ब्रदर एंड सिस्टर सेक्स स्टोरी: मैंने अपनी बहन को चोदा

दोस्तो.. ये ब्रदर एंड सिस्टर सेक्स स्टोरी मेरी पहली स्टोरी है.. जो मैं आपको बताने जा रहा हूँ।

मेरा नाम सौरभ है, मेरी उम्र 27 साल की है, मैं यूपी का रहने वाला हूँ लेकिन अभी मैं दिल्ली में रहता हूँ। मेरे घर में पापा-मम्मी भाई-भाभी और एक भतीजी है। मेरी एक छोटी सिस्टर सोनी भी है.. जिसकी उम्र 25 साल की है और उसकी शादी तय हो चुकी है। उसका फिगर 36-32-36 का है, उसका रंग बिल्कुल गोरा है वो एकदम सेक्सी लगती है। उसको पहली नजर में कोई भी देखे तो उसका बस मेरी बहन को चोदने का मन करने लगे।

ये बात उस छः साल पहले की है.. मैं उस दिन खाली बैठा था, तो मैंने सोचा कि अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ ली जाएं। एक बहन-भाई की सेक्स स्टोरी पढ़ते-पढ़ते ध्यान आया कि क्यों ना अपनी बहन सोनी को चोदा जाए। मैं दिल्ली में था और वो यूपी में घर पर थी।

मैंने एक शालु चौबे के नाम से एक फेक आईडी से उसको मेल किया। मैंने लिखा कि मैं तुम्हारे बारे सब जानती हूँ। मैं जानती हूँ कि तुम और तुम्हारी भाभी दोनों लेज़्बीयन करती हो। फिर मैंने अपनी आईडी से उसको मेल किया कि जॉब के लिए मेल चेक करो ताकि उसको शालु के नाम वाली मेल भी दिख जाए। उसने मेल बॉक्स चेक किया तो उसने शालु चौबे का मेल देखा।

उसने मुझे बताया कि किसी शालु चौबे का मेल आया है और वो कुछ गंदी बात बोल रही है। मैंने उसको बोला- उससे बात करो और उसका फोन नम्बर या अड्रेस लेने की बात करो ताकि मैं उसे गालियां दे सकूँ। वो उससे (मुझसे) बात करने लगी.. उसने मेल कॉन्वर्सेशन में सब कुछ उगलवा लिया। वो अपने कॉलेज के लड़कों से चुदवाती थी. फिर मैंने (शालु) उससे बोला- तुम अपने भाई से क्यों नहीं चुदवाती हो? वो बोली- पागल हो क्या? शालु ने बोला- मैं तो अपने भाई से खूब चुदवाती हूँ।

मतलब कुल मिला कर मैंने सोनी का मन अपने भाई से चुदवाने की तरफ कर दिया। सोनी ने शालु से पूछा कि यदि मेरा भाई गुस्सा हो जाए तो? शालु बोली- कुछ नहीं होगा.. तुम बस रात में जा कर उसके लंड को धीरे सहलाने लगना.. वो खुद तुम्हें चोदने के लिए तैयार हो जाएगा।

कुछ दिनों बाद मैं घर आ गया। सोनी मुझसे बड़े प्यार से मिली। मैं खा-पी कर सोने की तैयारी करने लगा लेकिन मुझे नींद कहाँ आ रही थी। मैंने लाइट ऑफ कर दी लेकिन मैं सोया नहीं। करीब एक घंटे बाद मुझे लगा कि कोई कमरे में आ रहा है.. लेकिन रात के 2:00 बजे तक कोई नहीं आया। उस रात कुछ नहीं हुआ.

. मैं लंड सहला कर सो गया।

फिर अगली रात मैं फिर सोने का नाटक कर रहा था कि मुझे लगा कि कोई आ रहा है। मैं अपनी आँखों पर ऐसे हाथ रख कर सो रहा था.. जिससे मुझे सब दिखाई दे।

मेरी बहन नाईटी में थी और उसने अन्दर कुछ नहीं पहना था.. ना ब्रा, ना पेंटी.. मुझे दूर से उसके कड़क निपल्स साफ दिख रहे थे। उसकी सांसों की आवाज़ से लग रहा था कि वो डर रही थी।

वो मेरे बिस्तर पर लेट गई और उसने धीरे से मेरे लंड को छुआ और धीरे-धीरे उसे सहलाने लगी। मेरा मान कर रहा था कि उसको पकड़ कर उसकी चूचियां दबा दूं.. लेकिन मैं लंड के मज़े लेने लगा। उसके सहलाने से धीरे-धीरे मेरा लंड एकदम खड़ा हो कर 7″ लम्बा और फुल मोटा हो गया।

सोनी मेरे लोवर से लंड निकालने की कोशिश करने लगी तो मैंने थोड़ा ऐसे करवट ली कि मेरा लोवर लूज हो जाए। फिर उसने मेरा लोवर मेरे अंडरवियर के नीचे कर दिया।

अब वो मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाने लगी। फिर सोनी ने मेरे अंडरवियर में हाथ डाल कर मेरे लंड को बाहर निकाला और उसे सहलाने लगी।

कुछ देर बाद वो लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.. मैं पागल हुआ जा रहा था। उसे पता चल गया था कि मैं जाग रहा हूँ।

लेकिन मैं अभी सोने का नाटक करता रहा, थोड़ी देर बाद लंड चूसने के बाद वो जोर-जोर से मेरा लंड चूसने लगी और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। उसने मेरा पूरा माल पी लिया और मेरे होंठों पर किस करके चली गई।

अगले दिन उसकी आँखों में अजब सी कामुकता नज़र आ रही थी। उसी रात जब वो आई और मेरे लंड को चूसते-चूसते मेरे हाथों को अपनी चूचियों पर रखवा लिया और मेरे कान में बोली- मैं जानती हूँ.. आप जाग रहे हो। मैंने जोर-जोर से उसकी चूचियाँ मसलनी शुरू कर दीं और उसकी नाईटी उतार कर उसे नंगी कर दिया। फिर मैं उसके निपल्स को चूसने लगा।

वो बोल रही थी- आह.. और जोर से मेरी चुचियों को चूसो..

मैं दांतों से उसकी चूचियों को काट-काट कर उसके चूचुकों को चूसता रहा। फिर मैंने उसे 69 पोज़िशन में ले कर उसकी चुत में अपनी जीभ डाल कर चोदना शुरू कर दिया।

अब वो और जोर-जोर से मेरे लंड को चूस रही थी। मैंने उसकी चुत को इतनी देर तक चूसा कि वो झड़ गई, फिर भी मैं उसकी चुत चूसता रहा।

मुझे वैसे भी चुत चाटने में बहुत मजा आता है। फिर वो मेरे ऊपर आ कर बोलने लगी- भैया अब मुझे चोद दो.
. अब रहा नहीं जाता। मैंने कहा- खुद करो!

तो उसने मेरा लंड अपने हाथों में पकड़ कर अपनी गरम चुत में डाल लिया और मेरे लंड को अपनी चुत से चोदने लगी। मैं बोले जा रहा था- और जोर से चोद और जोर से चोद साली। वो जोर-जोर से चूत उछालने लगी।

फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसकी चुत में पीछे से अपना लंड डाल दिया तो वो और पागल हो गई। मैं सोनी की चुत में लंड पेलता हुआ बोल रहा था- ले रंडी और अन्दर ले। वो बोली- हाँ अन्दर तक डाल साले.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरी चुत को फाड़ दे.. मुझे अपनी रंडी बना ले.. अह.. सौरभ- ले रंडी और अन्दर ले.. सोनी- और जोर से चोद बहनचोद.. और जोर-जोर से चुत चोद.. सौरभ- ले आअज मैं तुझे अपनी रंडी बनाऊंगा.. ले..

सोनी- अह.. बना दे मुझे रंडी.. मैं तो हूँ ही रंडी चोद साले मादरचोद.. सौरभ- क्यों तू रंडी कब बनी कुतिया.. सोनी- मैं तो कॉलेज से ही चुदती चली आ रही हूँ.. सौरभ- किस-किस ने चोदा तुझे? सोनी- मुझे लड़की और लड़कों दोनों ने चोदा है।

सौरभ- तू भाभी को भी चोद चुकी है ना? सोनी- हाँ.. सौरभ- बढ़िया है.. अब मुझसे भी चुद ले.. सोनी- बोल तू भी चोदेगा भाभी को? सौरभ- हाँ दिला उसकी भी..! सोनी- ठीक है उसको बोल दूँगी। सौरभ- भाभी को कब चुदवाएगी? सोनी- अगली बार जब तू आएगा तो चुदवा दूँगी।

सौरभ- तूने कभी गांड भी मरवाई है? सोनी- हाँ.. मैंने गांड मरवाई है। सौरभ- मैं भी तेरी गांड मारूँगा। सोनी- आज नहीं बाद में.. सौरभ- क्यों? सोनी- अभी मेरी चुत प्यासी है.. पहले चुत को चोद। सौरभ- ले रंडी और अन्दर ले मादरचोदी। सोनी- हाँ पेल दे मादरचोद चोद मेरी चुत को.. अह..

गालियाँ सुन कर मुझे और जोश आ गया तो मैंने और सोनी को जोर-जोर चोदना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद हम दोनों झड़ गए।

इस तरह हम रोज़ चुदाई करने लगे।

आप लोगों को कैसी लगी मेरी ब्रदर एंड सिस्टर सेक्स स्टोरी.. इस कहानी पर मुझे मेल लिखिएगा। [email protected]

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!