बहन की चूत में लंड घुसा कर बहन की चुदाई कर दी-2

बहन की चूत में लंड घुसा कर बहन की चुदाई कर दी-1

आज जिंदगी में पहली बार मेरी बहन की चूत में लंड गया था, वो भी अपने भाई का! आज वो दिन था जिसका मैंने बरसों से इंतज़ार किया था, मैंने बहन की चुदाई कर दी! मेरी कहानी के दूसरे भाग का मजा लें!

माही ने मुझे गले लगा कर चुम्मी दी और बाद में मिलने की बात कह कर चली गई। चलते समय उसके हिलते चूतड़ों को देख मेरा लंड फिर सलामी देने लगा परन्तु अब तो मौक़ा निकल चुका था, मुझे इंतजार करना था, पर मेरे लिए ज्यादा दिन रुकना मुमकिन नहीं था, मैं मौका ढूँढने लगा।

एक दिन माही ने बताया कि वो दिन में अकेली है, सिर्फ कोमल घर पर है, बाकी सब किसी शादी में गए थे। मेरे लिए अच्छा मौका था परन्तु कोमल के होते मैं कोई रिस्क नहीं ले सकता था। मैंने उसे पूनम से बात करने को कहा क्योंकि उनके चौबारे में कोई नहीं रहता था वो दिन में वहां पढ़ती थी। अगर वो मान जाती तो सोने पर सुहागा हो जाता।

कुछ देर बाद उसकी मिस कॉल आई। मिस कॉल के साथ ही मैं छत से होता हुआ पूनम के चौबारे में पहुँच गया। चौबारे में पूनम के साथ माही थी। मेरे आते ही पूनम नीचे जाने लगी, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा- रुको, यहीं बैठी रहो, मैं तुम्हें खा नहीं जाऊँगा। ‘मैं बाद में आती हूँ!’ ऐसा पूनम ने कहा और चली गई।

माही ने कैपरी और लाल रंग का टॉप पहन रखा था जिसमें से उसकी बनियान साफ़ नजर आ रही थी। मुझे देख कर वो बहुत ज्यादा खुश लग रही थी।

मैं आज मेरी अधूरी चुदाई को पूरा करने वाला था क्योंकि आज किसी के भी आने का डर नहीं था। उस दिन के बाद ना जाने कितनी बार और कितने रूप में मैंने माही को अपनी कल्पनाओं में चोदा था और आज वो सपना पूरा हो रहा था जिस पर विश्वास करना मुश्किल था।

वो खाट पर लेटी थी, उसकी छाती ऊपर नीचे हो रही थी, होंठ जीभ से चाटने के कारण और भी हसीन हो गए थे। मैं उसके ऊपर जाकर उस पर झुक गया, उसे देखता रहा और फिर उसे बाँहों में भर लिया, जितना जोर लग सकता था, मैंने उतने जोर से उसे भींच लिया। उसकी चुची के निप्पल मेरे गड़ रहे थे जो मुझे आपे से बाहर करने के लिए काफी थे। मैं उठा और अपना हाथ उसके टॉप के नीचे से अंदर डाला और उसकी मुलायम चुची को पकड़ लिया. उसकी चुची काफी गर्म हो रही थी कुछ तनी भी हुई थी। मैंने उसके खड़े निप्पल को अपनी उंगली और अंगूठे में लिया और धीरे धीरे मसलने लगा.



मैं जैसे ही उसकी चुची की घुंडी को मसलता, माही वासना में एक कदम और आगे बढ़ जाती और मुझे जोर से चूम लेती, अपनी जीभ को मेरे मुँह में चारों ओर घुमाती। माही को शायद यह महसूस हो गया था कि मेरा खड़ा लंड उसकी चूत को कपड़ों के ऊपर से टटोल रहा था. उसने अपनी जाँघों को थोड़ा खोल दिया मैं उनके बीच में सैट हो गया।

मैंने अब अपना दूसरा हाथ भी उसकी दूसरी चुची पर रख दिया. मैं उसकी दोनों चुची को पकड़ अपनी ओर खींचते हुए मसलने लगा, माही के मुँह से हल्की सी सिसकारी फूटने लगी, उसकी चूत उत्तेजना में गीली हो चुकी थी.

‘ऑश राअज…’ माही से अब सहन नहीं हो रहा था. उसकी चूत काफी गर्म हो चुकी थी. उसने अपने काँपते हाथ मेरी जीन्स के बटन की ओर बढ़ाए और खोलने लगी. फिर उसने मेरी ज़िप को नीचे खिसकाया और मेरे अंडरवीयर में हाथ डाल अपना हाथ मेरे गर्म लंड पर रख दिया.

‘ओह…’ हाथ की गर्माहट पा मेरा लंड और जोश में आ गया। ‘ओओओओ राज… कितना अच्छा लग रहा है!’ कहकर मेरी बहन अपनी उंगलियाँ मेरे लंड के ऊपर से नीचे फिराने लगी. उसे महसूस हुआ कि मेरा लंड और तनता जा रहा है साथ ही और लंबा भी हो रहा था. उसकी मोटाई को मापते हुए उसने अपनी हथेली लंड के चारों ओर जकड़ ली, फिर नीचे की ओर करते हुए उसकी गोलियों से खेलने लगी.

मेरे हाथ उसकी चुची से होते हुए उसके लोअर के बटन खोलने लगे थे। मैंने बटन को खोला और लोअर को नीचे सरकाने लगा जिसमें माही ने अपने चूतड़ ऊंचे उठा कर मेरी हेल्प की। मैंने उसकी लोअर को निकाल कर उसकी पेंटी को देखा जो चूत के पानी के कारण काफी गीली हो गई थी।

मैंने उसकी जांघ पर पप्पियों की बौछार कर दी, उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अब उसके चूतड़ों को अपने हाथों में भर कर उसकी चूत पर मुँह रख दबाने लगा. मेरी जीभ ने उसकी चूत में अपनी जगह बना ली थी। ‘ओह राआआअज ओह आआआ…’ माही सिसकारते हुए मेरे लंड को और जोर से भींच दिया।

मैंने अपनी उंगलियों से अपनी बहन की चूत को खोला और अपनी दो उंगलियाँ उसकी चूत में घुसा दी. चूत गीली होने से मेरी उंगलियाँ आसानी से अंदर चली गई. माही का शरीर कांप उठा. जैसे ही मेरी उंगलियों ने उसकी चूत के अन्दरूनी हिस्सों को सहलाया, वो सिहर उठी.

‘ओह राज… अब नहीं रआहा जाता… प्लीज़ मेरी चूत में लंड डाआआआल दो… प्लीज़ राज!’ ‘आआआआऊनो माही जान… मेरी बहना…’ मैं उसकी चूत को और जोरों से भींचते हुए बोला.
मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि आज एक साथ मेरे सारे सपने पूरे हो रहे थे.

माही ने मुझे उठाया और मेरी जीन्स और मेरे अंडरवीयर को नीचे खिसका दिया और मेरे लंड को आज़ाद कर दिया. माही मेरे लंड के पानी को देखने लगी और मेरी तरफ देख कर मुस्कुराई। उसने मेरे लंड की चमड़ी को पीछे खींचा जो गीली होने के कारण आसानी से पीछे हो गई। मेरे लंड के लाल सुपारे को माही ने अपनी जीभ से चाटा.

‘ओआईई आआआ…’ मेरे शरीर में एक अलग ही आग लग गई, मेरी आँखें बंद हो गई थी। माही ने मेरे लंड को मुँह में ले लिया था और आगे पीछे करने लगी माही लंड को पूरा कंठ के आखरी हिस्से तक ले जा रही थी।

मैं भी मदहोश होकर उसके मुँह को ही चोदने लगा। मेरा एक हाथ उसकी चुची पर अपना काम कर रहा था।

माही ने मेरे लंड को बाहर निकाला और लंड पर काफी सारा थूक डाल दिया फिर उसे चाटने लगी। मेरे लिए अब रुकना मुश्किल था क्योंकि उसकी जीभ हद से ज्यादा चल रही थी… मैंने उसके मुँह से लंड निकाला और उसको लिटा दिया, उसकी चुची को बनियान से आजाद कर दिया. उसकी चुची इतनी सफ़ेद थी कि दूध भी सफ़ेद न लगे।

उसकी चुची मेरे हाथों में भी नहीं आ रही थी। मैंने अपनी जीभ उसके निप्पल पर रख चाटने लगा, वो मेरे सर को दबा रही थी अपनी चुची पर! मैंने जोर जोर से उनका दूध पीना शुरु किया, कम से कम 15 मिनट मैंने उसकी चुची पर से मुँह नहीं हटाया।

नीचे मेरा लंड मेरे कहे में नहीं था, मेरा लंड अब उसकी चूत को मसलने में लगा था जो रस से पूरी तरह से गीली हो चुकी थी. मैंने अपने लंड को पकड़ा और अपनी अपनी प्यारी बहना की मुलायम और गीली चूत पर रगड़ने लगा.

लंड और चूत के संगम ने माही के तन मन में आग लगा दी- ऑश राआाज ओह… ऊऊऊऊईई शशश… बहन की चूत में लंड घुसा कर बहन की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

खड़े खड़े माही की चूत में लंड नहीं घुस सकता था फिर भी मैं अपने लंड को माही की चूत पर घिसते हुए उसकी जांघों में अंदर करता और फिर बाहर खींचता. लंड का चूत के ऊपर घिसर से माही की चूत और पानी छोड़ने लगी थी- ऑ आआऑ जान अब मत तडपाओ ना… नहीं रहा जाता! प्लीज़ घुसा दो ना… नहीं तो मैं मर जाऊंगी!

माही की बात मेरे अंदर और जोश भर रही थी। मैंने उसे बाहों में उठा कर खिड़की के पास खड़ा कर दिया क्योंकि मुझे डोगी स्टाइल बहुत पसंद था.
खिड़की के पास ले जा कर उसके हाथ उस पर टिका दिए, फिर उसे खिड़की पर झुकाते हुए उसकी टांग को थोड़ा उठाया और उसकी चूत को मसला।

माही ने अपने सिर को खिड़की में लगे शीशे पर टिका दिया और अपने चूतड़ों को थोड़ा ऊपर उठा कर मेरे लंड लेने के लिए तैयार हो गई.

मैंने पहले तो अपने लंड को उसकी चूत पर थोड़ा घिसा जिससे लंड गीला हो जाए फिर उसकी चूत की पंखुड़ियों को थोड़ा फैलाया और धीरे से उसकी चूत में अपने लंड को अंदर घुसा दिया.

‘ओह आआआआ आईई… उम्म्ह… अहह… हय… याह… उन्नन्नाआ…’ माही सिसक पड़ी. ‘तुम ठीक तो हो ना जान?’ मैंने पूछा. ‘म्‍म्म्ममम रूको मत!’

यह सुन मैंने एक और जोर का धक्का मारा और माही की कुँवारी चूत में मेरा लंड चूत को चीरता हुआ अंदर घुस गया. ‘ओह राज हाआआं ओह…’ दर्द और खुशी के मिश्रित आँसू उसकी आँखों से बह नीचे गिरने लगे जिन्हें मैं देख सकता था।

मैंने अपने लोहे जैसे लंड पर थोड़ा ज़ोर लगाया तो और अंदर तक चीरते हुआ सीधे माही की चूत की गहराई में मेरा लंड तक पहुँच गया. माही की चूत की दीवारों ने मेरे लंड को जगह देते हुए अपनी पकड़ में जकड़ लिया.

मैं भी उत्तेजना की लौ में बह चला था. माही की चूत किसी आग की भट्टी से कम नहीं थी. उसकी चूत की गर्मी और चूत की पकड़ मेरे लंड को और सख्त किए जा रही थी. मैं अपनी प्यारी बहन को प्यार से कर रहा था ना कि उस तरह जिस तरह से सपनों में करता था। मैंने उसकी चुची को हाथ में भर लिया और उनमें हवा भरने लगा।

मेरे हर धक्के पर माही प्यार में सिसकार उठती और उसकी चूत में लंड को और अंदर तक ले लेती.

हम दोनों के इन प्यार भरे लम्हों को शब्दों में नहीं लिखा जा सकता… सिर्फ़ एहसास किया जा सकता था. जब मेरा लंड उसकी चूत की गहराइयों को छूता तो उसकी आँखें खुशी से उबल पड़ती. आज जिंदगी में पहली बार उसने अपनी चूत में किसी मर्द के लंड को लिया था, वो भी अपने भाई का! आज वो दिन था जिसका मैंने बरसों से इंतज़ार किया था.

माही अपनी आँखों से बहे नमकीन आँसुओं को अपनी जीभ से चाटते हुए वो मेरे हर धक्के का साथ देने लगाई. अपनी कमर को मेरे हर धक्के के साथ मिलाने लगी. मेरे लंड की नसें तनने लगी थी और गोलियों में उबाल उठ रहा था.

करीब 15-20 मिनिट हमारी चुदाई चलती रही। मुझसे अब अपने आपको रोकना मुश्किल हो रहा था, मैंने अपनी बहन की आँखों में झाँका.
‘बस करीब हूँ जान!’ वो धीरे से फुसफुसाई।

मैं और जोरों से धक्के मारने लगा, हर धक्का पहले धक्के से ज़्यादा तेज और प्यार भरा होता. माही का शरीर अकड़ा और उसकी चूत जैसे किसी लावे की तरह फट पड़ी, पानी छोड़ने लगी, उसकी सिसकारियाँ अब हल्की सुबकियों में बदल गई, खुशी और उत्तेजना में उसके शरीर को जकड़ लिया. प्रेम का रस चूत से बह रहा था.

मेरा भी छूटने वाला था, माही की कमर को पकड़ मैं और जोरों से धक्के लगा रहा था. मैं माही की चूत में से अपने लंड को बाहर खींचता और जब सिर्फ़ सुपारा अंदर रह जाता तो ज़ोर से उसे फिर चूत की गहराइयों तक पेल देता. ‘हाआँ जान… ऐसे ही अंदर तक पेलओ… ओह आआआअ…’

मेरा भी अब निकलने वाला था पर मैं माही की चूत में नहीं छोड़ सकता था क्योंकि मैं माही को लेकर किसी भी प्रकार का रिस्क नहीं ले सकता था। मैंने अपनी प्यारी बहना के चूतड़ों पर एक थथप्पड़ मारा और उससे कहा- मैं अपना वीर्य तुम्हारे मुँह में छोड़ना चाहता हूँ. उसने मुस्करा कर हामी भर दी।

‘मेरा छुटने वाला है!’ मैं फुसफुसाया।

मैंने एक और धक्का मारा और मेरा वीर्य मेरी नसों को और तनाता हुआ निकल पड़ा. लंड से ऐसी पिचकारी निकली कि निकलते वक्त कुछ तो नीचे ही गिर गया। पर मैं समय रहते माही के मुँह तक पहुँचने में कामयाब हो गया, मैं अपना वीर्य उसकी जीभ पर गिरा रहा था, वो मुझे एकटक देख रही थी।

मेरा वीर्य उसकी जीभ से नीचे गिरने लगा, उसकी चुची पर पड़ने लगा। उसने मेरे लंड को मुँह में भर लिया और आखरी बून्द भी निचोड़ने में कामयाब रही।

अब मुझे कुछ होश आना शुरू हुआ। खिड़की के नीचे खून पड़ा था जो कहाँ से आया, बताने की जरुरत नहीं है।

मैंने प्यार से अपनी बहन की आँखों में देखा और ‘आई लव यू…’ कहा।

‘आइ लव यू टू भैया!’ माही ने शरारती भरी नजरों से मुझे देखा। शायद पहली बार उसने मुझे हमारे रिश्ते से पुकारा था। खुशी से उसकी आँखें नम थी.

आप मुझे जरूर बताएँ कि आप को बहन की चूत में लंड घुसा कर बहन की चुदाई कहानी कैसी लगी। [email protected] आप मुझे फेसबुक पर भी इसी इमेल से खोज कर मेसेज कर सकते हैं।

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!