रैगिंग ने रंडी बना दिया-25

अब तक की इस देसी चुदाई स्टोरी में आपने पढ़ा था कि राधा काका के लंड से चुदने के लिए पूरी नंगी हो गई थी और काका राधा का मदमस्त फिगर देख कर हतप्रभ रह गए थे। अब आगे..

राधा 20 साल की देसी जवान लड़की थी और गाँव की लड़की का बदन वैसे ही कसा हुआ होता है। उसका गेहुँआ रंग.. भूरे बाल और 34 इंच की नुकीली तनी हुई चूचियां एकदम बाहर को निकली हुई थीं। उसकी चूचियों पर भूरे निप्पल जो वासना की वजह से एकदम तने हुए थे। एकदम दूध सा धवल सफेद पेट और नाभि के पास एक अलग ही कटाव था जो उसकी सुन्दरता को और बढ़ा रहा था। राधा की फूली हुई चुत, जिस पर हल्के सुनहरे बाल थे और पतली कमर के नीचे 32 इंच की मदमस्त गोल उठी हुई गांड जिसे देख कर अच्छे-अच्छे उसको चोदने के सपने देखते होंगे।

काका- वाह राधा वाह.. क्या यौवन पाया है.. तूने ऐसे खजाने को कहाँ छुपा के रखा था। अरे तू क्यों इस सफेद साड़ी में अपनी जवानी बर्बाद कर रही है। ऐसे यौवन को तो खुद भगवान ने तराशा है. आओ आज तुम्हें इस यौवन की असली कीमत देता हूँ।

राधा सच में बहुत सुन्दर थी, मोना भी उसके जिस्म को बस देखती रह गई।

काका ने राधा को लेटा दिया और उसकी चुत को चाटने लगा.. राधा सिसकारने लगी- आह ससस्स काका उ आह.. चूसो एयेए माँ मर गई उफ़फ्फ़ ससस्स..

काका चुत चाटने में माहिर खिलाड़ी थे। एक मिनट भी नहीं लगा और राधा का बाँध टूट गया, उसकी चुत का सारा रस काका चाट गए। अंत में थोड़ा सा रस जीभ पर लेकर वो मोना को देखने लगे। मोना भी तुरंत समझ गई और फ़ौरन वो काका के पास आई और उनकी जीभ को चूस कर सारा रस गटक गई।

काका- क्यों मोना रानी.. कुँवारी देसी चुत का रस कैसा लगा.. मज़ा आया या नहीं? मोना- सच में काका.. ये बहुत टेस्टी था अब आप इसको कुँवारी से सुहागन बना दो.. कर दो इसकी चुत का मुहूरत! राधा- हाँ स्वामी, अब आप ही मेरी डूबती नैया को किनारे लगा दो। मोना हंसती हुई बोली- क्या बात है राधा डार्लिंग.. काका से सीधे स्वामी!

राधा- जिससे शादी हुई.. उसकी तो सूरत भी नहीं देखी, अब यही अपने लंड से मुझे सुहागन बनाएंगे, तो आज से यही मेरे स्वामी हुए ना जी। काका- अरे हाँ मेरी राधा रानी, आज तुझे वो मज़ा दूँगा, जो तू इस नामर्द में तलाश कर रही थी। आ जा मेरी जान तुझे अब स्वर्ग की सैर कराने का वक़्त आ गया है।

काका अब राधा की जवानी को कुचलने और मसलने लगा था। वो उसकी खड़ी छातियों को चूस रहा था और साथ-साथ उसके मखमली होंठों का रस भी पी रहा था।

काका का लंड राधा की चुत पर रगड़ खा रहा था, जिससे उसको दोगुना मज़ा आ रहा था और मोना और राजू दोनों चुपचाप बस ये नजारा देख रहे थे।

राधा- आह.

. स्वामी उह काटो मत आह.. नहीं.. उफ़फ्फ़ ऐसा मज़ा आह.. नहीं ओफ जोर से रगड़ो काका आह हाँ ऐसे ही आह..

काका तो चूचे चूसने में मगन थे, वो कहाँ कुछ बोलने वाले थे और मोना भी ये नजारा देख कर गर्म होने लगी थी। मगर राजू चूंकि 2 बार हल्का हो चुका था सो ये नजारा उसको उत्तेजित तो कर रहा था, मगर उसका लंड सोया हुआ था। वो वाकयी में नामर्द ही था, जो ऐसे नजारे को देख कर भी लंड खड़ा नहीं कर पा रहा था।

काका अब राधा को चूसते हुए नीचे उसकी चुत पर पहुँच गए और अपनी जीभ की नोक से उसको कुरेदने लगे।

राधा- आह.. सस्स स्वामी आह.. ऐसे ही ससस्स इतना मज़ा आ रहा है आह.. मुझे चोदोगे तो आह.. पता नहीं आह उ सस्स कितना मज़ा आएगा उफ़फ्फ़ नहीं काका आह.. बस अब और मत आह.. तड़पाओ आह.. घुसा दो अपना मूसल ओफ मेरी चुत में आह..

राधा की चुत अब पानी छोड़ने लगी थी। काका को पता था कि यही वो समय है जब इसकी सील तोड़ी जानी चाहिए। ये कामवासना में जल रही है।

बस फिर क्या था काका उठे और राधा के सीने पर बैठ गए- ले राधा रानी, लंड को चूस कर गीला कर दे ताकि तेरी चुत में आसानी से घुस जाए और तुझे कम तकलीफ़ हो।

राधा तो जैसे पागल हो गई.. उसने झट से लंड को चूसना शुरू कर दिया। वो उसे ऐसे चूस रही थी, जैसे ना जाने आज के बाद कभी लंड मिलेगा ही नहीं। उसने अपनी लार से लंड को तार कर दिया था।

काका- बस राधा बस.. अब समय आ गया है तेरी चुत को खोलने का.. तुझे थोड़ी पीड़ा होगी, सह लेना उसके बाद तो मज़े ही मज़े हैं। राधा- आह.. काका आज तो जान भी चली जाए तो कोई बात नहीं.. बस ये आग बुझा दो.. कर दो मेरी चुत को अपने पानी से ठंडा आह.. अब बर्दाश्त नहीं होता आह.. जल्दी से पूरा घुसा दो काका!

काका ने राधा के पैरों को मोड़ा और उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया, जिससे उसकी चुत ऊपर को हो गई। अब बस काका को लंड डालने की देर थी।

काका- मोना रानी, मैं तैयार हूँ.. तू भी राधा को ज़रा अपनी चुत का रस चखा दे।

मोना समझ गई कि जब काका का ये बम्बू इसकी चुत में जाएगा तो इसकी चीख निकाल देगा और आस-पास के घरों में पता लग जाएगा, इसलिए काका ने उसको इसका मुँह बंद करने का इशारा दिया है।

मोना अब राधा के मुँह पर चुत टिका कर बैठ गई.. जिससे उसके होंठ दब गए। अब उसकी आवाज़ बाहर आना मुश्किल था।

राधा जीभ से मोना की चुत चाटने की कोशिश कर रही थी, मगर मोना ने दबाव ज़्यादा दिया हुआ था, जिससे राधा को परेशानी हो रही थी। मगर उसको नहीं पता था कि आने वाला पल उसके लिए कैसा होगा।

काका ने एक हाथ से लंड को पकड़ा और दूसरे हाथ से चुत की पुत्तियों को को खोल कर अपना सुपारा उसमें फँसा दिया। अब काका अपने हाथ से लंड को दबा कर अन्दर घुसेड़ने लगे।

राधा को बहुत दर्द हुआ.
. मगर उसने दाँत भींच लिए। अब काका ने सुपारा फँसा कर दोनों हाथों से राधा की कमर को कस के पकड़ लिया और एक तेज धक्का दे मारा। राधा की चुत इतनी टाइट थी कि आधा लंड बड़ी मुश्किल से अन्दर गया। काका को लगा कि शायद लंड की चमड़ी छिल गई है मगर काका ने फ़ौरन लंड पीछे किया और एक जोरदार झटका मारा। उनका पूरा लंड एक ही बार में चुत को चीरता हुआ अन्दर चला गया।

राधा इतनी जोर से चीखी.. वो तो मोना ने उसके होंठों को दबा रखा था। फिर भी उसकी चीख बाहर सुनाई दे गई। उसकी आँखों से तार-तार आँसू बहने लगे।

काका को पता था ऐसे टाइम क्या करना है। वो बस लंड को बिना हिलाए.. अन्दर फिट करके राधा के चूचे सहलाने लगे।

मोना को लगा कहीं इसका दम ना निकल जाए.. इसलिए वो खड़ी हो गई और राधा के पास बैठ कर उसके आँसू पोंछने लगी।

राधा- आह क्क्क काका आपका आह.. लंड तो घोड़े जैसा है ओह हय मेरी तो सांस ही अटक गई आह.. काका- पहली बार में दर्द होता है राधा रानी, उसके बाद मज़े आएँगे.. अब तेरा दर्द कुछ कम हुआ हो तो बता, मैं लंड आगे-पीछे करूँ? राजू- अरे पूछते क्या हो काका.. करो ना, तभी तो इसकी तकलीफ़ कम होगी।

काका ने धीरे से लंड को बाहर निकाला और फिर धीरे से ही अन्दर पेल दिया।

राधा की चुत सच में इतनी कसी हुई थी कि काका को भी दर्द हुआ। जब लंड ने हरकत की राधा की तो जान हलक में अटक गई थी।

राधा- आइईइ काका आह.. ना रूको ओफफ्फ़ मेरी जान न निकल जाए आह.. काका- अरे राधा रानी ऐसे तो ये दर्द कभी कम ना होगा, एक बार चुत को थोड़ा ढीला होने दे, बस थोड़ा सा सबर कर ले। राधा- आह.. ठीक है आह.. आप करो आह.. मैं सह लूँगी आह.. आपका बहुत मोटा है आह..

काका ने अपने होंठ राधा के होंठ से मिला दिए और उसको मस्ती से चूसने लगा। इधर कमर को भी स्पीड से आगे-पीछे करने लगा। अब राधा को दर्द और अधिक होने लगा था मगर वो चीख नहीं पाई। बस उसकी आँखों से आँसू आने लगे।

करीब 5 मिनट तक काका ट्रेन की तरह दे खपाखप.. दे खपाखप.. चुदाई करते रहे और राधा के होंठों को चूसते रहे। अब राधा का दर्द कम हो गया था और उसकी चुत में कंपन शुरू हो गया। उसे अब भी हल्का सा दर्द था मगर मज़ा भी बहुत आ रहा था। वो भी अब काका की पीठ पे हाथ घुमा कर इशारा देने लगी थी कि उसको मज़ा आने लगा है।

काका ने उसके होंठ से मुँह हटाया और चूची चूसने लगे।

राधा- आह.
. आइ काका आह.. मेरे स्वामी आह.. चोदो आह.. अब मज़ा आह.. आ रहा है.. ओफ जोर से करो आह.. मैं गई उफ़फ्फ़ सस्स काका आह मेरा पानी आआ एयेए निकल रहा है.. उफ़फ्फ़ जोर से जोर से आह.. करो ईईई.

राधा का बाँध टूट गया था मगर काका का स्टेमिना तो घोड़े जैसा था, वो कहाँ अभी हारने वाले थे। वो तो बस दे दनादन उसको चोदे जा रहे थे। राधा की चुत का पानी निकल जाने के बाद वो निढाल हो गई और उसने शरीर को ढीला छोड़ दिया। ये देख कर काका उसके चूचे चूसने लगे.. उसके निप्पल को हल्का सा दांतों में दबा कर काटने लगे।

दोस्तो, यह नज़ारा देख कर मोना बहुत उत्तेजित हो गई थी, उसकी चुत भी जलने लगी।

मोना- अबे राजू कुत्ते.. ऐसे क्या खड़ा है भोसड़ी के आह.. मेरी चुत को चाट.. देख कैसे रस से भरी हुई है.. आजा मेरे ढीले राजा चूस ले। राजू तो जैसे इसी मौके का इन्तजार कर रहा था। वो झट से मोना के पैरों के पास लेट गया और कुत्ते की तरह चुत को चाटने लगा।

काका की ज़बरदस्त चुसाई और ठुकाई से राधा फिर उत्तेजित हो गई और कमर को हिला कर काका का साथ देने लगी।

राधा- आह.. आ काका चोदो आह.. फाड़ दो मेरी चुत को ओफ बहुत दिनों तक तड़फी हूँ आह.. आज पूरी कसर एयेए आह.. निकाल दो। काका- ले साली आह.. तुझे देख कर उहह उहह कई बार लंड खड़ा होता था उहह उहह मगर साली मौका नहीं मिला आह.. ले आज तेरी चुत को चकनाचूर कर दूँगा ले..

दस मिनट तक ये घमासान चुदाई चलती रही। अब राधा की कुँवारी चुत की गर्मी काका के लंड को पिघलाने लगी थी। वो चरम पे पहुँच गए और साथ में राधा का फव्वारा भी फूट गया। दोनों के पानी का मिलन हो गया.. काका निढाल होकर राधा पर ही लेट गए, उनका लंड अभी भी चुत में था।

इधर राजू ने अपना कमाल दिखाया और मोना की चुत को चाट-चाट कर झड़ने पर मजबूर कर दिया।

अब तूफान थम गया था चारों तरफ़ शान्ति हो गई थी।

प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस देसी चुदाई स्टोरी पर मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें क्योंकि मैं एक सेक्स स्टोरी की लेखिका हूँ, बस इस बात का ख्याल करते हुए ही सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें।

[email protected] देसी चुदाई स्टोरी जारी है।

Comments:

No comments!

Please sign up or log in to post a comment!