कहानी विश्वास प्यार और सेक्स की

दोस्तो, सबसे पहले आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ कि मैं 3 साल के लम्बे अंतराल के बाद अब अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पर वापस आ पाया हूँ. मैं सरकारी नौकरी की अपनी तैयारियों की वजह से बहुत ज्यादा व्यस्त था.

मैं आशिक राहुल उन सभी महिला मित्रों का बहुत आभारी हूँ जिन्होंने मेरी सच्ची सेक्स कहानियों को खूब सराहा और मुझे ढेरों मेल और मेसेज किये जिनमें से 4 महिला मित्रों से मुझे मिलने का मौका मिला. उन सभी के विश्वास और प्यार के लिए तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ.

तो चलिए दोस्तों आपका ज्यादा समय न लेते हुए आज की अपनी नई और एकदम सच्ची कहानी को पेश करता हूँ, आशा करूंगा कि आपका प्यार मेसेज और मेल के ज़रिये फिर से प्राप्त होगा मुझे…

जो लोग मुझसे पहली बार मिल रहे हैं, उनके लिए मैं बता देता हूँ कि मैं आशिक राहुल हरियाणा के भिवानी शहर से हूँ. यह कहानी आज से 6 महीने पहले की है. उन दिनों मैं हरियाणा सरकार में नौकरी के लिए तैयारियों के अंतिम चरण में था.

एक दिन फोटोस्टेट की दुकान पर दिल्ली में गेस्ट टीचर की जॉब के लिए फॉर्म भरवा रहा था, तभी नज़र सामने बैठी एक लड़की पर पड़ी. देखने में वो एकदम कयामत सी सुंदर लग रही थी किन्तु दुकान पर बैठी थोड़ी शरमाई, थोड़ी घबराई हुई सी लग रही थी. वो मेरे फॉर्म में भरी जाने वाली डिटेल्स को बहुत ध्यान से देख रही थी.

कुछ देर बाद जब मेरा फॉर्म लगभग पूरा होने वाला था तो हिम्मत करके आखिर वो मुझसे पूछ बैठी कि उसकी परसेंटेज तो मुझसे बहुत कम है तो क्या उसका सिलेक्शन हो पायेगा? तब मैंने उसे फॉर्म के बारे में सारी डिटेल्स बताई और उसे यह भी बताया कि किस एरिया में भरने पर उसका नंबर आ सकता था. पर वो बोली कि उस एरिया में उसका कोई भी जान पहचान का नहीं है तो मैंने मेरे फॉर्म में भी वही एरिया चुन लिया.

वो पहली ही बार में मेरी परसेंटेज और मेरे सॉफ्ट व्यव्हार और नॉलेज को देखकर मुझसे बहुत इम्प्रेस हो गई थी, उसने मेरा नंबर ले लिया था.

शाम को जब उसका व्ह्ट्स एप्प पर मेसेज आया कि उसे बिल्कुल यकीन नहीं है कि उसका सिलेक्शन हो पायेगा. किन्तु मैंने उसे पूरा यकीन दिलाया कि उसका भी हो जायेगा.

दो हफ्ते बाद रिजल्ट आ गया और हम दोनों का एक ही स्कूल में सिलेक्शन हो गया. वो उस दिन बहुत खुश थी और मुझसे बार बार थैंक्स बोल रही थी.

हमें तीन दिनों में स्कूल में रिपोर्ट करना था पर वो वह किसी को नहीं जानती थी तो उसके घरवाले भी काफी सिक्योर फील नहीं कर रहे थे.

पर उसने बताया उन्हें कि यहाँ से एक और दोस्त का भी सिलेक्शन हुआ है तो घर वाले मान गये उसके! उसका भाई उसे साथ छोड़ने आया हुआ था.

हम दोनों ने उस दिन साथ में स्कूल ज्वाइन किया और पास पास में ही दो रूम किराए पर ले लिए. अब हम दोनों के पास आधा दिन खाली होता था स्कूल से आने के बाद… एक दो दिन में हम दोनों ने अच्छे से वहाँ एडजस्ट कर लिया था. हम दोनों की सुबह एक साथ की ही टाइमिंग होती थी. अब धीरे धीरे वो मेरे काफी करीब आती जा रही थी, हम दोनों का स्कूल के बाद एक साथ ज्यादा वक़्त गुजरने लगा. अब हमारी बातों में भी खुलापन आने लगा. रविवार के दिन घूमने जाना, शोपिंग करना, पार्क में जाना आम बात हो गई थी.

फिर आखिरकार एक दिन आ ही गया जब उसने अपने दिल की बात मुझसे कही. हुआ कुछ यूँ कि दोस्तों एक दिन घूमते हुए मुझे रास्ते में एक बहुत सेक्सी लड़की दिखी तो जब मैं उसकी तरफ देख रहा था तो इसने मुझे देख लिया. इससे अमृता (काल्पनिक नाम) थोड़ी नाराज़ सी हो गई और घर पर थोड़ा नखरे वाला व्यवहार करने लगी. जब बार बार पूछा मैंने उससे तो उसने अपने दिल की बात आखिर बोल ही दी मुझे कि वो मुझे पसंद करती है और उसे बुरा लगता है जब मैं किसी और की तरफ देखता हूँ तो!

उस वक़्त मैंने उसके फिगर को पहली बार गौर से देखा तो पाया कि अमृता एक निहायती गौर वर्ण की खूबसूरत लड़की है. उसकी हाइट 5 फुट 5 इंच की होगी. 34-28-34 का सेक्सी फिगर उसका. मैंने उसी वक़्त उसे अपनी बांहों में लिया और उसकी जुल्फों को थोड़े प्यार से उसके चेहरे से पीछे करते हुए उसके लबों पर अपने लब रख दिए. अमृता भी हमारे प्यार के इस पहले मिलन को शायद पूरी तरह से एन्जॉय करना चाहती थी इसलिए वो भी प्यार के उस पहले चुम्बन में खोती चली गई. उसके गुलाब के किसी गुलाबी फूल की तरह कोमल लबों के रस को मैं पीता चला गया. पहले उसके नीचे वाले होंठ को अपने लबों से जी भर के चूमा फिर उसके उपर वाले होंठ को दिल खोल के चूसने के बाद मैंने उसके मुख में अपनी जुबान डाल दी. वो मेरा इशारा समझ गई और बड़े प्यार से मेरी जुबान को चूसने!

तभी अचानक बाहर दरवाजे पर दस्तक हुई और हमारे पहले प्यारे चुम्बन का अंत हुआ.

मैंने बाहर जाकर देखा तो दूध वाला आया हुआ था, शाम के 6 बज चुके थे.

फिर अमृता शाम के खाने को तैयार करने में लग गई और मुझे कहा कि आज मैं भी खाना उसके साथ ही कर लूँ! मैंने हाँ कही और फिर मैं अपने रूम पर चला आया.


अमृता को चुम्बन करने के बाद मेरे पूरे तन और मन में रोमाच का संचार होने लगा था, अब खुद पर काबू कर पाना बहुत मुश्किल था. मैं आज ही अमृता के साथ सेक्स का हसीन अनुभव लेना चाहता था. इतने दिनों में अमृता और मेरे बीच एक दूसरे के प्रति अटूट विश्वास हो चुका था. मुझे यकीन था कि अमृता भी मुझसे सेक्स करने के लिए मेरी ही तरह तड़प रही होगी. फिर थोड़ी देर बाद मैंने बाज़ार जाकर कंडोम लिये और कुछ डेरी मिल्क सिल्क वाली चोकलेट्स भी… साथ में गुलाब का एक सुंदर फूल लेकर मैं अमृता के रूम पर पहुंचा.

अमृता ने जैसे ही दरवाजा खोला तो जैसे ही हमारी नज़र मिली, वो थोड़ा शरमा कर रसोई में चली गई और वहीं से बोली- खाना तैयार है! हम दोनों ने साथ खाना खाया. मैंने बीच में उसे अपने हाथ से भी खाना खिलाया.

खाना के बाद हम दोनों साथ में मूवी देखते हुए बात करने लगे. उस वक़्त एक प्यारी रोमांटिक मूवी टीवी पर आ रही थी. फिर धीरे से मैंने अपना हाथ अमृता के कंधे पर रखा और हल्के से उसके कंधे पर अपनी उंगलियाँ चलाने लगा. हमने पैरों पर एक चादर ली हुई थी.

अचानक अमृता ने अपना पैर मेरे पैर पर रखा और हौले हौले मेरे पैर को सहलाने लगी. मैंने अपना हाथ धीरे से उसके राईट वाले बूब को उसकी टी शर्ट के ऊपर से टच किया. अमृता ने अपनी आँखें बंद कर ली और वो उन प्यार भरे लम्हों को अपने अन्दर महसूस करने लगी.

फिर मैंने अमृता का चेहरा अपनी तरफ किया तो झट से उसने मुझे गले लगा लिया और मेरे होंठों को अपने होंठों में कैद कर दिया. हम दोनों एक बार फिर चुम्बनरत हो गये थे.

लगभग दस मिनट तक एक दूसरे के होंठों का रसपान करने के बाद मैंने अमृता की टीशर्ट निकाल दी. अमृता भी सेक्स के लिए पूरी तरह से तैयार थी. अमृता ने अन्दर मेरे पसंदीदा गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थी. उसके 34 साइज़ के खूबसूरत सेक्सी दुग्ध कलश ब्रा में कैद थे, उन्हें देखने के बाद खुद पर नियंत्रण रख पाना असंभव था.

मैं ब्रा के उपर से ही अमृता के दुग्ध कलशों को दबाने लगा. मैंने बहुत जोर से अमृता के बूब्स दबाने शुरू कर दिए, अमृता की कुछ तेज चीखों से मुझे एहसास हुआ कि शायद ज्यादा तेज दबा दिया मैंने उसकी चुची को.

फिर मैंने उसकी ब्रा को निकाल दिया और उसके दोनों दुग्ध कलशो को बारी बारी से चूसने लगा. दोस्तो, मुझे बूब्स चूसना बहुत ही ज्यादा पसंद है.
मैंने 15 मिनट तक उसके दुग्ध कलशों और उसके होंठों को गर्दन को पेट को चूमा और चूसा.

उसके बाद मैंने अमृता का लोअर और पेंटी निकाल दी. फिर हौले से उसके दोनों पैरों को फैलाकर उसके बीच आ गया और अमृता की चिकनी गुलाबी चूत को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया. अमृता के मुख से तेज तेज सिसकारियाँ निकलने लगी ‘उम् उम्म उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह आह्ह्ह! मैंने अपनी जीभ उसकी चूत के अन्दर डालकर उसे कुरेदा तो उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. जिसे हल्का टेस्ट करने के बाद बाकी बह जाने दिया मैंने!

फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और मेरे लंड महाराज को मैंने अमृता के सामने पेश किया. अमृता के मुख के पास जैसे ही मैं अपना लंड महाराज ले गया, वो मेरा इशारा समझ गई, उसने मेरे लंड को चाटना शुरू किया और धीरे धीरे जितना हो सका मुख में लेकर चूसने लगी. जल्दी ही मेरा प्रेम रस उसके मुख में समा गया.

फिर अमृता ने मुझे नीचे लिटाया और वो मेरे ऊपर आ गई, उसने पहले मेरे होंठों को चूमा फिर मेरे कानों पर काटा, फिर मेरे सीने को चूमते हुए मेरे लंड को दोबारा चूस चूस के खड़ा कर दिया. उसने अपने हाथों से मुझे कंडोम पहनाया फिर वो मेरे ऊपर बैठ गई और लंड को अपनी चूत में सेट करने लगी. मैंने इसमें उसकी मदद की और उसकी लचीली कमर को पकड़ कर उसे मेरे लंड को उसकी चूत में डाल दिया.

अमृता पहले भी सेक्स कर चुकी थी पर मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला था. उसकी चूत में आधा लंड बिना किसी परेशानी के चला गया. किन्तु जब मैंने उसकी कमर को पकड़ कर नीचे से जोर का झटका मारकर पूरा लंड उसकी चूत में घुसेड़ा तो उसकी चीख निकल गई. कुछ पल के लिए वो रुक गई… फिर हौले हौले वो दोबारा मेरे लंड पर झूलने लगी.

पांच मिनट मेरे लंड महाराज पर कूदने के बाद अमृता हांफने लगी और थक गई. फिर मैंने उसे नीचे लिटाया और खुद उसके ऊपर आ गया, एक बार फिर उसकी चूत को चूस कर अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और जोर से एक झटका मार कर पूरा लंड एक बार में ही लगभग अन्दर कर दिया.

मैंने उसके होंठों को होंठों में लिया और उसकी ज़ोरदार चुदाई चालू कर दी.

करीब दस मिनट में हम दोनों का प्रेम रस बह गया. उस रात हम दोनों ने तीन बार बहुत ही हसीन कामुक और दिलकश चुदाई की.

सुबह हम दोनों स्कूल गये और शाम को जब मैं अमृता के रूम पर गया तो उसने मुझे अपनी पुरानी प्यार और सेक्स की कहानी बताई और कहा कि वो मुझे सच में प्यार तो बहुत करती है लेकिन उसकी मेरी शादी नहीं हो सकती क्यूंकि उसके घर वाले कभी भी किसी दूसरी जाति में उसकी शादी नहीं करेंगे.
पर वो सच में मुझसे प्यार करती है और जब तक पॉसिबल होगा वो प्यार और सेक्स दोनों का संगम करने को हमेशा तैयार रहेगी.

मैं भी उसे प्यार करने लगा था पर उसकी मज़बूरी को देखते हुए हमेशा उसका साथ देने का वादा किया. और इसी तरह हम दोनों प्यार से साथ रहने लगे.

दोस्तो, यह थी मेरे और अमृता के बीच पहले हसीन सेक्स संगम की दास्तान… यह सेक्सी कहानी मैं अमृता की अनुमति लेकर ही पोस्ट कर रहा हूँ. आशा करता हूँ कि आप सबको मेरी ये सच्ची कहानी हमेशा की तरह पसंद आई होगी. जीवन में प्यार कई बार होता है और सेक्स भी कई बार होता है दोस्तो… बस हमेशा अपने साथी के प्रति वफादार बने और उसे कभी धोखा ना दें और सच बोल कर रिश्ता बनायें और सेक्स का आनन्द लें.

आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतज़ार रहेगा दोस्तो! [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!