

वो उठ कर दो गिलास और प्लेट लेकर आई.. तब तक मैंने भी वाइन चिप्स और सिगरेट बाहर निकाल लिए। मैं बोतल को खोलने लगा। फिर मैंने दो पैग बनाए और उसे एक गिलास दिया। हम दोनों ने दोस्ती के नाम पर चियर्स करने के साथ अपने-अपने ड्रिंक उठाए और सिप लिए।

एक पैग खत्म करने के बाद मैंने उससे पूछा- आप कब से ये सब पी रही हो? उसने जवाब दिया- एक साल हो गया.. पर मैं अकेले ही पीती हूँ.. घर पर कोई नहीं रहता है तब लेती हूँ.. ये फर्स्ट टाइम है.. जो मैं किसी के साथ पी रही हूँ। मैंने भी कहा- मेरा भी ये फर्स्ट टाइम है जब मैं किसी लड़की के साथ पहली बार पी रहा हूँ।

तब तक दूसरा पैग मैंने तैयार किया और धीरे-धीरे पीने लगे। ऐसे ही हम दोनों ने 3-3 पैग खत्म किए। अब सुरूर चढ़ने लगा था। मैंने उसकी तरफ देखा तो उसे नशा होने लगा था और मुझे भी।

अब हम बातें करने लगे.. उसने मुझसे पूछा- आपकी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.. तो आपका टाइम पास कैसे होता होगा। मैंने कहा- बस हो जाता है। फिर वो बोली- एक बात पूछूँ? मैंने कहा- हाँ पूछो?

वो बोली- आपने कभी किसी को किस किया है? मैंने कहा- हाँ पहले एक थी मेरी.. उसके साथ किया था.. अब उसकी शादी हो गई.. तो अब ऐसा कुछ नहीं बचा है।

इस बीच हम दोनों के बीच जो भी सामान था.. गिलास चिप्स वाइन सब उसने एक तरफ रख दिए और वो मेरे करीब सरक कर बैठ गई।

अब हम दोनों की वासना से भरी नज़रें एक-दूसरे से मिल रही थीं। वो मुझे इस तरह देख रही थी कि आज मुझे कच्चा ही खा जाएगी। अब हम दोनों के ऊपर शराब का नशा था। एक हॉट लड़की मेरे सामने थी.. तो मेरा लंड जींस के अन्दर ही उछाल मारने लगा।

शायद उसकी भी चुदास बढ़ने लगी थी, मैंने अपना एक हाथ उसके हाथों पर रख दिया और उसके हाथ को सहलाने लगा। वो चुपचाप मेरी तरफ देख रही थी।

मैंने ही आगे बढ़ कर उसके सिर को पकड़ा और अपने होंठ उसके रसीले होंठों पर लगा दिए और उसके होंठों को चूसने लगा। उसमें उसे कोई दिक्कत नहीं थी.

. और वो मेरा पूरा साथ दे रही थी।

अब मैं उसके होंठों को मज़े से चूसने लगा और एक हाथ उसके दूध पर ले गया और उसे दबाने लगा। उसने अपने होंठों पर लाल कलर की लिपिस्टिक लगाई हुई थी.. जो कि मैंने पूरे होंठों को चूस कर साफ़ कर दी।

ऐसे ही हम दोनों दस मिनट तक एक-दूसरे को चूमते रहे, मेरा लंड जींस के अन्दर पूरा खड़ा हो गया था और वो बाहर आने को तड़प रहा था, हम दोनों एक-दूसरे को चूमते-चूमते बिस्तर पर लेट गए।

कुछ ही पलों में मैं उसके ऊपर आ कर उसके नाक गाल कान गला.. हर जगह चूमने लगा।

उसके मुँह से ‘उऊहह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… इसस्स्स्शह ओह..’ जैसी आवाजें आने लगीं।

मुझसे भी अब बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया था.. तो मैंने उसको बिस्तर पर बैठा दिया और उसके शर्ट को ऊपर करके उतारने लगा।जैसे ही मैंने उसके शर्ट को निकाला.. उसके 34 साइज़ के दूध ब्रा में तने हुए मेरी नजरों में गड़ गए। उसका 34-28-34 का फिगर एकदम मस्त था।

मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके दूधों को दबाने लगा, उसका हाथ भी मेरे लंड के ऊपर चल रहा था। मैंने उसकी ब्रा को भी निकाल दिया तो उसके दूध पूरे आज़ाद हो गए, मैंने एक दूध को अपने मुँह में ले लिया और चूसना चालू कर दिया। दूसरे हाथ से मैंने उसके दूसरे दूध को दबाने लगा।

थोड़ी देर दूधों को दबाने के बाद मैंने उसकी सलवार को भी निकाल दिया। अब वो सिर्फ़ चड्डी में थी और और उसकी चूत पाव के जैसी फूली हुई दिख रही थी।

मैंने उसकी चूत पर अपना हाथ फिराया तो पता चला उसकी चूत पानी छोड़ रही थी। मैंने भी जल्दी से अपनी शर्ट और जींस को निकाल फेंका और अपनी चड्डी को भी निकाल दिया।

अब हम दोनों एकदम नंगे थे, मेरा लंड लोहे की रॉड के जैसे खड़ा था, उसने अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और लंड को धीरे धीरे आगे पीछे करने लगी। वो बड़ी ही सेक्सी नज़र से मेरी तरफ देख भी रही थी। यह हिंदी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

मैंने एक सिगरेट जलाते हुए उसे आँख मारी.. तो उसने आगे बढ़ कर मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और लंड को चूसने लगी। मैं तो मानो पागल सा होने लगा और उसके बालों को पकड़ कर अपने लंड को उसके मुँह में आगे-पीछे करने लगा।

अब मैं भी सिगरेट के कश खींचते हुए सिसकारियां लेने लगा ‘आआहह.. ऊऊओह.. चूसस्स.. मेरी जान..’ वो अपने मुँह को और तेज़ी से आगे-पीछे करके मेरे लंड को चूसने लगी।

मैंने उसे सिगरेट दी.
. तो उसने एक कश खींचा और धुंआ मेरे लंड पर छोड़ते हुए उसे फिर से चूसने लगी। अब मेरे भी मुँह से अजीब-अजीब से आवाजें निकलने लगीं- ऊओह.. चूस साली.. चूस.. आज खा जा मेरे लंड को.. आह्ह.. पूरा ले लंड मेरा.. साली रण्डी..

वो भी सिगरेट के कश खींचते हुए जोश में पूरी तेज़ी के साथ मेरे लंड को चूसने लगी, मुझे ऐसा लगने लगा कि मैं झड़ जाऊँगा।

मैंने उसे रोका और अपना लंड उसके मुँह से बाहर निकाल लिया, उसे बिस्तर पर लेटाया और उसकी चूत को अपने हाथों से मसलना चालू किया।

उसकी चूत पूरी गीली हो गई थी, मैं 2 उंगलियां उसकी चूत में धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा। जैसे ही मैंने दोनों उंगली उसकी चूत में डाली.. वो अपनी गांड को ऊपर करके उंगली को चूत के और अन्दर लेने लगी और कहने लगी- प्लीज़ अमित.. अब जल्दी करो.. मुझसे अब और रहा नहीं जाता.. प्लीज़ अपना लंड डाल दो मेरी चूत में.. प्लीज़ जल्दी करो.. प्लीज़ सस्सस्स.. आआहह.

तो हम दोनों नशे में थे और उसकी चुदास बढ़ रही थी, यही हाल मेरा भी था तो मैं और देरी नहीं करना चाहता था, मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया.. जिससे उसकी चूत का छेद और दाना.. दोनों दिखने लगे।

अब मैंने अपने खड़े लंड को हाथ में लिया और उसकी चूत के मुँह पर रखा। अब मैं धीरे-धीरे लंड को उसकी चूत में डालने लगा।

जैसे ही लंड आधा अन्दर गया.. वो ‘इससस्स..’ के साथ मुझे कसके पकड़ने लगी, मैंने भी एक झटका मारा और लंड उसकी चूत में पूरा घुसा दिया.. और इसी के साथ एक लंबी ‘आआअहह..’ हम दोनों ने निकाली।

अब मैं उसकी चूत को धीरे धीरे चोदने लगा। थोड़ी देर वैसे ही चोदने के बाद जैसे ही वो बोली- अमित स्पीड बढ़ाओ.. ज़ोर-ज़ोर से चोदो मुझे..

मैंने भी अपनी स्पीड को बढ़ा दिया और उसकी चूत को जम कर चोदने लगा, वो भी अपनी गांड उठा कर मेरा साथ देने लगी ‘प्लीज़ अमित.. आह्ह.. जोर से करो.. और करो.. बहुत मज़ा आ रहा है.. बहुत दिनों बाद आज चुदी हूँ.. प्लीज़ ज़ोर से करो.. और तेज और.. सस्सस्स.. आआहह.. ऊऊहह अमित आई लव यू.. और तेज जानू.. आअहह करते रहो.. मेरा होने वाला है।

मैं रगड़-रगड़ कर उसे चोदने लगा ‘ले साली.. रण्डी बहुत खुजली है ना तेरी चूत में.. आज सब खुजली दूर कर देता हूँ..’ ‘हाँ.. जानू.. आज मुझे जम कर चोदो.. बहुत मज़ा आ रहा है.. तुमसे चुद कर मैं हमेशा तुमसे ही चुदूँगी.. आआहह.. इस्स.
. अमित मैं झड़ने वाली हूँ.. और तेज..’

मुझे लगा कि मेरा भी होने वाला है.. तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी। कुछ धक्कों के बाद हम दोनों का एक साथ माल निकल गया। मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में ही गिरा दिया और उसके ऊपर ही लेटा रहा।

कुछ मिनट बाद हम दोनों एक-दूसरे से अलग हुए, उसने मेरे होंठों को चूमते हुए कहा- आज तुम्हारे साथ चुदने में बहुत मज़ा आया।

मैंने भी कहा- मुझे भी बहुत मज़ा आया.. तुम बहुत सेक्सी हो। उसके बाद हम दोनों उठ कर वाशरूम गए और अपने आपको साफ़ किया।

फिर से बेडरूम में आकर हम दोनों ने 1-1 स्माल पैग पिया और सिगरेट जला कर ऐसे ही बात करने लगे। कुछ देर बाद वो मेरी गोद में बैठ गई और उस दिन पूरे नशे में टुन्न होकर मैंने उसे 3 बार चोदा।

दोस्तो आपको मेरी हिंदी सेक्स स्टोरी कहानी कैसी लगी। आप मुझे मेल करके ज़रूर बताना ताकि मैं आगे भी अपनी आपबीतियां आप सबके सामने लिख सकूँ। धन्यवाद। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!